विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटे संगठन,नहीं बह रही बूथों पर बदलाव की बयार

विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटे संगठन,नहीं बह रही बूथों पर बदलाव की बयार

Vijay Kumar Joliya | Publish: Sep, 04 2018 06:05:10 AM (IST) Sawai Madhopur, Rajasthan, India

www.patrika.com/rajasthan-news

सवाईमाधोपुर. विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुटे संगठन अब बूथ स्तर को मजबूत करने में जुट गए हैं। संगठन स्तर पर कमजोर बूथों को तय कर उन पर विशेष निगरानी कर बैठकें की जा रही है। कमेटी बनाकर बूथ को मजबूत किया जा रहा है। संगठनों का दावा है कि इस बार बूथों पर बढ़त ली जाएगी। हालांकि विशेषज्ञों के अनुसार सवाईमाधोपुर जिले में इन स्थितियों में कोई खास बदलाव देखने को नहीं मिल रहा है।


घर-घर ले रहे बैठक
संगठनों की ओर से बनाई गई कमेटियां घर-घर जाकर मतदाताओं को अपने पक्ष में मतदान के लिए प्रेरित कर रही है। इस दौरान लोगों के अटके हुए कामों की भी सुनवाई शुरू हो गई है।


नेताओं की सक्रियता कम
भले ही बूथों पर बढ़त का दावा कर रहे हैं, लेकिन क्षेत्र के बड़े नेताओं की बूथ स्तर पर सक्रियता कम ही रही है। यह जिला व उपखण्ड व मण्डल स्तर पर ही बैठकें लेकर काम चला रहे हैं। जबकि कमजोर बूथों पर इसकी भागीदारी कम हो रही है।


यह है बूथवार स्थिति
सवाईमाधोपुर विधानसभा क्षेत्र में वर्ष 2008 में हुए विधानसभा चुनाव में कांगे्रस के प्रत्याशियों ने हर बूथ में बढ़त हासिल की थी। इसमें से बूथ 117 बंधा पर सर्वाधिक बढ़त ली। इसमें कांग्रेस के अलाउद्दीन आजाद को 758 व बीजेपी के जसकौर मीणा को मात्र 24 मत मिले। 2013 में इसी बूथ पर कांग्रेस को मात्र 11 व बीजेपी को 7 मत मिले। इसी प्रकार 2008 में बूथ 142 रावल पर बीजेपी ने बढ़त ली थी।

इसमें बीजेपी ने 456 व कांग्रेस को 184 मत मिले। 2013 में यहां कांग्रेस ने बढ़त ले ली। यहां कांग्रेस 509 व बीजेपी को 169 मत मिले। वर्ष 2013 की बात की जाए तो बीजेपी ने बूथ 193 जटवाड़ा खुर्द पर 1004 मत प्राप्त किए, यहां कांग्रेस को मात्र 37 ही मत मिले। इधर कांग्रेस बूथ 131 कुण्डेरा पर 989 मत प्राप्त कर आगे रही। यहां बीजेपी को 64 ही मत मिले।


ऐसे ही गंगापुरसिटी विधानसभा क्षेत्र में 2008 के चुनाव में बूथ 104 गंगापुरसिटी कोली पाड़ा पर कांग्रेस ने 641 मत प्राप्त किए। बीजेपी ने 77 मत प्राप्त किए थे। 2013 में इस बूथ पर बीजेपी ने कब्जा कर लिया। इसमें बीजेपी ने 348 व कांग्रेस ने 129 ही मत प्राप्त किए।

वहीं बीजेपी ने 2008 में बूथ 156 बंदरपुरा खानपुर बड़ौदा पर सर्वाधिक 654 मत प्राप्त किए। कांग्रेस ने यहां 14 ही मत प्राप्त किए थे। इस बूथ पर 2013 में भी बीजेपी ही आगे रही। हालांकि यहां मत पहले की तुलना में घटे है और कांग्रेस ने बढ़त ली है। इसमें बीजेपी ने 194 व कांग्रेस ने 55 मत लिए। 2013 में कांग्रेस ने बूथ 160 टोकसी पर 767 व बीजेपी ने बूथ 169 छाबा की बगीची पर 958 मत प्राप्त किए।


बामनवास विधानसभा क्षेत्र में 2008 में कांग्रेस ने बूथ 86 हिन्दुपुरा पर सर्वाधिक 678 मत प्राप्त किए। बीजेपी को 58 मत मिले। 2013 में इस बूथ पर कमोबेश यही स्थिति रही। इसमें कांग्रेस को 355 व बीजेपी को 72 मत मिले। इधर बीजेपी ने 2008 में बूथ 38 जस्टाना पर सर्वाधिक 424 मत प्राप्त किए। इसमें कांग्रेस 28 ही मत मिले। 2013 में इस बूथ पर बीजेपी आगे रही। इसमें बीजेपी को 333 व कांग्रेस को 100 ही मत मिल सके। 2013 के चुनाव में बीजेपी ने बूथ 42 सुंदरपुर पर 776 व कांग्रेस ने बूथ 25 मोरन पर 741 मत लिए।

खण्डार विधानसभा क्षेत्र की बात की जाए तो यहां 2008 में बूथ 127 फलौदी पर कांग्रेस ने 758 व बीजेपी को 104 मत मिले। इस बूथ पर 2013 में कांग्रेस को 575 व बीजेपी को 102 मत मिले। बीजेपी ने 2008 में बूथ 12 ईसरदा पर 620 मत प्राप्त किए। कांग्रेस ने 63 मत लिए। वर्ष 2013 में कांग्रेस ने इस बूथ पर कब्जा जमा लिया। इसमें कांग्रेस को 249 व बीजेपी को 245 मत मिले। वर्ष 2013 में कांग्रेस ने बूथ 133 टोडरा पर सर्वाधिक 629 व बीजेपी ने बूथ 130 टोडरा पर 830 मत लिए।

  • बूथ स्तर पर इकाइयों को मजबूत किया जा रहा है। 21 सदस्यों की कमेटी बनाई गई है। बैठक की जा रही है। इस बार के चुनाव में गत चुनावों की अपेक्षा अधिक बढ़त मिलेगी। हमने विपक्ष में रहकर पिछले पांच सालों में जिले में सबसे बड़ा मुद्दा बजरी खनन का उठाया है। इसमें सफलता भी मिली है।

- शिवचरण बैरवा, जिलाध्यक्ष, कांग्रेस, सवाईमाधोपुर

  • बूथ स्तर पर इकाई सदस्यों को घर-घर जाकर बैठकें करने के निर्देश दिए हैं। वह अपने स्तर पर प्रयास कर रहे हैं। आगामी चुनाव में कमजोर बूथों पर अच्छी बढ़त लाने के लिए अधिक से अधिक मतदान कराया जाएगा। इसके लिए 21 सदस्यों की कमेटी भी बनाई गई है। सरकार के कार्यकाल की उपलब्धियां भी लोगों को बता रहे हैं।
    - सुरेश जैन, जिलाध्यक्ष, भाजपा, सवाईमाधोपुर

 

  • बूथ स्तर पर विभिन्न संगठनों के अध्यक्षों को एक-एक मत पर ध्यान देने की जरूरत है। गांव-गांव ढाणी-ढाणी से मतदाताओं को मतदान करने के लिए जागरूक करेंगे तभी जाकर बूथ स्तर पर मतदान में बढ़ोतरी होगी। गत चुनावों पर नजर डाले तो बूथ स्तर पर मतदाताओं की संख्या के अनुसार मतदान नहीं हो पाता है।
    - लोकेश त्रिवेदी, युवा मतदाता, शहर, सवाईमाधोपुर

 

  • चुनावों में मतदान के दौरान महिलाओं का प्रतिशत काफी कम रहता है। ऐसे में विभिन्न संगठनों को चाहिए कि महिला मतदाताओं का मतदान का ग्राफ बढ़ाए। इसके लिए उन्हें जमीन स्तर पर काम करने की जरूरत है। पार्टियों की बात की जाए तो चुनाव के दौरान हर पार्टी अपने वादे तो गिना देती है, लेकिन जीतने के बाद काम करने की गति धीमी हो जाती है।
    - विमला गर्ग, गृहिणी, खंडार विधानसभा

 

  • व्यापारी वर्ग के लिए अब तक कोई खास बदलाव नहीं हो सका है। सवाईमाधोपुर क्षेत्र में उद्योगों के लिए कोई भी पार्टी की सरकार कुछ खास नहीं कर सकी है। हर बार सरकार बदल जाती है, चुनावों के दौरान उद्योगों का म़ुद्दा बखूबी उठाया जाता है, लेकिन नतीजा चुनाव जीतने के बाद सिफर हो जाता है।
    - दीनदयाल अग्रवाल, मण्डी व्यापारी, सवाईमाधोपुर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned