दान मिलने पर खेलते हैं हमारे खिलाड़ी, शिक्षा विभाग की प्रतियोगिता के लिए नहीं मिलता बजट

दान मिलने पर खेलते हैं हमारे खिलाड़ी, शिक्षा विभाग की प्रतियोगिता के लिए नहीं मिलता बजट

Subhash Mishra | Publish: Sep, 16 2018 01:15:30 PM (IST) Sawai Madhopur, Rajasthan, India

दान मिलने पर खेलते हैं हमारे खिलाड़ी, शिक्षा विभाग की प्रतियोगिता के लिए नहीं मिलता बजट

सवाईमाधोपुर. प्रदेश में खेल की नींव दानदाताओं के भरोसे है। प्रारंभिक शिक्षा विभाग की ओर से ब्लॉक व जिला स्तर पर प्रतियोगिताएं करवाई जाती है, लेकिन इसके लिए बजट के नाम पर विभाग को कुछ नहीं मिलता है। इधर, स्कूलों की ओर से किसी तरह की राशि भी नहीं ली जाती है। ऐसे में विभाग को हर साल प्रतियोगिता करवाने के लिए दानदाताओं के आगे हाथ फैलाना पड़ता है। इस कारण इनको दानदाताओं से ही राशि एकत्रित करनी पड़ती है या व्यवस्थाएं करवानी पड़ती है।
ऐसी ही स्थिति इन दिनों पुलिस लाइन मैदान में चल रही राज्य स्तरीय 17 व 19 वर्षीय छात्रा हैण्डबॉल प्रतियोगिता में देखने को मिल रही है। प्रतियोगिता में 19 वर्ष में 28 जिले से 456 एवं 17 वर्ष में 29 जिलों से 455 छात्राएं शामिल है। ऐसे में कुल 911 छात्राएं भाग ले रही है, लेकिन राज्य स्तरीय प्रतियोगिता के आयोजन के लिए सरकार ने केवल 50 हजार का बजट ही स्वीकृत किया है। इसमें 17 वर्ष में 28 एवं 19 वर्ष में 25 हजार का बजट शामिल है।

बजट का संकट
इन दिनों जिला मुख्यालय पर राज्य स्तरीय हैण्डबॉल प्रतियोगिता हो रही है। इसके कुशल आयोजन के लिए बजट का टोटा बना है। एक अनुमान के अनुसार प्रतियोगिता में 50 हजार के बजट में से करीब 40 हजार रुपए तो प्रतियोगिता की ट्राफी में ही खर्च हो जाएंगे। इसके अलावा उद््घाटन, समापन, प्रमाण-पत्र , खिलाडिय़ों के खाने-पीने का बजट शामिल है।
हर बार निजी स्कूल बनते है सहारा
प्रारंभिक शिक्षा में एक रुपया खेल पर नहीं मिलता है। ऐसे में हर वर्ष निजी स्कूलों को आयोजक बनना पड़ता है। निजी स्कूलों के तैयार नहीं होने पर संकट भी खड़ा हो जाता है।

इतने होते है खेल
प्रारंभिक शिक्षा के तहत बास्केटबाल, बैडमिंटन, लॉन टेनिस, हॉकी, साफ्टबाल, फुटबॉल, जिम्नास्टिक, क्रिकेट, एथलेटिक्स कबड्डी, खो-खो, वॉलीबाल, जुडो, कुश्ती, दौड़, लम्बी व ऊंची कूद गोला फेंक, तश्तरी फेंक, आदि खेलों में विद्यार्थी भाग लेते है, लेकिन हर वर्ष बजट के अभाव में पर्याप्त सुविधाएं नहीं मिल पाती है। संसाधनों के अभाव में खिलाड़ी अभ्यास नहीं कर पाते है। मजबूरन स्कूली छात्रों या खिलाडिय़ों को स्वयं के खर्चे पर ही खेलना पड़ता है।

&राज्य स्तरीय खेल प्रतियोगिताओं के लिए सरकार की ओर से कम ही बजट मिलता है। ऐसे में उद्घाटन, समापन, ट्रॉफी, प्रमाण-पत्र आदि में ज्यादा राशि खर्च हो जाती है। इस बार भी भामाशाहों के सहयोग से ही प्रतियोगिता कराई गई है।
अशोक शर्मा, अतिरिक्त जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक, सवाईमाधोपुर

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

Ad Block is Banned