मौसमी बीमारियों की मार झेल रहे मरीजों पर भारी पड़ रही है, चिकित्सा विभाग की अनदेखी...

https://www.patrika.com/rajasthan-news/

By:

Published: 15 Nov 2018, 02:43 PM IST

मलारना डूंगर/सवाईमाधोपुर. एक तरफ जिले भर में डेंगू व मलेरिया सहित विभिन्न मौसमी बीमारियों से लोगों में दहशत का माहौल है। वही दूसरी तरफ चिकित्सा प्रशासन की अनदेखी रोगियों पर भारी पड़ रही है। यहां उपखण्ड मुख्यालय पर स्थित सामुदायिक स्वास्थ केंद्र में चिकित्सक दम्पति कार्यरत है। गुरूवार को विभागीय कार्य से दोनों को एक साथ जयपुर बुलाने से अस्पताल में व्यवस्था गड़बड़ा गई। लेकिन अधिकारियों ने इसके लिए चिकित्सक की वैकल्पिक व्यवस्था तक नही की। ऐसे में सुबह साढ़े 9 बजे तक भी कोई चिकित्सक नहीं होने के कारण रोगी भटकते रहे। अस्पताल में लोगो की भीड़ जमा होने लगी। परिजनों के हंगामा करने पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी के निर्देश पर मकसूदनपुरा पीएचसी में कार्यरत चिकित्सक को 10 बजे अस्पताल भेजा गया। जब कही जाकर रोगियो का उपचार शुरू हुआ।

ग्रामीणों ने बताया कि कहने को तो मलारना डूंगर सीएचसी है। यहां मात्र दो चिकित्सक है। आए दिन दोनों चिकित्सक दम्पति सरकारी कार्य से बाहर रहते हैं। दोनों एक साथ अवकाश पर जाने से रोगियो को परेशानी हो रही हैं। कोई सुनने वाला नही हैं। ग्रामीणों की माने तो अस्पताल में लगे सीसी टीवी कैमरो में अस्पताल की सभी गतिविधिया कैद हैं। कौन कब आता है कब जाता है। सीसीटीवी कैमरो की रिकॉर्डिंग खंगाली जाए तो सच्चाई सामने आ जाएगी। भाजपा ओबीसी प्रकोष्ठ मण्डल अध्यक्ष जितेंद्र सैनी ने बताया कि सुबह वह खुद अस्पताल में बच्चों को दिखाने पहुंचे थे। 10 बजे बाद चिकित्सक अस्पताल में पहुंचा। इससे पहले रोगी भटके रहे।थे, सीएमएचओ ने भी फोन नही उठाया। सैनी ने सीसीटीवी कैमरो की रिकॉर्डिंग को आधार मान कर जांच कराने की मांग की है।

Show More

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned