जर्जर सडक़ पर चलना मुश्किल

वाहन चालक सहित ग्रामीण परेशान

By: Arun verma

Published: 07 Jul 2020, 09:26 PM IST

चौथ का बरवाड़ा. सार्वजनिक निर्माण विभाग की उदासीनता के चलते हस्तगंज गांव मुख्य मार्ग का मरम्मत कार्य 3 वर्ष बाद भी नहीं कराया जा सका है। क्षतिग्रस्त सडक़ से दुर्घटना का अंदेशा बना रहता है।

ग्रामीणों का कहना है कि सडक़ नहीं बनने से लोगों को आवागमन में काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मार्ग की खस्ता हालत को देखते हुए इस पर वाहन तो दूर पैदल चलना भी मुश्किल हो रहा है। यह मार्ग तहसील मुख्यालय सहित बोरदा, पाली, डेकवा, कुस्तला व जीनापुर आदि गांव को जोड़ता है।

सालों बाद भी नहीं ली सडक़ की सुध
सवाईमाधोपुर. चकचैनपुरा स्थित जिला परिवहन कार्यालय तक जाने वाली सडक़ सालों से क्षतिग्रस्त है। ऐसे में वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। बारिश के दिनों में तो सडक़ पर हो रहे गड्ढों में पानी भरने से स्थिति और विकट हो
जाती है। पुराना ट्रक यूनियन के ट्रक चालक आबिद अली ने बताया कि कई बार क्षतिग्रस्त सडक़ के कारण हादसे हो चुक हैं। इसके बाद भी सडक़ का निर्माण नहीं कराया जा रहा है। इससे लोगों में रोष है।

क्षतिग्रस्त सडक़ से परेशानी
इसीप्रकार बजरिया के ठींगला से पॉलिटैक्निक कॉलेज की ओर जाने वाली सडक़ क्षतिग्रस्त होने से वाहन चालकों व राहगीरों को परेशानी हो रही है।

स्थानीय निवासी हेमन्त सिंह राजावत, विनोद यादव आदि ने बताया कि रात के समय सडक़ पर अंधेरा रहने से हादसे की आशंका बनी हुई है। इस संबंध में कई बार अधिकारियों को अवगत कराने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं होने से स्थिति जस की तस है।

इनका कहना है...
- सडक़ मार्ग की क्षतिग्रस्त होने के जानकारी है, लेकिन बजट का अभाव होने के कारण सडक़ का निर्माण कार्य नहीं हो पाया है। बजट आने के साथ ही निर्माण कार्य शुरू करवा दिया जाएगा।
आशीष वर्मा, सहायक अभियंता, सार्वजनिक निर्माण विभाग, चौथ का बरवाड़ा

Arun verma
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned