बजट के बीच जुबां पर रही टीस

गंगापुरसिटी . नगरपरिषद की साधारण सभा की बैठक शनिवार को सभापति संगीता बोहरा की अध्यक्षता में हुई। संभवतया बोर्ड की अंतिम मानी जा रही बैठक में कई पार्षदों की जुबां पर बेहतर काम नहीं होने की टीस रही। बैठक में पहुंचे विधायक रामकेश मीना ने भी सभापति सहित पार्षदों को विकास कराने की नसीहत दी। एजेंडे में शामिल शहर के विकास कार्यों एवं कल्याणजी मेले पर बजट के लिए चर्चा हुई।

By: Rajeev

Published: 15 Feb 2020, 09:00 PM IST

गंगापुरसिटी . नगरपरिषद की साधारण सभा की बैठक शनिवार को सभापति संगीता बोहरा की अध्यक्षता में हुई। संभवतया बोर्ड की अंतिम मानी जा रही बैठक में कई पार्षदों की जुबां पर बेहतर काम नहीं होने की टीस रही। बैठक में पहुंचे विधायक रामकेश मीना ने भी सभापति सहित पार्षदों को विकास कराने की नसीहत दी। एजेंडे में शामिल शहर के विकास कार्यों एवं कल्याणजी मेले पर बजट के लिए चर्चा हुई। शहर में विकास कार्यों के लिए 1 अरब 15 करोड़ 55 लाख 62 हजार रुपए का बजट सदन ने पारित किया। वहीं कल्याणजी मेले को 15 लाख रुपए का बजट मिला।


शहर में विकास कार्यों, अमृत योजना के कार्य, मुख्यमंत्री बजट घोषणा के कार्य, विधायक एवं सांसद कोष के कार्यों के लिए 90 करोड़ 69 लाख रुपए के बजट का प्रावधान रखा गया। बाकी वेतन भत्ते एवं स्टेशनरी सहित अन्य कार्यों पर पैसा खर्च किया जाएगा। बैठक में पार्षद मुमताज अहमद ने एमएसडीपी का मुद्दा उठाया।

मुमताज ने कहा कि अल्पसंख्यक हितों का पैसा उन्हीं के लिए खर्च होना चाहिए। पार्षद गीता देवी नरूका ने मानव सेवा संस्थान की ओर से शुरू की गई पुष्पक विमान सेवा के वाहन के लिए डीजल एवं संविदा पर चालक नगरपरिषद की ओर से मुहैया कराने की बात कही, जिसे सदन ने सहमति दी। नरूका ने सडक़ें खुदी होने, सफाई नहीं होने एवं सफाईकर्मी नहीं पहुंचने की बात कही। अपर्णा शर्मा ने कहा कि पार्षदों की पीड़ा जानने के लिए बैठक नहीं बुलाई जाती। वार्ड में सफाई की बात तो दूर पार्षदों के घर के आगे भी सफाई नहीं हो रही।

सडक़ें खुदी पड़ी हैं। शुद्ध पेयजल नहीं मिल रहा। इस बीच वेदप्रकाश सोनवाल ने जलदाय विभाग के अधिकारियों पर आरोप लगाए। इरशाद ने कहा कि पूरा गंगापुर खुदा पड़ा है, जिसकी कोई सुध नहीं ले रहा। सोनवाल ने कहा कि सभापति के निर्देश पर कार्मिकों ने शहर से पोस्टर-बैनर हटाए। अब उनके खिलाफ पुलिस जांच को रही है। ऐसे में नगरपरिषद ने क्या कर रही है। उन्होंने जयपुर रोड पर एक पार्षद के यहां की गई तोडफ़ोड़ का भी मामला उठाया। ज्योति दीक्षित ने सडक़ रिपेयर नहीं होने की बात उठाई। इस दौरान रेनू आर्य, शैलेन्द्र मीना, लोकेश मीना एवं करण कटारिया आदि मौजूद रहे।


विधायक ने दी नसीहत


बैठक में पहुंचे विधायक रामकेश मीना ने कहा कि शहर में विकास को जितने काम होने चाहिए, वह नहीं हो रहे। यहां 15-20 फीट की गलियों के बीच कॉलोनी बस रही हैं। ऐेसे में सीवरेज एवं पेयजल लाइन कैसे डलेंगी। यह सोचनीय है कि हम शहर को क्या देकर जा रहे हैं।

हम इसके लिए बेहतर व्यवस्था नहीं बना सके। बेतरतीब बस्तियां नासूर बनेंगी, जिन्हें रोकना होगा। मनमाफिक बिना प्लानिंग निर्माण और सडक़ों पर काम होने से सडक़ें सिकुड़ गई हैं। डेढ़ सौ फीट चौड़े रास्ते को भी हम नहीं बचा पा रहे हैं। शहर अतिक्रमण की जद में है। मीना ने सवाल उठाया कि रेबड़ी बांटने की भी हद है। यह शहर के साथ अन्याय है। इस बीच पार्षद गीता देवी ने विधायक को अपने स्तर पर विकास कराने की बात कही। इस पर उन्होंने खुद के फंड से पैसा देने की बात कही।


कुशाल लेक का काम करा दो - सभापति


सभापति संगीता बोहरा ने विधायक मीना से कहा कि कुशाल लेक का काम बंद है, उसे शुरू करा दीजिए। आप अधिकारियों से विनती शब्द बोलकर बात कर रहे हैं। इसमें विवशता झलकती है। इस पर विधायक ने कहा कि यह मेरा स्वभाव है। मैं कठोर नहीं बोल सकता।

‘विनती’ शब्द सुनकर काम करने वाले का काम का मन बन जाता है। इसके बाद विधायक ने कहा कि मेरी दोनों (सभापति-आयुक्त) से विनती है, जनता पर दया करो। सभापति ने कहा कि कुछ लोग आपके नाम पर काम रोकने का जतन करते हैं। इस पर विधायक मीना ने कहा कि जो भी मेरा नाम लेकर काम में अड़ंगा लगाए तो मुझे सीधा फोन करें। इस दौरान पार्षद अर्पणा शर्मा ने विधायक से गंगापुरसिटी को जिला बनवाने की मांग की।


विरोध के बीच सोनवाल मेला अध्यक्ष


कल्याणजी मेले के लिए बजट पर चर्चा के दौरान आयुक्त दीपक चौहान ने मेला अध्यक्ष पार्षदों में से बनाने की बात रखी। इस पर काफी देर तक जद्दोजहद हुई। कई नामों पर चर्चा के बाद मेला अध्यक्ष के रूप में पार्षद वेदप्रकाश सोनवाल को चुना गया। इस बीच महिला पार्षदों ने किसी महिला पार्षद को अध्यक्ष बनाने की बात रखी। सोनवाल के अध्यक्ष चुने जाने पर साथी पार्षदों द्वारा उनका माल्यार्पण कर दिया। इस बीच महिला पार्षदों ने इसको लेकर विरोध दर्ज कराया। महिला पार्षदों ने बैठक से बाहर निकलकर सभापति के चेम्बर में भी अपना विरोध दर्ज कराया।


समर्थकों को भेजा बाहर


बैठक शुरू होने के बाद बीच में विधायक मीना समर्थकों के साथ पहुंचे। इस बीच विधायक समर्थक सदन में लगी कुर्सियों पर आकर बैठ गए। उनके बैठने के बाद सभापति बोहरा ने कहा कि समर्थकों को सदन में बैठने की अनुमति नहीं है। इस पर विधायक मीना ने उन्हें दूसरे कमरे में बैठने को कहा।


दो बिंदुओं का रहा एजेंडा
नगरपरिषद साधारण सभा की बैठक में शनिवार को शहर के विकास कार्यों के लिए बजट तथा कल्याणजी मेेले के लिए बजट को एजेंडे में शामिल किया गया। चर्चा के बाद दोनों के लिए ही बजट पारित किया गया।

Rajeev Reporting
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned