तीन साल से बेकार पड़ा है स्कूल का नया भवन

प्रस्ताव तक स्वीकृत नहीं करा पाई पंचायत, तीन साल पहले सरपंच को दिए थे चारदीवारी के निर्देश

सूरवाल. सूरवाल के पास स्थित छापर में राष्ट्रीय समग्र शिक्षा अभियान की ओर से लाखों की लागत से स्कूल का नया भवन तैयार किया गया था, लेकिन तीन साल बीत जाने के बाद भी यह भवन अनुपयोगी पड़ा है। दूसरी ओर कस्बे में संचालित राबामावि और राउमावि में छात्र-छात्राओं का नामांकन अधिक होने से नए भवन का लाभ नहीं मिल पा रहा है। एक साल पूर्व निरीक्षण के लिए आए बीकानेर उपनिदेशक ने मौके पर मौजूद सरपंच धर्मराज मीना को चारदीवारी और पेयजल की सुविधा के लिए निर्देशित किया था, लेकिन यहां व्यवस्थाएं आज तक नहीं हो पाई।

सूरवाल में इस समय मुख्य सड़क के पास राजकीय बालिका माध्यमिक और राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय संचालित हैं। दोनों ही स्कूलों में बालक-बालिकाओं की संख्या काफी अधिक है। राबामावि के उच्च प्राथमिक और सैकंडरी स्तर के बालक-बालिकाओं को तो पास ही स्थित पुराने भवन में बैठकर अध्ययन करना पड़ रहा है, जबकि इस भवन की स्थिति उपयुक्त नहीं है। क्षेत्र के बालकों को पढ़ाई की सुविधा मिलें, इसके लिए राष्ट्रीय समग्र शिक्षा अभियान की ओर से करीबन साठ लाख की लागत से छापर में स्कूल का नया भवन तैयार किया गया था। लंबे समय से इस भवन का उपयोग नहीं होने पर एक साल पूर्व यहां बीकानेर उपनिदेशक और शिक्षा विभाग के अधिकारी अवलोकन के लिए पहुंचे तथा उनके साथ मौजूद सरपंच धर्मराज मीना को यहां चारदीवारी और पेयजल की सुविधा उपलब्ध करवाने के लिए निर्देशित किया था। ग्रामीणों की मांग पर उस समय सरपंच धर्मराज मीना द्वारा भी लोगों को नए भवन में शीघ्र ही सुविधाएं उपलब्ध करवाने का आश्वासन दिया गया था, लेकिन तीन साल बीत जाने के बाद भी आज तक यहां कोई व्यवस्था नहीं हो पाई है। जिसका खामियाजा क्षेत्र के बालक-बालिकाओं को भुगतना पड़ रहा है। राबामावि भवन की तो यह स्थिति है कि इस भवन को जर्जर घोषित किए जाने के बाद भी प्राइमरी कक्षा को यहां ऑफिस एवं बरामदे में बिठाकर पढ़ाना पड़ रहा है। उधर, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय के संस्था प्रधान राकेश कुमार मीना ने बताया कि छापर स्थित स्कूल के नए भवन में चारदीवारी एवं पेयजल की सुविधाएं नहीं है। ऐसे में जब तक यहां सुविधाएं उपलब्ध नहीं हो जाती, बालक-बालिकाओं को वहां शिक्षण कार्य के लिए लेकर जाना मुश्किल है। ग्राम विकास अधिकारी गिर्राज सिंहल ने बताया कि पंचायत द्वारा यहां विकास कार्य के लिए कोई प्रस्ताव स्वीकृत नहीं कराया गया है।

Abhishek ojha Desk
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned