फिर आबादी क्षेत्र के नजदीक आया टी-104

फिर आबादी क्षेत्र के नजदीक आया टी-104
T-104

Rakesh Verma | Updated: 21 Aug 2019, 01:24:59 PM (IST) Sawai Madhopur, Sawai Madhopur, Rajasthan, India

फिर आबादी क्षेत्र के नजदीक आया टी-104

सवाईमाधोपुर. बाघ टी-104 को रणथम्भौर का जंगल रास नहीं आ रहा है। बाघ मंगलवार रात को एक बार फिर जंगल की सीमा व आबादी क्षेत्र के नजदीक आ गया। सूचना पर वन विभाग की टीम मौके पर पहुंची। वन विभाग की टीम देर रात तक बाघ की ट्रेकिंग में जुटी रही। वन अधिकारियों ने बताया कि बाघ का मूवमेंट आबादी क्षेत्र के नजदीक रवांजना डूंगर क्षेत्र में बना हुआ है। ऐसे में बाघ की लगातार टे्रकिंग कराई जा रही है।


डांग से नीचे आया
वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार बाघ शाम को बलास की डांग क्षेत्र से नीचे उतरकर रवांजना डूंगर क्षेत्र में जंगल की सीमा पर पहुंच गया। हालांकि बाघ का मूवमेंट अभी जंगल में ही है, लेकिन कुछ ही दूरी पर आबादी क्षेत्र होने से वनकर्मियों को टे्रकिंग के लिए तैनात किया गया है।


नहीं बना पा रहा टेरेटरी
वन विभाग की टीम ने गत दिनों करौली के कैलादेवी अभयारण्य से बाघ को टे्रंकुलाइज कर रणथम्भौर की फलौदी रेंज के बलास डांग वन क्षेत्र में छोड़ा था। विभाग की ओर से जिस क्षेत्र में टी-104 को छोड़ा गया वहां पहले से ही बाघ टी-58 व बाघिन टी-61 का विचरण है। इससे बाघ टी-104 टेरेटरी नहीं बना पा रहा है और टेरेटरी की तलाश में बार-बार जंगल से बाहर आ रहा है।


यह सही है कि बाघ टी-104 बलास डांग से नीचे आ गया है। बाघ जंगल में है, लेकिन पास में आबादी क्षेत्र है। ऐसे में बाघ की टे्रकिंग कराई जा रही है।
मुकेश सैनी, उपवन संरक्षक, रणथम्भौर बाघ परियोजना, सवाईमाधोपुर।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned