तीर्थंकर बालक के जन्म पर गूंजे बधाई गान

तीर्थंकर बालक के जन्म पर गूंजे बधाई गान
जन्म कल्याण महोत्सव मनाते जैन समाज के लोग।

Rakesh Verma | Publish: Jun, 14 2019 03:05:34 PM (IST) Sawai Madhopur, Sawai Madhopur, Rajasthan, India

तीर्थंकर बालक के जन्म पर गूंजे बधाई गान

बौंली. शनिग्रह अरिष्ट निवारक मुनि सुव्रतनाथ दिगंबर जैन मंदिर रवासा में चल रहे तीन दिवसीय श्री मज्जिनेन्द्र आदिनाथ जिनबिम्ब प्रतिष्ठा महोत्सव के दूसरे दिन भगवान का जिन अभिषेक शांतिधारा के साथ पंचकल्याणक कार्यक्रम शुरू हुए। तीर्थंकर बालक का जन्म अवतरण हुआ व जन्म कल्याण महोत्सव मनाया। पंडित मनोज जैन शास्त्री व पंडित मनीष शास्त्री के निर्देशन में तीर्थंकर बालक का जन्म अवतरण, सौधर्म इंद्राणी द्वारा प्रथम दर्शन, तीर्थंकर माता को चिरनिंद्रा में सुलाकर बालक को प्रसूति गृह से बाहर लाना, सौधर्मइंद्र द्वारा 1008 नेत्रों से तीर्थकर बालक के दर्शन आदि दृश्यो का जीवंत मंचन किया गया। इसके बाद भगवान की शोभायात्रा निकाली।

शोभायात्रा में हाथी, घोड़े, ऊंट, इन्द्र-इद्राणियों, बैंड-बाजें, गजरथ के साथ श्रद्धालुओं ने भजनों पर नृत्य करते हुए चल रहे थे। पंचकल्याणक परिसर में पांडुकशीला पर भगवान का 1008 कलशों से जल अभिषेक हुआ। प्रथम कलश सौंधर्म इंद्र संजीव सौगानी को प्राप्त हुआ। मनोज सोगानी ने बताया कि बाहर से आए विशेष अतिथियों का सम्मान किया गया। कार्यक्रम का मंच संचालन चेतन निमोडिया ने किया। दोपहर को तपकल्याण महोत्सव मनाया गया। कार्यक्रम में जयपुर, कोटा, टोंक, देवली, टोडारायसिंह, निवाई, लाखनपुर, मित्रपूरा, लालसोट, जामडोली आदि जगह के श्रद्धालुओं ने पंचकल्याणक महोत्सव में भाग लिया। कार्यक्रम के अंतिम दिन सुबह ज्ञान कल्याण महोत्सव एवं मोक्षकल्याण महोत्सव मनाया जाएगा व नवीन मंदिर में नवीन प्रतिमाएं विराजमान की जाएगी।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned