एक साल से ट्रांसफार्मर ठीक हुआ न 11 केवी विद्युत लाइन ही बिछा पाए,मुख्य सचिव के आदेश बेअसर

एक साल से ट्रांसफार्मर ठीक हुआ न 11 केवी विद्युत लाइन ही बिछा पाए,मुख्य सचिव के आदेश बेअसर

By: Abhishek ojha

Published: 24 May 2018, 12:22 PM IST

मलारना डूंगर. उपखण्ड के तारनपुर गांव में पानी की समस्या को देखते हुए एक वर्ष पूर्व जलदाय विभाग ने नलकूप खुदवा कर सिंगल फेज बिजली कनेक्शन करवा कर पानी की मोटर चालू की थी, लेकिन कुछ दिन बाद ही यहां ट्रांसफार्मर खराब हो गया। इसके बाद 11 केवी बिजली की लाइन भी बंद हो गई। अब बीते एक वर्ष से ग्रामीण उक्त खराब ट्रांसफार्मर को ठीक करवाने के साथ ही 11 केवी बिजली लाइन चालू करवाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हो रही। स्थानीय निवासी मराप्रसाद मीना ने बताया कि ग्रामीणों ने स्थानीय बिजली निगम के अधिकारियों से कई बार गुहार लगाई, लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई।

इसके बाद राजस्थान सरकार के मुख्य सचिव को भी पत्र लिखा। मुख्य सचिव के निर्देश के बाद भी निगम अधिकारियों ने तारनपुर गांव के खराब ट्रांसफार्मर को ना तो ठीक किया ना ही 11 केवी बिजली लाइन चालू करवाई। ऐसे में आज भी ग्रामीण पेजयल समस्या से जूझ रहे हैं। ग्रामीणों ने बताया कि मुख्य सचिव ने उक्त समस्या को लेकर 13 मार्च व 10 मई को उर्जा विभाग के प्रबंध निदेशक को पत्र लिखे, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। इस सम्बंध में विद्युत वितरण निगम के भाड़ौती कनिष्ठ अभियंता कपिल शर्मा का कहना है कि तारनपुर गांव में सिंगल फेज ट्रांसफार्मर के लिए पांच खम्भों की 11 केवी लाइन डालना है। पहले स्थानीय लोगों में आपस में विवाद के चलते यह लाइन नहीं डल पाई थी। शीघ्र ही लाइन डाल कर सिंगल फेज ट्रांसफार्मर से सप्लाई शुरू करवा दी जाएगी।


प्लेटफार्म पर छाया का अभाव
चौथ का बरवाड़ा. कस्बे के रेलवे स्टेशन पर यात्री सुविधाओं की कमी से परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। तेज गर्मी में यात्रियों के लिए छाया का पर्याप्त इंतजाम नहीं है। साथ ही अन्य जरूरी सुविधाओं की भी कमी रहने से लोगों को काफी असुविधा हो रही है। इस बारे में रेलवे के अधिकारियों को कई बार अवगत भी कराया जा चुका है, लेकिन समस्या का समाधान नहीं होने से परेशानी हो रही है। यहां यात्रियों के लिए ठण्डे पेयजल की व्यवस्था नहीं है। प्लेटफार्म नंबर दो पर तो कोई प्याऊ ही नहीं है। इसी तरह स्टेशन पर छाया के लिए छोटा सा टीनशेड होने से अधिकतर यात्रियों को धूप में ही खड़ा होकर टे्रनों का इंतजार करना पड़ता है।

Abhishek ojha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned