scriptUproar over fertilizer distribution, break the window panes of coopera | खाद वितरण को लेकर हंगामा, सहकारी समिति की खिड़की के शीशे तोडें | Patrika News

खाद वितरण को लेकर हंगामा, सहकारी समिति की खिड़की के शीशे तोडें

खाद वितरण को लेकर हंगामा, सहकारी समिति की खिड़की के शीशे तोडें खण्डार. उपखण्ड मुख्यालय पर खाद नहीं मिलने तथा रात के अंधेरे में खाद की कालाबाजारी करने से गुस्साएं किसानों ने शुक्रवार को क्रय-विक्रय सहकारी समिति पर जमकर हंगामा किया। गुस्साए किसानों ने खिड़की का शीशा तोड़ दिया। इससे कर्मचारियों को चोट आई है। बाद में कर्मचारियों ने पुलिस की मौजूदगी में आईटीआई कॉलेज में जाकर खाद वितरण किया। उधर, पर्याप्त खाद आपूर्ति को लेकर कई बार एसडीएम व तहसीलदार को ज्ञापन देने के बादभी स्थिति में सुध नहीं हो रहा

सवाई माधोपुर

Published: December 18, 2021 10:41:11 am

खाद वितरण को लेकर हंगामा, सहकारी समिति की खिड़की के शीशे तोडें
खण्डार. उपखण्ड मुख्यालय पर खाद नहीं मिलने तथा रात के अंधेरे में खाद की कालाबाजारी करने से गुस्साएं किसानों ने शुक्रवार को क्रय-विक्रय सहकारी समिति पर जमकर हंगामा किया। गुस्साए किसानों ने खिड़की का शीशा तोड़ दिया। इससे कर्मचारियों को चोट आई है। बाद में कर्मचारियों ने पुलिस की मौजूदगी में आईटीआई कॉलेज में जाकर खाद वितरण किया। उधर, पर्याप्त खाद आपूर्ति को लेकर कई बार एसडीएम व तहसीलदार को ज्ञापन देने के बादभी स्थिति में सुध नहीं हो रहा है।
यह था मामला
समिति कर्मचारियों ने सुबह क्रय-विक्रय सहकारी समिति पर कतार लगाकर खाद वितरण करना शुरू किया था। लेकिन उन्हें दे-दो कट्टे खाद देने से वे आक्रोशित हो गए। किसानों का आरोप लगाया कि उन्हें पर्याप्त मात्रा में खाद नहीं मिल रही है। ग्रामीण राजाराम, बतीलाल, प्रकाश, राजेश आदि ने बताया कि इफ को संचालक के द्वारा मात्र दो ही कट्टे यूरिया के बांटे जा रहे हैं। इससे खाद की पूर्ति नहीं हो रही है।
कर रहे कालाबाजारी
ग्रामीणों ने बताया कि रात के अंधेरे मे और अल सुबह खाद प्रति कट्टे 400 से 500 में बेच रहे है। जबकि सरकार की ओर 270 रूपए दर निर्धारित कर रखी है। किसानों ने बताया कि खण्डार इलाके के दुकानदार रात के समय मध्यप्रदेश में खाद की कालाबाजारी कर रहे है। उन्होंने जिला कलक्टर से रात में खण्डार इलाके का निरीक्षण कर कालाबाजारी पर अंकुश लगाने की मांग की है।
इनका कहना है...
किसानों को नियमानुसार ही खाद वितरण किया जा रहा था। उन्होंने जबरन ही खाद वितरण के दौरान हंगामा किया। हंगामे के दौरान समिति की खिड़की के शीशे टूट गए। कालाबाजरी का आरोप निराधार है।
साबूलाल मीणा, सहायक कृषि अधिकारी, खण्डार
केप्सन- खण्डार सहकारी समिति के टूटे शीषे दिखाता हुए समिति कार्मिक ।
केप्सन खण्डार आईटीआई छात्रावास परिसर में लगी किसानों की कतार।
खाद वितरण को लेकर हंगामा, सहकारी समिति की खिड़की के शीशे तोडें
खाद वितरण को लेकर हंगामा, सहकारी समिति की खिड़की के शीशे तोडें

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Health Tips: रोजाना बादाम खाने के कई फायदे , जानिए इसे खाने का सही तरीकातत्काल पैसों की जरुरत है? तो जानिए वो 25 बैंक जो दे रहे हैं सबसे सस्ता Personal LoanPriyanka Chopra Surrogacy baby: तस्लीमा ने वेश्यावृत्ति, बुरका से की सरोगेसी की तुलनाराजस्थान में आज भी बरसात के आसार, शीतलहर के साथ फिर लौटेगी कड़ाके की ठंडJhalawar News : ऐसा क्या हुआ कि गुस्से में प्रधानाचार्य ने चबाया व्याख्याता का पंजामां लक्ष्मी का रूप मानी जाती हैं इन नाम वाली लड़कियां, चमका देती हैं ससुराल वालों की किस्मतAaj Ka Rashifal - 23 January 2022: सिंह राशि वालों के मन में प्रसन्नता रहेगीMaruti की इस सस्ती 7-सीटर कार के दीवाने हुएं लोग, कंपनी ने बेच दी 1 लाख से ज्यादा यूनिट्स, कीमत 4.53 लाख रुपये

बड़ी खबरें

राष्ट्रीय वीरता पुरस्कार के विजेताओं से पीएम मोदी ने किया संवाद, 'वोकल फॉर लोकल' के लिए मांगी बच्चों की मददब्रेंडन टेलर का खुलासा, इंडियन बिजनेसमैन ने किया ब्लैकमेल; लेनी पड़ी ड्रग्ससंसद में फिर फूटा कोरोना बम, बजट सत्र से पहले सभापति नायडू समेत अब तक 875 कर्मचारी संक्रमितकर्नाटक में कोविड के 50 हजार नए मामले आने के बाद भी सरकार ने हटाया वीकेंड कर्फ्यू, जानिए क्या बोले सीएमRepublic Day 2022 parade guidelines: बिना टीकाकरण और 15 साल से छोटे बच्चों को परेड में नहीं मिलेगी इजाजतMPPSC Recruitment : चिकित्सा के क्षेत्र में कई पदों पर निकलीं भर्तियां, ऐसे करें आवेदनभारत दुनिया को खिला रहा ककड़ी-खीरा, बना सबसे बड़ा निर्यातक, किया इतने करोड़ का निर्याततीसरी लहर का सबसे डरावना ट्रेंड, बर्बाद कर रही फेफड़े, 40 फीसदी तक संक्रमण
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.