निजीकरण के खिलाफ चेतावनी सप्ताह शुरू

निजीकरण के खिलाफ चेतावनी सप्ताह शुरू
निजीकरण के खिलाफ चेतावनी सप्ताह शुरू

Rajeev Pachauri | Updated: 14 Sep 2019, 09:17:02 PM (IST) Sawai Madhopur, Rajasthan, India

गंगापुरसिटी . केन्द्र सरकार की ओर से भारतीय रेल का निगमीकरण और निजीकरण करने के विरोध में वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्पलाइज यूनियन की ओर से ऑल इंडिया रेलवे मेंस फैडरेशन के आह्वान पर 14 से 19 सितंबर तक मनाए जा रहे चेतावनी सप्ताह के तहत शनिवार को यूनियन कार्यालय में रेल कर्मचारियों की बैठक हुई।

गंगापुरसिटी . केन्द्र सरकार की ओर से भारतीय रेल का निगमीकरण और निजीकरण करने के विरोध में वेस्ट सेंट्रल रेलवे एम्पलाइज यूनियन की ओर से ऑल इंडिया रेलवे मेंस फैडरेशन के आह्वान पर 14 से 19 सितंबर तक मनाए जा रहे चेतावनी सप्ताह के तहत शनिवार को यूनियन कार्यालय में रेल कर्मचारियों की बैठक हुई।


यूनियन के मंडल उपाध्यक्ष नरेंद्र जैन ने कहा कि केन्द्र सरकार ने फैडरेशन को बातचीत के दौरान कहा था कि 100 दिवसीय कार्य योजना के तहत रेलवे का प्राइवेटाइजेशन एवं निगमीकरण नहीं किया जाएगा।

अभी सर्वे किया जा रहा है। इसके बाद भी रेल मंत्रालय एवं केन्द्र सरकार ने इस संबंध में कोई आदेश जारी नहीं किया है। इससे कर्मचारियों में आक्रोश है। अध्यक्ष श्रीप्रकाश शर्मा ने कहा कि सप्ताह के दौरान गंगापुर में 15 सितंबर को जनशताब्दी एक्सप्रेस पर प्रदर्शन कर स्टेशन अधीक्षक कार्यालय के समक्ष बैठक, 16 को रेलवे पावर हाउस में एवं 17 को इंजीनियरिंग विभाग में बैठक होगी। वहीं 18 सितंबर को अवध एक्सप्रेस पर विरोध प्रदर्शन के साथ लॉबी पर आम सभा होगी। साथ ही 19 सितम्बर को कोटा में मंडल कार्यालय के समक्ष विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।

इस मौके पर राजेश चाहर, आर.पी. मंगल, शरीफ मोहम्मद, अशोक कुमार गुप्ता, अजय गुर्जर, भरोसी लाल सैनी, राकेश सोनवाल, नदीम मोहम्मद, आदिल खान, जुनैद रहमतुल्ल,ा महेश चंद मीणा, रघुराज सिंह, ऋषि पाल सिंह, देवी सिंह मीणा, रोडली फ्रेंकलीन आदि मौजूद रहे।

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned