ऐसा क्या हुआ कि दर-दर भटकने का मजबूर हो गए यहां के किसान

नहीं मिल रहा अनुदानित दर पर गेहूं का बीज

चौथ का बरवाड़ा. कस्बे में स्थित क्रय विक्रय सहकारी समिति से किसानों को मिलने वाला अनुदानित दर पर गेहंू का बीज नहीं मिलने से किसान परेशान हो रहे है। इन दिनों गेहूं की बुवाई का कार्य अंतिम चरण पर चल रहा है, लेकिन समिति में बीज नहीं आने से किसान भटक रहे हैं। वही बाजारों से किसानों को अधिक मूल्य देकर गेहूं का बीज खरीदना पड़ रहा है। इस दौरान किसानों ने बताया कि पूर्व में समिति में अनुदानित दर पर किसानों को मिलने वाले गेहूं के बीज आए थे, लेकिन बीज निगम द्वारा कम मात्रा में बीज भेजने से तहसील क्षेत्र के आधे से भी कम किसानों को बीज मिलकर रह गया।

पैसे जमा नहीं होने के कारण नहीं आया बीज
इधर कृषि पर्यवेक्षक राजूलाल शर्मा ने बताया कि क्रय विक्रय सहकारी समिति द्वारा गेहंू के बीज के पैसे जमा नहीं करवाने के कारण बीज निगम द्वारा गेहंू का बीज नहीं भेजा गया है। उन्होंने बताया कि निगम का साढ़े चार लाख रुपए बकाया चल रहा है। ऐसे मेें समिति समय पर पैसा जमा करवाती तो निगम द्वारा गेहंू का बीज भेजा जाता, लेकिन अब बीज आएगा या नहीं, इसकी कोई जानकारी नहीं है।

यंू मिलता है अनुदानित दर पर बीज
कृषि पर्यवेक्षक द्वारा किसानों को अनुदानित दर बीज दिलवाने के लिए किसानों के फार्म भरे जाते है। इसके बाद क्रय विक्रय सहकारी समिति पहुंच कर कृषि पर्यवेक्षक द्वारा भरे गए फार्म को दिखाकर बीज के मूल्य का आधा पैसे जमा करवाया जाता है तथा आधा पैसा सरकार वहन करती है। इसके बाद समिति किसानों को फसल बुवाई के लिए बीज उपलब्ध करवाती है।

जमा करा रखे हैं पैसे
इधर क्रय विक्रय सहकारी समिति मुख्य व्यवस्थापक नरेश साहु ने बताया कि समिति द्वारा बीज निगम को गेहंू का बीज भेजने के लिए पैसे जमा करवा रखे हैं, लेकिन बीज निगम द्वारा अभी तक गेहंू का बीज नहीं भेजा गया है। वहीं पूर्व में निगम द्वारा भेजा गया बीज किसानों को दे दिया गया था।

Abhishek ojha
और पढ़े

राजस्थान पत्रिका लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned