चोरी हुए डेटा को वापस पाने के लिए देश की 67 प्रतिशत कंपनियों ने दिए पैसे

- साइबर हमले करके चुराए गए डेटा को वापस पाने के लिए कंपनियों ने दिए पैसे ।

नई दिल्ली। भारतीय कंपनियों पर साइबर हमले लगातार बढ़ रहे हैं। आलम यह है कि कंपनियों को अपना डेटा वापस पाने के लिए पिछले साल के मुकाबले इस साल अब तक तीन गुना ज्यादा रकम चुकानी पड़ी है। साइबर सिक्योरिटी फर्म सोपोस की के मुताबिक, करीब 67 फीसदी कंपनियों को अपना डेटा वापस पाने के लिए 2021 में अब तक 24.7 करोड़ रुपए की फिरौती देनी पड़ी है। पिछले साल 66 प्रतिशत कंपनियों ने 8.03 करोड़ चुकाए थे। सिर्फ 4 फीसद कंपनियां ही अपना पूरा डाटा वापस पाने में सफल हुई हैं। 86 फीसद भारतीय कंपनियों ने स्वीकारा है कि साइबर हमलावर नए-नए तरीके ईजाद कर रहे हैं ऐसे में उनकी आइटी सेल के लिए हमले को रोकना कठिन हो गया है।

75 प्रतिशत डेटा ही-
फिरौती देने के बाद भी कंपनियों को सिर्फ 75 प्रतिशत डेटा ही वापस मिला। वैश्विक स्तर पर यह औसत 65 प्रतिशत है। सिर्फ चार फीसदी भारतीय कंपनियां ही अपना पूरा डेटा वापस पाने में कामयाब रहीं। यह सर्वे यूरोप, अमरीका, एशिया-प्रशांत, मध्य एशिया, अफ्रीका सहित 30 देशों के 5,400 से अधिक लोगों से बातचीत पर आधारित है।

विकास गुप्ता
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned