ISS : अंतरिक्ष स्टेशन पर मंडरा रहा नया खतरा

-दक्षिण अमरीका और दक्षिण अटलांटिक के बीच कमजोर चुंबकीय क्षेत्र (earth magnatic field) के कारण कंप्यूटर प्रणाली कै्रश होने की आशंका

By: pushpesh

Published: 17 Feb 2021, 12:00 AM IST

अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन एक अजीब मुश्किल से गुजर रहा है। दरअसल पृथ्वी पर बरमूडा ट्रांयगल की तरह ही अंतरक्षि में भी एक क्षेत्र विशेष की तरफ जाते ही आइएसएस की कंप्यूटर प्रणाली पर क्रैश होने का खतरा बढ़ जाता है। वैज्ञानिक इस परेशानी को हल करने का प्रयास कर रहे हैं। वैज्ञानिकों का कहना है कि दक्षिण अमरीका और दक्षिण अटलांटिक महासागर के बीच पृथ्वी का चुंबकीय क्षेत्र कमजोर हो जाता है। पृथ्वी पर इसका असर भले ही नजर नहीं दिखे, लेकिन अंतरिक्ष स्टेशन का इस क्षेत्र के ऊपर आते ही पृथ्वी से संपर्क टूट जाता है। इस क्षेत्र को दक्षिण अटलांटिक अनोमली (एसएए) कहते हैं।

नासा ढूंढ रहा है चांद पर यात्रियों को उतारने की जगह

क्या होगा नुकसान
चुंबकीय क्षेत्र धरती का सुरक्षा होता है। यह सौर विकिरण को रोकता है। इसलिए जहां यह क्षेत्र कमजोर होता है, उस क्षेत्र में रेडिएशन के कारण उपकरणों को नुकसान हो सकता है।

क्या समाधान है
स्टेशन की गैलरी और स्लीपिंग कैबिन की शील्डिंग बढ़ाई गई है। उन्हें डोसीमीटर लगाए जाते हैं, यह ऐसी डिवाइस होता है, जो रेडिएशन को नापता है और खतरनाक स्तर पर पहुंचते ही चेतावनी देता है।

धरती से दूर क्षुद्रग्रह सेरेस पर घूमती हुई बेल्ट कॉलोनी में रहेंगे इंसान !

बढ़ रहा है यह क्षेत्र
वैज्ञानिकों की चिंता इस बात की है यह क्षेत्र पश्चिम की ओर बढ़ता जा रहा है। माना जा रहा है कि अगले पांच वर्ष में यह क्षेत्र 10 फीसदी तक बढ़ सकता है।

Show More
pushpesh
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned