एक सॉफ्टवेयर जो इंटरनेट पर ISIS का कर देगा खात्मा! बनाने में लगे करोड़ों

Priya Singh

Publish: Feb, 15 2018 10:44:25 AM (IST)

Science & Tech
एक सॉफ्टवेयर जो इंटरनेट पर ISIS का कर देगा खात्मा! बनाने में लगे करोड़ों

ये ऐसे वीडियो को बैन कर देगा और उनको भी जो इस तरह के मुद्दों पर बात करेगा।

नई दिल्ली। ब्रिटेन की सरकार ने एक ऐसा सॉफ्टवेयर बनाया है जो जिहादी प्रौपेगेंडा की पहचान कर उसे ब्लॉक कर देगा। जैसा की सब जानते हैं सोशल मीडिया पर इस्लामिक स्टेट के पोस्ट किए गए हज़ारों घंटों के वीडियो को इस सॉफ्टवेयर में फीड किया गया है ताकि यह ऐसे कंटेंट को पहचान सके। सॉफ्टवेयर के निर्माण के लिए सरकार ने लंदन की आर्टिफिसियल इंटेलिजेंस कंपनी एएसआई ने डाटा साइंस को करीब 5.3 करोड़ रुपए दिए हैं।

ISIS,target,Block,UK government,Islamic State of Iraq and Syria,ISIS videos,isis propaganda video,isis propaganda,Artificial Intelligence Software,

एएसआई डाटा साइंस का कहना है कि इनका सॉफ्टवेयर इस्लामिक स्टेट की 94 फीसदी ऑनलाइन गतिविधियों का पता लगा सकता है। वो यह काम 99.995 फीसदी दक्षता से करने में सक्षम है। जिस कंटेंट पर सॉफ्टवेयर को संदेह या उसे पहचानने में दिक्कत होगी, उसे इंसानी फैसले के लिए छोड़ दिया जाएगा। इस तरह के टूल की पहले काफी आलोचना हो चुकी है। आलोचकों का कहना है कि यह 'ओपन' इंटरनेट के खिलाफ है। उनका ये भी कहना है कि ये वैसे भी वीडियो को बैन कर देगा और उनको भी जो इस तरह के मुद्दों पर बात करेगा।

ISIS,target,Block,UK government,Islamic State of Iraq and Syria,ISIS videos,isis propaganda video,isis propaganda,Artificial Intelligence Software,

सॉफ्टवेयर का एल्गोरिदम इस्लामिक स्टेट की गतिविधियों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। सिलिकन वैली में बीबीसी से बात करते हुए गृह मंत्री अंबर रड ने कहा कि सॉफ्टवेयर का निर्माण चरमपंथी गतिविधियों पर सरकार के रोक लगाने के फैसले की ओर एक कदम है।

ISIS,target,Block,UK government,Islamic State of Iraq and Syria,ISIS videos,isis propaganda video,isis propaganda,Artificial Intelligence Software,

यह सॉफ्टवेयर ऐसी ही छोटी कंपनियों को ध्यान में रखकर बनाया गया है। ऐसा माना जा रहा है एक दिन इन्हें इसके इस्तेमाल के लिए वाध्य किया जा सकता है। एक चैनल की रिपोर्ट के अनुसार गृह सचिव ने बताया है कि, 'हम इस बात से इंकार नहीं कर रहे हैं कि जरूरत पड़ी तो हम इसके इस्तेमाल के लिए कानूनी कार्रवाई करेंगे।' चरमपंथी गतिविधियों पर रोक लगाने के लिए अमरीका, ब्रिटेन सहित कई देशों की सरकार, फेसबुक, गूगल और ट्विटर जैसी कंपनियां बीते दिन साथ-साथ आई थीं और इसे द ग्लोबल इंटरनेट फोरम का नाम दिया गया था। हालांकि चुनौती यह पता लगाना है कि जिदाही इंटरनेट के अब किस प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल करेंगे।

डाउनलोड करें पत्रिका मोबाइल Android App: https://goo.gl/jVBuzO | iOS App : https://goo.gl/Fh6jyB

Ad Block is Banned