Gaganyaan को लेकर तैयारियां तेज, अंतरिक्ष यात्रियों के लिए तापमान कंट्रोल करने वाला बनाया जा रहा खास स्पेस सूट

  • Gaganyaan Mission : अंतरिक्ष यात्रियों के स्पेस सूट बनाने की जिम्मेदारी रूसी एजेंसी ग्लावकोसमोस को दी गई है
  • स्पेस सूट को आधुनिक टेक्नोलॉजी से तैयार किया जा रहा है, इसमें तमाम सुविधाएं मौजूद होंगी

By: Soma Roy

Published: 10 Sep 2020, 10:51 AM IST

नई दिल्ली। भारतीय वैज्ञानिको के महत्वाकांक्षी अंतरिक्ष प्रोजेक्ट गगनयान (Gaganyaan) को सफल बनाने की तैयारी दोबारा शुरू हो गई है। अंतरिक्ष यात्रियों के लिए खास तरह के स्पेस सूट बनाने की जिम्मेदारी हाल ही में रशिया को सौंपी गई है। वहां चार अंतरक्षि यात्रियों (Astronauts) के लिए ऐसा स्पेस सूट (Space Suit) तैयार किया जा रहा है जो वहां के तापमान को नियंत्रित कर सकें। जिससे एस्ट्रोनॉट्स को किसी तरह की दिक्कत न हो। गगनयान मिशन को 2022 तक पूरा करने की संभावना है।

बताया जा रहा है कि नए स्पेस सूट आधुनिक टेक्नोलॉजी से बने होंगे। जिसके चलते अंतरिक्ष यात्रियों को कम थकान महसूस होगी। साथ ही अंतरिक्ष में होने वाले तापमान के उतार-चढ़ाव को भी सहने की क्षमता देगा। ये खास स्पेस सूट तापमान के शून्य से -250 डिग्री नीचे चले जाने से लेकर तापमान के ऊपर जाने में भी एक समान रहेगा। इससे एस्ट्रोनॉट्स के शरीर का तापमान स्थिर रहेगा। इससे उनकी तबियत नहीं बिगड़ेगी। इसरो (ISRO) ने इन खास सूट को बनाने के लिए रूसी एजेंसी ग्लावकोसमोस के साथ करार किया है।

ग्लावकोसमोस स्पेस सूट और बैकपैक बनाने का काम करेगी। बैकपैक में ऑक्सीजन की व्यवस्था होगी। साथ ही सांस छोड़ने पर निकलने वाली कार्बन डाइऑक्साइड को हटाने के उपकरण फिट होंगे। स्पेस सूट में तापमान कंट्रोल रखने के लिए बिजली की स्प्लाई की भी व्यवस्था की जाती है, और पीने के लिए एक वाटर टैंक भी लगाया जाता है। अंतरिक्ष में सूरज की तेज झुलसा देने वाली किरणों से बचाने के लिए स्पेस सूट में गोल्ड लाइन वाले वाइजर लगे होंगे। ये स्पेस में धूल से बचाने का भी काम करेंगे। इससे अंतरिक्ष यात्रियों को साफ देखने में आसानी होगी।

Show More
Soma Roy Content Writing
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned