मादा गिद्ध को लगा दुनिया का पहला प्रोस्थेटिक पांव

हाल ही ऑस्ट्रिया के विएना स्थित 'आउल एंड बर्ड ऑफ प्रे सैंक्चुरी' में मिया नाम की मादा गिद्ध के दाहिने पांव में प्रोस्थटिक अंग यानी कृत्रिम अंग लगाया गया है।

By: Mohmad Imran

Published: 24 Jun 2021, 02:01 PM IST

अब तक इंसानों और जानवरों को ही कृत्रिम अंग लगाए जाते रहे हैं। लेकिन अब टेक्नोलॉजी और ज़रूरत ने इस आवश्यकता को ऐसे जीवों तक भी पहुँचाया है जो इससे वंचित थे। शिकारी पक्षियों की बात करें तो बाज, गिद्ध और उल्लू जैसे बड़े पक्षी छोटे जीवन का शिकार करने में अपनी तीखी पैनी चोंच और पंजो का इस्तेमाल करते हैं और अपनी मजबूत टांगों से शिकार को उठा ले जाते हैं। लेकिन क्या हो जब ऐसे किसी शिकारी पक्षी का एक पाँव हि नहीं रहे तो उसके ज़िंदा रहने का क्या अवसर होगा?

मादा गिद्ध को लगा दुनिया का पहला प्रोस्थेटिक पांव

हाल ही ऑस्ट्रिया के विएना स्थित 'आउल एंड बर्ड ऑफ प्रे सैंक्चुरी' में मिया नाम की मादा गिद्ध के दाहिने पांव में प्रोस्थटिक अंग यानी कृत्रिम अंग लगाया गया है। डॉक्टरों को दावा है कि मिया दुनिया की पहली पक्षी है जिसे कृत्रिम पांव (लिम्ब) लगाया गया है। दरअसल, मिया के माता-पिता भेड़ की ऊन से अपना घोसला बना रहे थे जब मिया का दाहिना पांव उसमें उलझकर जख्मी हो गया और उसे संकग्रमण से बचाने के लिए सैंक्चुरी के चिकित्सकों को उसका दांया पांव काटना पड़ा। लेकिन बिना पांव के इस शिकारी पक्षी के जीने की उम्मीद बहुत कम थी। इसे देखते हुए चिकित्सकों ने पूरी तरह से एकीकृत बायोनिक प्रोस्थेटिक पांव लगाया ताकि वह आसानी से उड़ सके, जमीन पर उतर सके और शिकार कर सके। विएना के मेडिकल विश्वविद्यालय के कंस्ट्रकिटव सर्जन डॉ. ऑस्कर असजमान ने यह प्रोस्थेटिक बनाया है।

मादा गिद्ध को लगा दुनिया का पहला प्रोस्थेटिक पांव
Show More
Mohmad Imran
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned