45 साल पुरानी पाइप लाइन लीकेज के रोग से पीडि़त

45 साल पुरानी पाइप लाइन लीकेज के रोग से पीडि़त
sehore

Bharat pandey | Updated: 09 Oct 2016, 11:04:00 PM (IST) Sehore, Madhya Pradesh, India

दो दिन से प्रभावित है शहर की पेयजल सप्लाई

सीहोर। नगर पालिका ने पार्वती जल आवर्धन योजना के जर्जर बंधान की जगह नया बंधान तो बना लिया है, लेकिन पाइप लाइन अब भी पुरानी ही उपयोग की जा रही है।

45 साल से भी अधिक पुरानी हो चुकी पाइप लाइन लीकेज के रोग से पीडि़त है। ताजा मामले में काहिरी-सीहोर मार्ग पर जिला मुख्यालय से पांच किलोमीटर काहिरी पाइप लाइन में बड़ा लीकेज हो गया है। इस लीकेज से बीते तीन दिनों से बड़ी मात्रा में पानी बह रहा है। नगर पालिका का अमला दो दिनों से लीकेज को बंद करने का प्रयास कर रहा है, लेकिन पानी का दबाव और बड़ी पाइप लाइन होने से  लीकेज ठीक नहीं हो पा रहा है।

1970 में प्रारंभ हुईथी पार्वती योजना : शहर की पेयजल समस्या को हल करने के लिए 1970 में पार्वती जल आवर्धन योजना का पहला चरण प्रारंभ किया गया था। इस पहले चरण में ग्राम काहिरी-कदीम में पार्वती नदी पर बंधान निर्माण, 19 किलोमीटर पाइप लाइन व फिल्टर प्लांट का निर्माण किया गया था। इन निर्माणों में फिल्टर प्लांट और बंधान का पुर्ननिर्माण कर दिया गया है, लेकिन पाइप लाइन अभी भी 45 वर्ष से अधिक पुरानी उपयोग की जा रही है। इस पाइप लाइन में इतने लीकेज हो चुके है कि यह पूरे मार्ग में कई जगह से रिस रही है। कई बार दुर्घटनाओं के कारण भी पाइप लाइन फूट जाती है।

दो जगह जोड़े गए लीकेज,आज मिलेगा पानी
काहिरी पाइप लाइन में करबला और महोडियां गांव के पास दो बड़े लीकेज सामने आए थे, जिन्हें जोडऩे में नगर पालिका के अमले को तीन दिन का समय लग गया। इस लीकेज के कारण हजारों गैलेन पानी बर्बाद भी हुआ। रविवार शाम चार बजे लीकेज जोडऩे का काम पूरा हो सका। नपा अमले की माने तो सोमवार से शहर की पेयजल व्यवस्था सुचारू रूप से प्रांरभ कर दी जाएगी।  

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned