कर्मचारी की मौत पर बिफरे ग्रामीण, भोपाल-बिलकिसगंज मार्ग पर किया एक घंटे चक्काजाम

कर्मचारी की मौत पर बिफरे ग्रामीण, भोपाल-बिलकिसगंज मार्ग पर किया एक घंटे चक्काजाम

Sunil Sharma | Publish: Sep, 07 2018 02:57:25 PM (IST) Sehore, Madhya Pradesh, India

लंबे जाम में फंसे अनेक वाहन, प्रशासन की समझाइश पर चक्काजाम से हटे परिजन और ग्रामीण...

सीहोर। करंट लगने से नपा के बिजली कर्मचारी ने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया। बिजली कर्मचारी एक दिन पहले ड्रीम सिटी में काम करते समय बिजली खंभे से गिरकर गंभीर रूप से घायल हो गया था।

कर्मचारी की मौत के बाद ग्रामीणों ने विभाग की लापरवाही को लेकर जमकर हंगामा किया। परिजन और ग्रामीणों ने परिवार के लिए आर्थिक सहायता और अनुकंपा नियुक्ति को लेकर भोपाल-बिलकिसगंस मार्ग पर शव रखकर एक घंटे तक चक्काजाम किया। सूचना पर मौके पर पहुंंचे तहसीलदार और एसडीएम की समझाइश के बाद मृतक का अंतिम संस्कार किया गया।

ग्राम चंदेरी निवासी 35 वर्षीय विजय मेवाड़ा पिता भेरू सिंह नपा के बिजली विभाग में कार्य करता था। बुधवार को अपने दो अन्य साथियों के साथ भोपाल नाके के आगे ड्रीम सिटी में स्टी्रट लाइन सुधारने का काम कर रहा था।

इसी दौरान तार में अचानक करंट आने से खंभे से नीचे गिर गया था। तब उसे तुरंत जिला अस्पताल के बाद भोपाल के एलबीएस अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां उसकी उपचार के दौरान देर रात मौत हो गई। गुरूवार को पीएम के बाद जैसे ही शव को गांव लाया जा रहा था।

आक्रोशित ग्रामीणों ने भोपाल-बिलकिसगंज मार्ग पर जाम लगाकर हंगामा शुरू कर दिया। ग्रामीणों का कहना था कि विभाग की लापरवाही के कारण ग्रामीण की मौत हो गई। इसके बाद भी कोई भी अधिकारी और जनप्रतिनिधि ने सुध नहीं ली। ग्रामीणों ने बताया कि मृतक का तीन साल का बेटा और करीब दो माह की एक बालिका है।

परिजन और ग्रामीण मृतक परिवार को आर्थिक सहायता और परिवार के सदस्य को अनुकंपा नियुक्ति की मांग की गई। जाम की सूचना पर मौके पर थाना प्रभारी संध्या मिश्रा, तहसीलदार सुधीर कुशवाहा, एसडीएम वरूण अवस्थी ने ग्रामीणों की मांग पर तत्काल सहायता और परिवार के सदस्य को नियम अनुसार अनुकंपा देने के आश्वासन के बाद मृतक का अंतिम संस्कार किया।

प्रशासन ने बताया कि नियमानुसार 1.75 लाख की आर्थिक सहायता परिजनों को दी जा रही है। इसके अलावा नपा ने भी 20 हजार रुपए की तत्काल आर्थिक सहायता परिजनों का उपलब्ध कराई है। इधर, भोपाल-बिलकिसगंज मार्ग पर एक घंटे तक जाम लगने से कई वाहन जाम में फंस गए और दोनों तरफ एक से दो किमी लंबी कतार लग गई। इस दौरान वाहन चालक परेशान होते रहे।

सुरक्षा इंतजामों पर उठे सवाल, करीब 20 कर्मचारी संभालते हैं व्यवस्था
नपा कर्मचारी की मौत पर ग्रामीणों ने विभाग की लापरवाही बताई। ग्रामीणों का कहना था, दुर्घटना के दौरान कर्मचारियों के पास सुरक्षा के कोई इंतजाम नहीं थे। दस्ताने, हेलमेड के साथ ही अन्य उपकरण नहीं दिए जाने गए थे।

विभाग अगर सुरक्षा को लेकर लापरवाही नहीं बरतता तो गांव के युवक की मौत नहीं होती। नपा में बिजली विभाग में करीब 20 लाइनमैन और हेल्पर तैनात है। तीन-तीन कर्मचारियों की पांच टीम शहर की स्ट्रीट लाइट और बिजली से संबंधित अन्य सुधार कार्य करता है। इस दौरान किसी भी कर्मचारी के पास सुरक्षा के कोई इंतजाम नजर नहीं आते है।

कर्मचारियों को सभी सुरक्षा के उपकरण दिए गए है। स्ट्रीट लाइट में करंट कैसे आया इसकी जांच कराई जाएगी।
- मोहन परमार, बिजली शाखा प्रभारी, नपा सीहोर

कर्मचारी की मौत के बाद ग्रामीणों ने परिवार की आर्थिक सहायता और अनुकंपा नियुक्ति की मांग की है। सहायता राशि तथा विभागीय नियम अनुसार अनुकंपा नियुक्ति दी जाएगी।
- वरूण अवस्थी, एसडीएम, सीहोर

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned