चार साल में तीसरी बार नगर पालिका अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठीं अमिता

भाजपा नेत्री अरोरा ने नगरीय प्रशासन की कार्रवाई को बताया था राजनीतिक, चार साल में तीसरी बार संभाली कुर्सी

By: Kuldeep Saraswat

Published: 19 Mar 2020, 11:41 AM IST

सीहोर. सियासी उठापठक के बीच सीहोर में कांग्रेस को एक बार फिर बड़ा झटका लगा है। हाईकोर्ट ने नगरीय प्रशासन भोपाल के आदेश को निरस्त कर भाजपा की अमिता अरोरा को फिर से नगर पालिका अध्यक्ष की कमान सौंपी है। हाईकोर्ट से अध्यक्ष बने रहने की स्वीकृति मिलने के बाद भाजपा नेत्री अमिता अरोरा बुधवार को अपने समर्थकों के साथ नगर पालिका के दफ्तार पहुंचीं, यहां पर उन्होंने सीएमओ के साथ दस्तावेजी प्रक्रिया पूरी कर विधिवत नपा अध्यक्ष का चार्ज लिया। सीहोर नगर पालिका में बीते चार साल के भीतर अमिता अरोरा तीसरी बार अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठीं हैं। प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद नगरीय प्रशासन ने सवा साल में अमिता अरोरा को दो बार नगर पालिका अध्यक्ष की कुर्सी से हटा है, लेकिन वे हर बार हाईकोर्ट के आदेश पर फिर से नपा अध्यक्ष की कुर्सी पर बैठ गई हैं।

जानकारी के अनुसार सबसे पहले 16 दिसंबर 2016 को भाजपा नेता पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जसपाल अरोरा की पत्नी अमिता अरोरा भाजपा से चुनाव जीतकर नगर पालिका सीहोर की अध्यक्ष बनीं। इसके बाद तीन साल तो सबकुछ ठीक चला, लेकिन सवा साल पहले मध्य प्रदेश में जैसे ही सत्ता परिवर्तन हुआ, अमिता अरोरा की शिकायत और उनकी जांच शुरू हो गईं। प्रभारी मंत्री आरिफ अकील से की गई एक वित्तीय अनियमित्ता शिकायत की जांच में नगरीय प्रशासन ने उन्हें दोषी मानते हुए 24 अगस्त 2019 को नगर पालिका अध्यक्ष पद से बर्खास्त कर दिया।

नगरीय प्रशासन के बर्खास्त करते ही अमिता अरोरा ने हाईकोई की शरण ली। हाईकोर्ट ने नगरीय प्रशासन के ऑर्डर को निरस्त कर अरोरा को फिर से कुर्सी पर बिठा दिया। इसके बाद नगरीय प्रशासन ने अरोरा को सुनवाई का समय दिया और औपचारिकता पूरी कर 5 दिसंबर 2019 को फिर से नगर पालिका अध्यक्ष पद से पृथक कर दिया, लेकिन अरोरा फिर से हाईकोर्ट पहुंच गईं। इस बार अरोरा के वकील ने हाईकोर्ट में तर्क दिया कि नगरीय प्रशासन ने उन्हें क्रॉस एग्जामिनेशनका समय नहीं दिया है। इस मामले में कई अफसर की अहम भूमिका रही है। अरोरा के वकील की बात से सहमत होते हुए हाईकोर्ट ने 16 मार्च 2020 को नगरीय प्रशासन के आदेश को निरस्त कर अरोरा को फिर से नगर पालिका अध्यक्ष की कुर्सी पर बिठाया है। हाईकोर्ट के आदेश पर अब नगरीय प्रशासन अमिता अरोरा को सुनवाई के दौरान क्रॉस एग्जामिनेशन का अवसर देगा।

Kuldeep Saraswat
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned