मौसम ने बढ़ाई मरीजों की संख्या, एक पलंग पर हो रहा दो-दो मरीजों का इलाज

पिछले एक सप्ताह से गर्मी के साथ सर्दी भरा मौसम नागरिकों पर भारी पड़ रहा है।


सीहोर। इस समय हेल्दी सीजन चल रहा है, लेकिन इसके बाद भी जिला अस्तपाल मरीजों से भरा हुआ है। वार्ड में एक-एक पलंग पर दो-दो मरीज भर्ती है। मौसम के लगातार पैंतरे बदलने के कारण अस्पताल में मरीजों का अंबार लग गया है। प्रतिदिन आठ सौ से एक हजार मरीज इलाज के लिए पहुंच रहे हैं तो दूसरी तरफ भर्ती होने वाले मरीजों की संख्या भी कम नहीं है। 

पिछले एक सप्ताह से गर्मी के साथ सर्दी भरा मौसम नागरिकों पर भारी पड़ रहा है। मौसम में बदलाव के कारण जिला अस्पताल में मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है।  जिला अस्पताल में प्रतिदिन आठ सौ से एक हजार मरीज विभिन्न बीमारियों के पहुंच रहे है।इनमें सर्दी, खांसी, बुखार तथा मलेरिया के रोगी शामिल हैं। 

डॉक्टरों का मानना है कि  एकदम से मौसम परिवर्तन होने के कारण बीमारियां बढ़ती हैं।  शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है तो व्यक्ति का बीमार पडऩा तय है। इनसे केवल बचाव करके ही बचा जा सकता है।  ठंड कम होने के कारण मच्छरों का प्रकोप बढ़ जाता है। यदि सावधानी न बरती जाए तो मलेरिया और दूषित खान-पान के कारण टाइफाइड और पीलिया भी हो सकता है। इस संबंध में किसान वार्ड में भर्ती इछावर निवासी निकिता ने बताया कि एक-एक पलंग पर दो-दो मरीजों को भर्ती कर दिए जाने से मरीजों को परेशानी उठानी पड़ रही है।  कालापीपल निवासी पूजा ने कहा कि अस्पताल में सुविधाओं की अधिक दरकार है।

चार हजार मरीज पांच दिन में आए

जिला अस्पताल में इलाज के लिए नए साल के जनवरी माह के पंाच दिनों में चार हजार से अधिक मरीज उपचार के लिए पहुंचे। इनमें से करीब चार सौ मरीजों को भर्ती हुए। डॉक्टरों का कहना है कि  मौसम के अचानक बदलाव के चलते मरीजों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है।

किसान वार्ड में एक-एक पलंग पर दो-दो मरीज

जिला अस्पताल में मरीजों की संख्या बढऩे से एक-एक पलंग पर  दो-दो मरीज हो गए हैं। किसान वार्ड में एक-एक पलंग पर दो-दो मरीजों को भर्ती कर दिया गया है। हालात यह है कि प्रतिदिन अस्पताल में मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। जिला अस्पताल में मरीजों को इलाज के लिए परेशानी उठानी पड़ रही है।

पिछले गेट पर चल रहा निर्माण काम

जिला अस्पताल के पिछले फाटक की तरफ निर्माण कार्य चलने के कारण भी मरीजों को परेशानी उठानी पड़ रही है। ट्रामा सेंटर का काम चलने के कारण लंबे समय से अस्पताल के पिछले फाटक पर निर्माण कार्य चल रहा है। इससे मरीजों को परेशानी उठानी पड़ रही है।

मरीजों को हो रही परेशानी

जिला अस्पताल के पास ही ट्रामा सेंटर का काम चल रहा है। मरीजों के हिसाब से अस्पातल में  जगह की कमी काफी समय से देखी जा रही है। अस्पातल के पिछली तरफ चल निर्माण कार्य भी काफी धीमी गति से चल रहा है। इसके कारण मरीजों को परेशानी उठानी पड़ती है।
Bharat pandey Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned