अब तक 6,724 सीटों में से 3,388 बच्चों को ही मिल सका प्रवेश

आज आवेदनों के सत्यापन की अंतिम तिथि, खाली रह जाएंगी अनेक सीटें

 

By: सुनील शर्मा

Published: 25 Jul 2018, 02:19 PM IST

सीहोर. प्राइवेट स्कूलों में गरीब के बच्चे का सपना नवीन शिक्षा सत्र के करीब डेढ़ माह बीतने के बाद भी अधूरा है। आरटीई के तहत प्रवेश देने अभी भी प्रक्रिया जारी है। जिले की 6724 सीटों में से अभी तक 3388 बच्चों को ही प्रवेश मिल सका है। जबकि 25 जुलाई को जमा हुए आवेदनों के सत्यापन की अंतिम तिथि है। ऐसी स्थिति में प्राइवेट स्कूलों में सीटे खाली रहने से इंकार नहीं किया जा सकता है।

शिक्षा सत्र शुरू हुए डेढ़ माह से ज्यादा हो चुका है, लेकिन अब तक शिक्षा के अधिकार से कई बच्चे वंचित नजर आ रहे हंै। सत्यापन की धीमी रफ्तार के चलते अनेक लोगों के बच्चे प्राइवेट स्कूल में पढऩे का सपना ही देख रहे हैं। स्कूलों में देरी से प्रवेश मिलने पर कई बच्चों की डेढ़ माह की पढ़ाई का भी नुकसान उठाना पड़ेगा।

ज्ञात रहे शिक्षा के अधिकार अधिनियम के तहत गरीब बच्चों को जिले के निजी स्कूलों मेें 6724 सीटें आवंटित की गई थीं। योजना के तहत आठ जून से 30 जून तक ऑनलाइन द्वारा 7685 आवेदन प्राप्त हुए थे, लेकिन विभाग की लेटलतीफी के चलते पांच जुलाई से रेंडम पद्धति से होने वाला चयन 10 जुलाई तक हो सका। 11 जुलाई को आवेदको के पास एसएमएस आने के बाद 12 जुलाई से सत्यापन की प्रकिया शुरू हुई।

 

जिले के पांचोँ ब्लाकों के सत्यापन केन्द्रों पर 24 जुुलाई तक 3388 बच्चों को ही निजी स्कूलों में प्रवेश मिल पाया है। जबकि 25 जुलाई को सत्यापन की अंतिम तिथि है।

आष्टा ब्लाक में 1300 को मिला प्रवेश
जिले की पांचों ब्लाकों में प्रक्रिया के तहत दस्तावेजो के सत्यापन में आष्टा ब्लाक में 2217 सीटों में से 13 00 को प्रवेश मिल चुका है।इसी तरह सीहोर ब्लाक की 2490 सीटों पर 1154 बच्चों को प्रवेश मिला है। इसके साथ ही इछावर में 384, बुधनी में 220,नसरुल्लागंज में 330 बच्चों को प्रवेश मिला है। वहीं जिले के पांचों ब्लाक में 332 आवेदन निरस्त हुए हैं।
पिछले साल चार हजार का हुआ था प्रवेश

आरटीई के तहत शिक्षा सत्र 17-18 में ऑनलाइन पोर्टल पर पांच हजार 974 आवेदन किए गए थे। रेंडम पद्धति के बाद चयन में सीहोर, आष्टा, इछावर, बुधनी, नसरूल्लागंज ब्लाक को 6062 सीटें आवंटित की गई थी। सत्यापन के बाद 4203 बच्चों को प्रवेश दिया गया, लेकिन इस साल धीमी प्रकिया के चलते आंकड़ा पिछले साल के आंकड़े को भी पार नहीं कर सका है।

आवेदनों का पांचों ब्लाकों में सत्यापन जारी है। अंतिम तारीख तक सत्यापन कर रिपोर्ट राज्य शिक्षा केन्द्र भेजी जाएगी। अभी तिथि आगे बढऩे को लेकर कोई दिशा-निर्देश नहीं है, जो भी आदेश आएंगे उसका पालन किया जाएगा।
वीके शर्मा, एपीसी,
शिक्षा विभाग

सुनील शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned