शिक्षकों की कमी को दूर करने की कवायद, शून्य शिक्षकीय शाला में पढ़ाएंगे बंद हुए 50 स्कूलों के शिक्षक

 जिला स्थाई शिक्षा समिति की बैठक में लिया गया निर्णय

By: Bharat pandey

Published: 17 Nov 2016, 11:38 PM IST

सीहोर। कम छात्र संख्या वाली 50 प्राथमिक शालाओं को पिछले दिनों शासन ने बंद कर दिया गया है।इन स्कूलों के शिक्षकों को शून्य शिक्षकीय शालाओं में भेजा जाएगा। यह निर्णय जिला स्थाई शिक्षा समिति की बैठक समिति की बैठक में लिया गया। 


जिला स्थाई शिक्षा समिति की बैठक समिति की बैठक समिति अध्यक्ष एवं जिला पंचायत के उपाध्यक्ष मोहन सिंह चेयरमेन की अध्यक्षता में संपन्न हुई। बैठक में नवीन हाईस्कूल एवं हायर सेकंडरी स्कूल जो भवन विहीन है उनमें शीध्र भवन की स्वीकृति का प्रस्ताव शासन को भेजे जाने की बात कही गई। बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया कि शासन स्तर से छात्राओं को वितरित की जाने वाली नि:शुल्क साइकिल वितरण कार्यक्रम आयोजित कर जिला पंचायत अध्यक्ष, उपाध्यक्ष एवं स्थानीय जनप्रतिनिधियों को आमंत्रित कर साइकिल वितरण किया जाए। बैठक में मॉडल शाला आष्टा के समय के संबंध में निर्णय लिया गया कि शाला का समय सुबह 9 से दोपहर 3.30 बजे तक किया जाएगा। सर्वशिक्षा अभियान के लम्बे समय से लंबित निर्माण कार्य की सूची सभी सदस्यों को उपलब्ध करा कर उनसे आग्रह कर अपेक्षा की गई कि सभी अपने अपने क्षेत्रों की पंचायतों के सरपंच एवं सचिव शीध्र निर्माण कार्य पूर्ण करने के लिए प्रेरित करें। साथ ही समस्त जनशिक्षक अपने जन शिक्षा केन्द्र की शालाओं का माह में दो बार अवश्य रूप से भ्रमण करें एवं शाला में अपनी टीप डाले। बैठक में समिति के सदस्य त्रिशला दशरथ सिंह राजपूत, हरीसिंह मेवाड़ा, फिरकाबाई, जिला शिक्षा अधिकारी, जिला परियोजना समन्वयक, समस्त जनपद शिक्षा केन्द्र के बीआरसीसी, बीईओ उपस्थित थे। 
Bharat pandey Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned