दो दिन बाद भी प्याज बेचने नहीं आ रहा किसानों को नंबर

दो दिन बाद भी प्याज बेचने नहीं आ रहा किसानों को नंबर

Anil Kumar | Updated: 14 Jun 2019, 02:47:25 PM (IST) Sehore, Sehore, Madhya Pradesh, India

चार दिन से जारी है फल व सब्जी मंडी में बंपर आवक

सीहोर। जिले की सीहोर और आष्टा मंडी में प्याज बेचने इस समय किसानों की जमकर फजीहत हो रही है। सीहोर लहसुन-प्याज मंडी में बंपर आवक से एक से दो किमी तक ट्रैक्टर-ट्रालियों की लंबी कतार लगने से किसानों का उपज बेचने दो से तीन दिन में नंबर आ रहा है। जिससे उनको परेशानी उठाना पड़ रही है तो किराएं का टै्रक्टर लाने पर उसका किराया भी बढ़ रहा है। गुरुवार को भी भीड़ से कई किसान उपज बेच नहीं पाएं, जिससे उनका शुक्रवार को नंबर आएगा।


इस साल शासन ने जिले में समर्थन मूल्य पर प्याज खरीदने सीहोर और आष्टा मंडी में केंद्र बनाया है। एक जून से समर्थन पर पंजीकृत किसानों से प्याज की खरीदी शुरू होते ही दोनों केंद्र पर भीड़ उमड़ रही है। सीहोर मंडी में पिछले चार दिन से परिसर फुल होने के बाद पुलिस लाइन और सायलो जाने वाली सड़क पर एक से दो किमी तक लंबी लाइन लग रही है। गुरुवार को भी करीब ६ हजार से अधिक क्विंटल प्याज की आवक होने से सायलो से पुलिस लाइन की एक तरफ सड़क पर सिर्फ ट्रैक्टर-ट्राली नजर आ रहे थे। लाइन में खड़े किसान अपने नंबर आने का इंतजार कर रहे थे।


कोई सड़क तो कोई ट्राली के नीचे बीता रहा समय
तेज धूप पडऩे और छांव की व्यवस्था नहीं होने से किसानों को ट्राली के नीचे ही बैठकर समय बीताना पड़ रहा है। वहीं रात ट्राली में सोते हुए गुजारना पड़ रही है। गुरुवार को पत्रिका टीम प्याज बेचने आई किसानों का हाल जानने पहुंची तो नजारा चौकाने वाला मिला। सड़क पर ट्रैक्टर-ट्राली खड़े करने के बाद किसान छांव के लिए इधर-उधर जगह तलाशते नजर आएं।

 

जब कुछ नहीं हुआ तो ट्राली के नीचे ही बैठे तो कोई सो गए थे। टीम ने किसानों से चर्चा की तो उनका दुखड़ा साफ दिखाई दिया। किसानों ने बताया कि अन्नदाता के साथ ही आखिर ऐसा क्यों होता है, जब उपज बेचने की बारी आती है तो इस तरह की समस्या खड़ी हो जाती है। जबकि प्रशासन और मंडी प्रबंधन को इस दिशा में उचित ध्यान देना चाहिए था, लेकिन ऐसा नहीं होने से इसका खामियाजा उनको भुगतना पड़ रहा है।

 


इसलिए हो रही है बंपर आवक
अभी प्याज के भाव ठीक ठाक चल रहे हैं, उसी के साथ समर्थन पर प्याज खरीदी की अंतिम तिथि 30 जून है। इसके अलावा बारिश का मौसम आने और जगह के अभाव में कई किसान प्याज को बेचने में लगे हैं। उससे भी मंडी में प्याज की बंपर आवक हो रही है। बताया जा रहा है कि अगले कुछ दिन और मंडी में ऐसी ही प्याज की तेज आवक रहेगी।



आष्टा में 1311 के भाव बिकी प्याज
आष्टा फल और सब्जी मंडी में 13 जून को 3 हजार 389 क्विंटल प्याज की आवक रेकार्ड की गई। इसमें न्यूनतम 100 और अधिकतम 1311 के भाव प्याज बिकी। इसी तरह से लहसुन की बात की जाएं तो न्यूनतम एक हजार और अधिकतम 7 हजार 190 के भाव बिकी। उल्लेखनीय है कि आष्टा मंडी में भी प्याज की आवक से मार्केटिंग परिसर भरा हुआ नजर आ रहा है।

 

कौन क्या बोला
मंगलवार को ट्रैक्टर-ट्राली से प्याज लेकर आए थे, जिसमें आज तीसरा दिन है लेकिन नंबर नहीं आया है। क्या पता आज भी प्याज नीलाम होगी या नहीं। इससे परेशानी हो रही है।
गणेश यादव, किसान थूना

 

 


मंडी में भीड़ के चलते जगह नहीं होने से सड़क पर ही ट्रैक्टर-ट्राली खड़ा है। अब सोच रहे हैं कि कब अंदर टीनशेड खाली हो और हमारा टै्रक्टर लगाएं। दिक्कत तो हो रही है।
कमल मेवाड़ा, किसान लसूडिय़ा

 


भाव अच्छे होने से भीड़
समर्थन मूल्य पर पंजीकृत किसानों से उपज खरीदी जा रही है। उसी के साथ मंडी में अभी प्याज के भाव भी अच्छे चल रहे हैं। जिससे पिछले कुछ दिन से आवक तेज है।
करू णेश तिवारी, सचिव कृषि उपज मंडी सीहोर

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned