हाईकोर्ट ने पूछा, नाले पर कैसे तन गईं इमारतें?

हाईकोर्ट ने पूछा, नाले पर कैसे तन गईं इमारतें?

Bharat pandey | Publish: Jun, 24 2016 11:35:00 PM (IST) Sehore, Madhya Pradesh, India

हाईकोर्ट की युगलपीठ ने नगरीय प्रशासन के प्रमुख सचिव, कलेक्टर और नपा सीएमओ को दिया नोटिस

सीहोर/ जबलपुर। हाईकोर्ट जबलपुर के कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश राजेन्द्र मेनन और जस्टिस एके श्रीवास्तव की युगलपीठ ने नगरीय प्रशासन के मुख्य सचिव, कलेक्टर और नगर पालिका सीएमओ को नोटिस देकर टाउन हॉल के पास से निकले नाले पर इमारतें बनने का कारण पूछा है। युगलपीठ ने अफसरों को जबाव  के लिए चार सप्ताह का समय दिया है।

सीहोर नगर पालिका के पूर्व पार्षद दर्शन सिंह वर्मा ने हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर कर कहा है कि टाउन हॉल के पास से एक नाला गुजरा है। इस नाले पर करीब 10 किलोमीटर की लंबाई में अतिक्रमण कर पक्की इमारतें भी बन गई हैं। अतिक्रमणकारियों को हटाने के लिए प्रशासन ने कई नोटिस दिए, लेकिन नाले से अतिक्रमण नहीं हटा है। याचिकाकर्ता ने तर्क है कि हर स्तर पर शिकायत करने के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं हुई। अधिवक्ता दिनेश उपाध्याय ने कोर्ट को बताया कि नाले पर अतिक्रमण के चलते गंदे पानी की निकासी नहीं हो पा रही है। इससे शहर में संक्रमण का खतरा बढ़ गया।  उन्होंने तत्काल अतिक्रमण हटाए जाने का आग्रह किया। हाईकोर्ट ने राज्य सरकार के नगरीय प्रशासन विभाग प्रमुख सचिव, सीहोर कलेक्टर डॉ. सुदाम खाड़े और नगर पालिका सीएमओ अमरसत्य गुप्ता को नोटिस जारी करने के निर्देश दिए।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned