scriptIf the government did not listen, then picketed in the court of God | सरकार ने नहीं सुनी तो भगवान के दरबार में दिया धरना | Patrika News

सरकार ने नहीं सुनी तो भगवान के दरबार में दिया धरना

नियमितीकरण की मांग को लेकर सड़क पर उतरे अतिथि विद्वान

सीहोर

Published: April 02, 2022 10:37:03 am

सीहोर. प्रदेश के शासकीय कॉलेजों में कार्यरत अतिथि विद्वानों ने सरकार की बेरुखी के बाद आंदोलन का झंडा बुलंद कर दिया है। अतिथि विद्वान अब बड़ी स्क्रीन पर वीडियो पिक्चर दिखाकर कांग्रेस शासनकाल के दौरान भाजपा सरकार द्वारा अतिथि विद्वानों से किए गए वादे की याद दिलाएंगे। अतिथि विद्वान विरोध रैली लेकर भोपाल तक जाएंगे और उच्च शिक्षा मंत्री सहित मुख्यमंत्री के नाम अपनी मांगों को लेकर ज्ञापन देंगे।

धरना
धरना

अतिथि विद्वानो ने नियमितीकरण संघर्ष मोर्चा मध्यप्रदेश के बैनर तले प्रदेशध्यक्ष डॉ. सुरजीतसिंह भदौरिया के नेतृत्व में सीहोर स्थित चिंतामन श्री गणेश मंदिर में धरना दिया, इसके बाद भगवान को ज्ञापन सौंपा। इसमें भाजपा सरकार को अपना वादा याद दिलाने भगवान से कामना की। शुक्रवार को मध्यप्रदेश के सभी जिलों में कार्यरत अतिथि विद्वान अपनी चार सूत्रीय मांगों को लेकर गणेश मंदिर में एकत्रित हुए थे। अतिथि विद्वानों ने बताया कि भाजपा सरकार ने आपात रूप से नियुक्त सहयोगी प्राध्यापक जो लोक सेवा आयोग से चयनित हुए, उन्हें मानवीय आधार पर नियमित किया है। इसके लिए बकायदा वर्ष 2003,2005 और 2007 में नियुक्ति आदेश जारी किया गया। इसी प्रकार भाजपा शासित हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, उत्तरप्रदेश और कर्नाटक में भी बिना किसी परीक्षा के अतिथि विद्वान,सहायक प्राध्यापकों को सीधे नियमित कर दिया है, लेकिन मध्यप्रदेश में कार्यरत अतिथि विद्वानों के साथ लगातार अन्याय हो रहा है। इससे शासकीय कॉलेजों में कार्यरत अतिथि विद्वानों का भविष्य अंधकारमय हो गया है। इस दौरान डॉक्टर बीएल दोहरे,डॉ. रईश खान,डॉ. संजय पांडे, अविनाश मिश्रा,डॉ. पूजा मिश्रा,विभा श्रीवास्तव,डॉ.वसीम खान, डॉ. अवधेश पांडे, डॉ. वसीमउल्लाह खान थे।

आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं ने सौंपा ज्ञापन
इधर वेतन वृद्धि सहित अन्य मांगों को लेकर सीहोर के टाउन हाल के समीप आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की हड़ताल शुक्रवार को भी जारी रही। इस दौरान पूर्व पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष जसपालसिंह अरोरा को कार्यकर्ताओं ने ज्ञापन सौंपा। अरोरा ने कहा कि उनकी मांगों से मुख्यमंत्री को अवगत कराया जाएगा। इसमें निराकरण की मांग की जाएगी। पिछले कुछ दिन से आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की हड़ताल से आंगनबाड़ी केंद्रों पर कामकाज ठप हो गया है। इससे बच्चों और महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ता है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

टाइम मैगजीन ने जारी की 100 प्रभावशाली लोगों की लिस्ट, जेलेंस्की, पुतिन के साथ 3 भारतीय भी शामिलHaj 2022: दो साल बाद हज पर जाएंगे मोमिन, पहला भारतीय जत्था 4 जून को होगा रवानाआ गया प्लास्टिक कचरे का सफाया करने वाला नया एंजाइमWomen's T20 Challenge: पहले ही मैच में धमाकेदार जीत दर्ज की सुपरनोवास ने, ट्रेलब्लेजर्स को 49 रनों से हरायाअनिल बैजल के इस्तीफे के बाद Vinai Kumar Saxena बने दिल्ली के नए उपराज्यपालISI के निशाने पर पंजाब की ट्रेनें? खुफिया एजेंसियों ने दी चेतावनीममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर साधा निशाना, कहा - 'भाजपा का तुगलगी शासन, हिटलर और स्टालिन से भी बदतर'लगातार बारिश के बीच ऑरेंज अलर्ट जारी, केदारनाथ यात्रा पर लगी रोक, प्रशासन ने कहा - 'जो जहां है वहीं रहे'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.