2500 रुपए की रिश्वत लेते आइटीआई अधीक्षक गिरफ्तार

आइटीआई की कंप्यूटर ऑपरेटर की शिकायत पर लोकायुक्त पुलिस ने की कार्रवाई

सीहोर/नसरुल्लागंज. भोपाल लोकायुक्त पुलिस ने नसरुल्लगंज आइटीआई के अधीक्षक को 2500 रुपए की रिश्वत लेते रंगे हाथ गिरफ्तार किया है। आइटीआई अधीक्षक गणेश प्रजापति के खिलाफ लोकायुक्त में शिकायत उनके ही कार्यालय की कंप्यूटर ऑपरेटर ने की है। कंप्यूटर ऑपरेटर ने लोकायुक्त पुलिस की कार्रवाई के बाद नसरुल्लागंज पुलिस को आवेदन देकर अधीक्षक प्रजापति पर छेड़छाड़ के आरोप भी लगाए हैं।

जानकारी के अनुसार के अनुसार आइटीआई में कंप्यूटर ऑपरेटर के पद पर पदस्थ किसान मोहल्ला वार्ड क्रमांक तीन निवासी किरण बाकरिया ने 23 फरवरी को लोकायुक्त में शिकायत दर्ज कराई कि आइटीआई के अधीक्षक गणेश प्रजापति वेतन अहरण को लेकर हर महीने 2500 रुपए की रिश्वत मांगते हैं।

पीडि़त की शिकायत पर लोकायुक्त पुलिस ने मामले की जांच की और पुष्टि होने के बाद आइटीआई अधीक्षक को रंगे हाथ गिरफ्तार करने की योजना बनाई। शुक्रवार को दोपहर के समय भोपाल लोकायुक्त की 15 सदस्यीय टीम नसरुल्लागंज आइटीआई पहुंची और योजना के मुताबिक जैसे की कंप्यूटर ऑपरेटर ने अधीक्षक को रुपए दिए, पुलिस ने रंगे हाथ दबोच लिया। पुलिस ने आरोपी आइटीआई अधीक्षक के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम 1988 संशोधित 2018 के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।

पहले एक बार ले चुका है रिश्वत
पीडि़त ने बताया कि आइटीआई में वह दिसंबर 2018 से अस्थाई कर्मचारी के रूप में कंप्यूटर ऑपरेटर के पद पर पदस्थ है। आरोपी आइटीआई अधीक्षक वेतन अहरण का चैक देने की एवज में एक बार 6500 रुपए पीडि़त से रिश्वत ले चुका है।

पीडि़त लोकायुक्त में शिकायत करने के लिए उस समय मजबूर हुई, जब आरोपी ने हर महीने 2500 रुपए रिश्वत देने की मांग की। पीडि़त ने बताया कि उसे महज 10500 राशि वेतन के रूप में मिलती है। नौकरी का भी कोई भरोसा नहीं है कि सरकार कब बाहर कर दे। ऐसे में अधीक्षक का हर महीने रिश्वत मांगने को लेकर लोकायुक्त में शिकायत दर्ज कराई और अधीक्षक की हकीकत सबके सामने आ गई।

आइटीआई अधीक्षक पर छेड़छाड़ के भी आरोप
पीडि़त ने आइटीआई के अधीक्षक प्रजाति पर छेड़छाड़ के भी आरोप लगाए हैं। छेड़छाड़ का मामला नसरुल्लागंज थाने में महिला पुलिसकर्मी के नहीं होने के कारण लंबित किया गया है। बताया जा रहा है कि कंप्यूटर ऑपरेटर ने लोकायुक्त कार्रवाई के बाद जिस समय आइटीआई अधीक्षक के खिलाफ छेड़छाड़ का मामला दर्ज कराने थाने में आवेदन दिया, उस समय थाने में पदस्थ महिला पुलिसकर्मी किसी काम से सीहोर आई हुई थीं। उम्मीद है महिला पुलिस के नसरुल्लागंज पहुंचते ही पीडि़त के बायान होंगे और आरोपी अधीक्षक पर मामला दर्ज किया जाएगा।


- पीडि़त आइटीआई नसरुल्लागंज में कंप्यूटर ऑपरेटर के पद पर पदस्थ है। पीडि़त से 2500 रुपए हर महीने रिश्वत देने के लिए अधीक्षक दबाव बना रहे थे। लोकायुक्त पुलिस ने रंगेहाथ आइटीआई अधीक्षक को रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। -उमा कुशवाह, टीआई लोकायुक्त

 

वीरेंद्र शिल्पी Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned