अतिक्रमण विरोध कार्रवाई में झूमाझपटी, भाजपा कार्यकर्ताओं को टारगेट करने का आरोप

रेहटी में विरोध के बीच नगर पंचायत ने तहसील गेट से नवीन बस स्टैंड तक हटाया अतिक्रमण

सीहोर। रेहटी में शुक्रवार को नगर पंचायत ने अतिक्रण विरोधी कार्रवाई की है। अतिक्रमण तहसील गेट से नवीन बस स्टैंड तक करीब तीन सौ दुकान और घरों के सामने से अतिक्रमण हटाया गया है। अतिक्रमण विरोध कार्रवाई में नगर पंचायत और राजस्व अमले को काफी विरोध का सामना करना पड़ा है। एक-दो जगह तो अमले के साथ झूमाझपटी भी हुई है। पुलिस ने एक युवक को गिरफ्तार किया। प्रशासन की कार्रवाई को लेकर दुकानदार गंभीर आरोप लगा रहे हैं।

दुकानदारों का आरोप है कि प्रशासन ने भाजपा कार्यकर्ताओं को टारगेट कर बिना नोटिस के अतिक्रमण हटाया है। अतिक्रमण हटाने में भेदभाव होने के सवालों पर कार्रवाई का नेतृत्व कर रहे अफसर भी सीधे जबाव देने से बच रहे हैं। तहसीलदार आरएल बागरी का तर्क है कि राजस्व अमला सिर्फ लॉ इन ऑर्डर के लिए कार्रवाई में मदद कर रहा था, अतिक्रमण नगर पंचायत ने हटाया है। इधर, नगर पंचायत के प्रभारी सीएमओ जगदीश चौहान भी खुलकर बोचने से बच रहे हैं। अतिक्रमण विरोधी मुहिम के दौरान नायब तहसीलदार डॉ. अमित सिंह, शक्ति सिंह तोमर, टीआई रवींद्र यादव, सलकनपुर चौकी प्रभारी सृष्टि गुप्ता और बड़ी संख्या में पुलिस बल मौजूद था। कार्रवाई के लिए रेहटी थाने के अलावा बुदनी और शाहगंज से भी पुलिस बल बुलाया गया था।

तहसीलदार के ड्राइवर से झूमाझपटी
मेन रोड पर सड़क के दोनों तरफ अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई सुबह करीब 11 बजे शुरू की गई थी। अतिक्रण विरोध मुहिम को देख कुछ व्यक्तियों ने स्वयं ही अपने टीन शेड हटाना शुरू कर दिया। मेन रोड किनारे बने मकान के सामने से लक्ष्मीनारायण मालवीय के बेटे प्रफुल मालवीय भी अपना टीनशेड हटा रहे थे, तभी तहसीलदार आरएल बागरी के ड्राइवर बलराम मेहरा पहुंच गए। ड्राइवर ने प्रफुल मालवीय को रौब दिखाना शुरू कर दिया, इस बात को लेकर पहले तो दोनों के बीच बहस हुई और फिर झूमाझपटी शुरू हो गई। झूमाझपटी होते देख पुलिस बल दौड़ा और प्रफुल मालवीय को पकड़कर पुलिस की गाड़ी से थाने भेज दिया। पुलिस ने देर शाम तक प्रफुल मालवीय के खिलाफ कोई मुकदमा तो दर्ज नहीं किया है, लेकिन अभी थाने में ही बिठाए रखा है।

सड़क की माप कर दीवार छोड़ी, बाद में तोड़ दी
प्रशासन की कार्रवाई को लेकर दुकानदार गंभीर आरोप लगा रहे हैं। बताया जा रहा है कि अतिक्रमण विरोधी कार्रवाई बिना किसी पैमाने के की गई है। बताया जा रहा है कि सुबह जब कार्रवाई शुरू हुई तो असमला हार्डवेयर की दुकान संचालित करने वाले फैजान सिद्दकी का टीनशेड तोडऩे पहुंचा। फैजान सिद्दकी ने तर्क दिया कि टीनशेड नाली के पीछे 40 फीट से दूर निजी भूमि में बना है। अफसरों ने सड़क की माप कराई तो सामने आया कि टीनशेड सड़क से 42 फीट पीछे था। अमला यहां से आगे बढ़ गया, लेकिन कुछ देर बाद ही अफसर जेसीबी लेकर फिर से पीछे हटे और वसीम का टीनशेड तोड़ दिया।

प्रशासन की कार्रवाई पर उठाए सवाल
अतिक्रमण विरोध मुहिम के शिकार भाजपा नेता हनीफ मोहम्मद और लतीफ मोहम्मद का भी टीनशेड तोड़ा गया है। ये फर्नीचर की दुकान चलाते हैं। लतीफ मोहम्मद ने बताया कि उनकी दुकान नली से पीछे बनी है, फिर भी कार्रवाई की गई है। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रशासन ने भाजपा कार्यकर्ताओं को टारगेट कर अतिक्रमण विरोधी कार्रवाई की है। कार्रवाई की जद में आए दूसरे दुकानदार आविद खान ने बताया कि उनकी दुकान मंडी की जगह में बनी है, फिर भी जबरदस्ती कार्रवाई की गई है। आविद खान से अमले की काफी बहस भी हुई थी। ढाबा संचालक मनोहर लाल मालवीय ने बताया कि उनका ढाबा सड़क से 40 फीट दूर है, फिर भी जबरन कार्रवाई की गई है। अफसरों ने ढाबा की खाद सामग्री हटाने तक का समय नहीं दिया।
वर्जन...
- अतिक्रमण विरोधी मुहिम शुरू करने से पहले बाजार में दो दिन मुनादी कराई गई थी। अभी केवल अस्थाई अतिक्रमण हटाया है। पक्के निर्माण तोडऩे के लिए नोटिस जारी कर सात दिन का समय दिया जाएगा। नोटिस के बाद कार्रवाई फिर से होगी
जगदीश चौहान, प्रभारी सीएमओ नगर पंचायत रेहटी

 

Kuldeep Saraswat Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned