कटंग बांस दिलाएंगे शहर को देशभर में नई पहचान

लगाए जाएंगे नए बांस, ३५ करोड़ की योजना चली गई थी ठंडे बस्ते में

By: Manoj vishwakarma

Published: 07 Jun 2018, 10:02 AM IST

सीहोर. प्रदेश में बांसों के झुरमुट मध्यप्रदेश के अलावा अरुणाचल प्रदेश में ही है। दुर्लभ प्रजाति के कंटग बासों के लिए सालों से सीहोर की विशेष पहचान है। बांसों के झुरमुट से देश के टूरिस्ट सर्किट बनाने का सपने के लिए वन विभाग ने १६ लाख रुपए की योजना शासन को भेजी है। योजना के तहत २५०० नए बांसों का रोपण किया जाएगा। इसके साथ ही बांसों को सरंक्षित रखने के लिए भी काम होगा। सब कुछ ठीक रहा तो शीघ्र ही इस योजना पर काम शुरू हो जाएगा।

 

राजधानी के सबसे निकटता वाले जिला मुख्यालय का लाभ यहां के लोगों को मिलता हुआ नजर आने लगा है। शहर में विकास को लेकर अनेक योजनाओं पर काम चल रहा है। वन विभाग ने पुराने इंदौर-भोपाल रोड तथा सीवन नदी किनारे दुर्लभ कटंग बांसों का सरंक्षित करने तथा टूरिस्ट सर्किट के रूप में पहचान दिलाने शासन को योजना भेजी है। योजना के तहत नगरीय प्रशासन विभाग, पर्यटन विभाग, ईको पर्यटन बोर्ड, राष्ट्रीय बेंबू मिशन आदि के सहयोग से नगर एवं सीवन नदी, सुन्दर वन, बांस क्षेत्र के संरक्षण एवं सौन्दर्यीकरण के लिए योजना बनाई गई है।

१६ लाख की योजना से होगा काम

वन विभाग के अनुसार इंदौर-भोपाल रोड हाइवे निर्माण में अनेक बांसों को नुकसान पहुंचा है। चूकि बांस बहेड़े के लिए सीहोर की अपनी पहचान है। सीवन नदी और चर्च ग्रांउड के पास स्थित बांस बहेड़े को नई पहचान दिलाने दुर्लभ बांसों को सरंक्षित करने शासन को योजना भेजी है। योजना के तहत २५०० नए बांसों को भी रोपे जाएंगे। जिससे दुर्लभ कटंग बांस बहेड़े का रकबा बढ़ सके। वन विभाग के अनुसार बांसों के लिए अच्छा वातावरण होने से तथा पहले से ही बांसो के लगे होने से इस दिशा में काम किया जा रहा है।इसके साथ बांउड्री वाल का निर्माण कर भी इन्हें सरंक्षित किया जाएगा।

इनका कहना है

बांसों के सरंक्षण और नए बांसों को रोपने १६ लाख की योजना शासन को भेजी गई है। योजना के शीघ्र ही अनुमति मिलने की संभावना है। योजना स्वीकृत होकर आने पर इस पर काम किया जाएगा।

राजेश शर्मा, एसडीओ वनविभाग

बांसों को सरंक्षित और बेंबू पार्क के रूप में सीहोर को पहचान दिलाने पूर्व में शासन को भेजी गई योजना की स्वीकृति नहीं मिल सकी थी। इसके कारण इस पर काम नहीं हो पाया था। फॉरेस्ट ने योजना भेजी है। कलेक्टर के संज्ञान में लाकर बेंबू पार्क के लिए काम किया जाएगा।

राजकुमार खत्री, एसडीएम सीहोर

Manoj vishwakarma Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned