जानिए कैसे: तीर्थनगरी सलकनपुर में एक साथ लगी 18 दुकानों में आग

देखते ही देखते भभक उठी आग, आग से माता के प्रसाद, सीडी, चुनरी आदि बेचने की दुकानें हुई खाक।

By: आसिफ सिद्दीकी

Published: 06 Nov 2017, 09:37 PM IST

सीहोर/रेहटी। मां विजयासन धाम सलकनपुुर में सोमवार सुबह 4 बजे के आसपास अचानक पहाड़ी पर बनी दुकानों में आग धधक गई। आग की चपेट में आने से सीढ़ी मार्ग पर बनीं 18 दुकानें जलकर राख हो गई। यह दुकानें माता के प्रसाद, नारियल, चुनरी, सीडी और अन्य सामानों की थी। आगजनी में दो दुकानों में अधिक नुकसान बताया है।

अज्ञात कारणों से लगी आग
मां विजयासन धाम सलकनपुर में सीड़ी मार्ग के दोनो ओर एक दूसरे से सटी 500 से अधिक दुकानें लगी हैं। इन सभी दुकानों में धूप से यात्रियों को बचाने के लिए पॉलीथिन के तंबू सामने बांध रखे हैं। जिन्हें रात के समय दुकान बंद करने के लिए पट के रूप में उपयोग किया जाता है। इन सभी दुकानोंं पर पॉलीथिन के तंबू बंधे हुए थे। जानकारी के अनुसार सोमवार की सुबह के समय अज्ञात कारणों से पहाड़ी पर दुकानों में आग लग गई और इसकी चपेट में डेढ़ दर्जन से अधिक दुकानें चपेट में आ गई।

इनकी दुकानें आई चपेट में
आगजनी में आगजनी हुई उनमें शिवकुमार, देवेंद्र केवट, कैलाश, अरविंद, भीमसिंह, बलराम केवट, बबलू केवट, सुषमा बाई, शंकरलाल, कामनी देवी, गणपत केवट, रघुवीर, मोनू जोशी, गोलू सिसोदिया, रामविलास केवट, जगदीश नाविक, विशाल नाविक सहित १८ दुकानदारों की दुकानें थी। सबसे अधिक नुकसान गणपत केवट और मनोज केवट की दुकान में बताया गया है। दोनों दुकानों पर लगभग 2 लाख से अधिक तथा शेष 16 दुकानोंं में 30 से 50 हजार का नुकसान होने की बात सामने आई है।

कैसे लगी आग होगी जांच
मां विजयासन धाम मंदिर के सीडिय़ों से लगी इन दुकानों के पीछे बिजली कंपनी का ट्रांसफार्मर लगा हुआ है। इस ट्रांसफार्मर में चारों तरफ जाली नहीं होने और लूज फिटिंग होने के कारण आए दिन चिंगारियां निकलती रहती थी। ट्रांसफार्मर के नीचे, पॉलीथिन, कागज अन्य कचरा बड़ी मात्रा में होने के आगजनी का कारण शार्ट सर्किट की बात सामने आ रही है। आगजनी की घटना के बाद अधिकारियों ने मौके पर पहुंचकर निरीक्षण किया। आग का रुख सामने की ओर होता तो बड़ी दुर्घटना से इंकार नहीं किया जा सकता है। वहीं आग के दोनों तरफ फैलने से 200 से अधिक दुकानें सहित रोप-वे कंपनी को भारी नुकसान हो सकता था। समय रहते आग पर नियंत्रण पाने से बड़ी दुर्घटना टल गई।

बेखौफ पॉलीथिन का उपयोग
मां विजयासन धाम सलकनपुर में पॉलीथिन का उपयोग पूर्ण रूप से प्रतिबंधित है। इसके बाद भी सभी दुकानों के पीछे बड़ी संख्या में कागज, खाली पन्नी, पेड़ के पत्ते कू ड़ा करकट भारी संख्या में जमा है। इन्हीं के कारण हर वर्ष दुकानों में आग लगती है। प्रशासन और दुकानदारों की लापरवाही के कारण यह आग की घटनाएं हर वर्ष घटित होती है। थोड़ी सी सावधानी और सफाई इस दुर्घटना से लोगों को बचा सकती है, लेकिन न तो प्रशासन और न ही दुकानदार इस ओर ध्यान दे रहे हैं। जबकि एनजीटी की रोक के बाद भी मां विजयासन धाम सलकनपुर में पहाड़ी पर भारी संख्या में पॉलीथिन का उपयोग किया जा रहा है।

आसिफ सिद्दीकी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned