scriptMoong is becoming a better source of earning money | पैसा कमाने का बेहतर सोर्स बन रही मूंग, जानिये कैसे मिल रहा लाभ | Patrika News

पैसा कमाने का बेहतर सोर्स बन रही मूंग, जानिये कैसे मिल रहा लाभ

यह फसल अतिरिक्त आय का जरिया बनने के साथ आर्थिक स्थिति सुधारने में मददगार बनी है। यही वजह है कि चार साल में मूंग फसल का रकबा 36 हजार हेक्टेयर बढ़कर 75 हजार हेक्टेयर हो गया है।

सीहोर

Published: March 28, 2022 10:36:13 am

सीहोर/शाहगंज. जिले में ग्रीष्म कालीन (गर्मी) सीजन में किसानों का हरा मूंग फसल की तरफ तेजी से रुझान बड़ा है। यह फसल उनके लिए अतिरिक्त आय का जरिया बनने के साथ आर्थिक स्थिति सुधारने में मददगार बनी है। यही वजह है कि चार साल में मूंग फसल का रकबा 36 हजार हेक्टेयर बढ़कर 75 हजार हेक्टेयर हो गया है।

पैसा कमाने का बेहतर सोर्स बन रही मूंग, जानिये कैसे मिल रहा लाभ
पैसा कमाने का बेहतर सोर्स बन रही मूंग, जानिये कैसे मिल रहा लाभ

दो गुना हुआ मूंग का रकबा
किसान इस समय मूंग फसल की बोवनी करने में जुटे हैं, जिससे 15 अप्रेल तक शत प्रतिशत बोवनी होने का अनुमान है। कृषि विभाग के अनुसार साल 2019 में सीहोर जिले में मूंग का रकबा 39 हजार हेक्टेयर था, जो इस साल बढ़कर 75 हजार हेक्टेयर हो गया है। नर्मदा क्षेत्र के बुदनी, नसरुल्लागंज, रेहटी में सबसे अधिक करीब 65 हजार रकबा है, जबकि शेष 10 हजार रकबा अन्य जगह का है। किसानों ने रबी फसल की कटाई कर खेत खाली होते ही 15 मार्च से मूंग की बोवनी शुरू कर दी थी। अब तक 12 हजार हेक्टेयर में बोवनी कार्य हो गया है।

65 दिन में हो जाता है तैयार
कृषि विभाग के अनुसार जिन किसानों के पास गर्मी के मौसम में पर्याप्त पानी के इंतजाम है वह खरीफ और रबी के साथ तीसरी फसल में मूंग की पैदावार ले सकता है। यह फसल बोवनी बाद 60 से 65 दिन में पककर तैयार हो जाती है। इसका अधिकतम उत्पादन 15 क्विंटल तक होता है। मूंग को मंडियों में बेचने पर भाव भी अच्छे मिलते हैं। पिछले साल सरकार ने समर्थन मूल्य केंद्रों पर ही 7 हजार 196 रुपए प्रति क्विंटल के भाव से मूंग उपज को खरीदा था। जिस तरह इस समय तेजी से किसान बोवनी में जुटे हैं, उससे 15 अप्रेल तक लक्ष्य के हिसाब से बोवनी पूरी हो जाएगी। कि सान कई वैरायटी के मूंग की बोवनी कर रहे हैं।


एक एकड़ में 10 हजार रुपए का खर्च
कृषि विभाग के एडीडीए आरएस जाट बताते हैं कि मूंग की खेती बहुत कम समय की रहती है। वहीं, दूसरा कोई किसान मूंग की खेती करता है तो महज पर एकड़ 10 हजार रुपए का मात्र खर्चा आता है। बोवनी के समय ही 8 से 12 किलो बीज में काम हो जाता है। बोवनी बाद कीटनाशक दवा आदि का छिड़काव और तीन से चार बार सिंचाई करना पड़ती है। यह फसल बहुत कम खर्च में किसानों को अच्छा फायदा देती है।

एमएसपी रेट 7275 रुपए निर्धारित
सरकार ने इस बार मूंग का एमएसपी रेट 7275 रुपए निर्धारित किया है। हालांकि इस साल समर्थन केंद्र पर मूंग खरीदी को लेकर कोई दिशा निर्देश, आदेश नहीं आया है, लेकिन कृषि उपज मंडियों में भी मूंग अ'छे भाव में बिक रहा है। अभी मंडियों में मूंग की आवक कम हो रही है, लेकिन जून महीने में उपज आने के बाद तेजी से बढ़ेगी। सीहोर, आष्टा और इछावर विकासखंड में भी पिछले साल से किसान मूंग की खेती करने लगे हैं।

यह भी पढ़ें : धर्म परिवर्तन मामला : शादी के बाद नहीं मानी युवती तो करने लगे मारपीट

एक तो कम समय वाली फसल है और दूसरा भाव भी अच्छा मिलता है। इस कारण से ही किसानों का रुझान मूंग फसल की तरफ बढ़ा है। इस बार ही मूंग का एमएसपी रेट 7275 रुपए निर्धारित हुआ है। ऐसे में यह फसल किसानों के लिए फायदेमंद साबित हो रही है।
आरएस जाट, एडीडीए कृषि विभाग सीहोर

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

1119 किलोमीटर लंबी 13 सड़कों पर पर्सनल कारों का नहीं लगेगा टोल टैक्सयहाँ बचपन से बच्ची को पाल-पोसकर बड़ा करता है पिता, जैसे हुई जवान बन जाता है पतिशुक्र का मेष राशि में गोचर 5 राशि वालों के लिए अपार 'धन लाभ' के बना रहा योगराजस्थान के 16 जिलों में बारिश-आंधी व ओलावृ​ष्टि का अलर्ट, 25 से नौतपाजून का महीना इन 4 राशि वालों के लिए हो सकता है शानदार, ग्रह-नक्षत्रों का खूब मिलेगा साथइन बर्थ डेट वालों पर शनि देव की रहती है कृपा दृष्टि, धीरे-धीरे काफी धन कर लेते हैं इकट्ठा7 फुट लंबे भारतीय WWE स्टार Saurav Gurjar की ललकार, कहा- रिंग में मेरी दहाड़ काफीशुक्र देव की कृपा से इन दो राशियों के लोग लाइफ में खूब कमाते हैं पैसा, जीते हैं लग्जीरियस लाइफ

बड़ी खबरें

जापान में पीएम मोदी का जोरदार स्वागत, टोक्यो में जापानी उद्योगपतियों से की मुलाकातज्ञानवापी मस्जिद मामलाः सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हुई एक और याचिका, जानिए क्या की गई मांगऑक्सफैम ने कहा- कोविड महामारी ने हर 30 घंटे में बनाया एक नया अरबपति, गरीबी को लेकर जताया चौंकाने वाला अनुमानसंयुक्त राष्ट्र की चेतावनी: दुनिया के पास बचा सिर्फ 70 दिन का गेहूं, भारत पर दुनिया की नजरये हमारा वादा है, ताइवान पर चीनी हमले का अमरीका देगा सैन्य जवाब: US President Joe Biden"मेरे लिए ये कोई नई बात नहीं है'- IPL में खराब प्रदर्शन को लेकर Rohit Sharma की प्रतिक्रियासिद्धू की जिद ने उन्हें पहुंचाया अस्पताल, अब कोर्ट में सबमिट होगी रिपोर्टबिहार में भीषण सड़क हादसा, पूर्णिया में ट्रक पलटने से 8 लोगों की मौत
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.