नहीं मिल रहा पर्याप्त पानी, भटकने को मजबूर रहवासी

नागरिकों को भुगतना पड़ रही है परेशानी ,दो दिन छोड़कर कर रही नपा शहर में पानी सप्लाई

By: Anil kumar

Updated: 10 Mar 2019, 11:35 AM IST

सीहोर। शहर में प्यास बुझाने पानी की व्यवस्था करने में नागरिकों के सामने मशक्कत का दौर शुरू हो गया है। स्थिति यह बन गई है कि नलों में पर्याप्त पानी नहीं आने से उनको दूर दराज तक भटकना पड़ रहा है। उसके बाद भी पर्याप्त पानी की व्यवस्था नहीं होने से चेहरे पर मायूसी देखने को मिल रही है।


जनवरी महीने से शहर में खड़ा हुआ जलसंकट मार्च आने तक बड़ा रूप ले चुका है। जब नागरिकों को प्यास बुझाने के पानी की व्यवस्था करने में पसीना बहाना पड़ रहा है। यह स्थिति अधिकांश वार्ड में देेखने को मिल रही है। नागरिकों का कहना है कि नगर पालिका जितना पानी सप्लाई करती है,उससे पहले से ही गुजारा नहीं चल रहा है। उसमें भी कई बार तो नियमित नलों में पानी नहीं आने से समस्या बढ़ती जा रही है। उल्लेखनीय है कि अभी पूरा गर्मी का मौसम बाकी है। ऐसे में आगामी दिनों में क्या स्थिति बनेगी अंदाजा लगाया जा सकता है।

कहां है सबसे ज्यादा समस्या
वर्तमान में दहशरावालाबाग, इंग्लिशपुरा, ग्वालटोली, गंज सहित अन्य वार्ड की कॉलोनियों में पानी की समस्या है। दशहरावाला बाग में ज्यादा स्थिति खराब है। यहां के लोगों को एक-दो किमी दूर से पानी भरकर लाना पड़ रहा है। पाइप लाइन नहीं होने से नागरिक दूर दराज के हैंडपंप, ट्यूबवेल पर आश्रित होकर रह गए हैं।

कौनसे तालाब में कितना है पानी
जमोनिया तालाब की २७.५ फीट पानी की क्षमता है, जिसमें इस समय १५.५ पानी बचा है। इसी तरह से भगवानपुरा की २३ फीट क्षमता है, जिसमें ११ फीट और काहिरी डेम की २० फीट है, जिसमें ७ फीट के करीब ही पानी बचा है। तीनों ही प्रमुख जलस्त्रोत का पानी लगातार पानी नीचे गिरता जा रहा है। बता दे कि नगर में सवा लाख से अधिक आबादी होने के साथ करीब १५ हजार कनेक्शन है।

अन्य शहर व गांवों में भी स्थिति खराब
जिले के आष्टा और जावर नगर में भी पानी को लेकर हायतौबा मची हुई है। आष्टा की प्यास बुझाने में अहम पार्वती पुल के पास पूरी तरह से सुखकर मैदान में बदल गई है। वही जावर नगर में नपं एक सप्ताह में पानी सप्लाई कर रही है। पिछले दिनों कलेक्टर ने भी इन जगहों पर जाकर निरीक्षण कर जलसंकट की स्थिति को जाना था और इससे निपटने की बात कही थी। वहीं निजी बोर का भी अधिग्रहण करने का कहा गया था। उल्लेखनीय है कि इसी तरह से गांवों में भी जलसंकट तेजी से बढ़ता जा रहा है। लोगों को एक दो किमी दूर से पानी लाकर काम चलाना पड़ रहा है। इसमें ही उनका पूरा समय बर्बाद हो रहा है।
सप्लाई कर रहे हैं


हमारी तरफ से नगर में दो दिन छोड़कर पानी सप्लाई किया जा रहा है। कभी कभार जरूर पाइप लाइन में लीकेज आदि की समस्या उत्पन्न होने से दिक्कत आ जाती है। उसे ठीक कर दिया जाता है।
एनसी राठौर, जल शाखा प्रभारी सीहोर

Anil kumar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned