ठूंठ में तब्दील हो रहे सागौन के जंगल

ठूंठ में तब्दील हो रहे सागौन के जंगल

Radheshyam Rai | Publish: Apr, 17 2019 01:52:48 PM (IST) | Updated: Apr, 17 2019 01:52:49 PM (IST) Sehore, Sehore, Madhya Pradesh, India

वन अफसरों की लापरवाही के चलते माफिया काट रहे सागौन की हरे-भरे पेड़

सीहोर. हरियाली का प्रतीक कहे जाने वाले जंगलों से धीरे-धीरे हरियाली छिन रही है। क्षेत्र में फैली वन संपदा का इस समय भरपूर मात्रा में दोहन किया जा रहा है। जिससे सरकार को तो राजस्व की हानि हो रही है। वहीं वन संपदा भी नष्ट होती जा रही है। वन विभाग के चेक पोस्टों को शो-पीस साबित कर सागौन माफिया हरियाली को नष्ट कर ट्रकों से इमारती लकड़ी का अवैध परिवहन कर रहे हैं। लकड़ी चोरों के लालच और वन विभाग की लचरता के कारण सघन जंगल मैदान बनते जा रहे हैं।

रेंज के वीरपुर डेम क्षेत्र में वृक्षों के कटाई का सिलसिला थम नहीं रहा है। वीरपुर डेम क्षेत्र में सागौन माफिया काफी सक्रिय नजर आ रहे हैं। ग्रामीण बताते है कि वनविभाग की इस क्षेत्र में पूरी व्यवस्था बेलगाम है जंगल जाने के नाम पर विभागीय कर्मचारी घरों में ही आराम फरमाते और चेकिंग पोस्ट पर ताला लगा रहता है। प्रतिदिन लाखों रुपए मूल्य की सागौन का अवैध रूप से परिवहन होता है। लकडिय़ों की यह अवैैध सप्लाई ग्रामीणों की नजर में है लेकिन न जाने क्यों यह पूरा मामला वन विभाग के आला अफसरों की नजर से दूर है।

ग्रामीण बताते हैं कि अवैध रूप से वृक्षों की कटाई और लकड़ी की सप्लाई का यह सिलसिला आगे भी यदि ऐसे ही जारी रहा तो वह दिन अब दूर नही जब वीरपुर डेम क्षेत्र को सघन जंगलों से हाथ धोना पड़े। ग्रामीण बताते हैं कि रेंज के आबिदाबाद, सेवनिया, जीवनताल, गूलरछापरी, कलमखेड़ा, सारस, चिकलपानी, बावडयि़ाखाल, मगरपाठ, झालपीपली, लोहापठार आदि गांवों से सटे जंगल में सागौन माफिया वर्षों से मंगल कर रहा है, लेकिन वन विभाग के कर्ताधर्ता जानकर भी अंजान बने हुए हैं।

ज्ञातव्य है कि इछावर तहसील में ग्राम वीरपुर डेम, कोलार डेम की पहचान सघन जंगलों से है इस गांव के आसपास का जंगल बारिश में मिनी पचमड़ी का दृश्य पैदा करता है लोग इस क्षेत्र के प्राकृतिक सौंदर्य के कायल हैं, लेकिन सागौन माफियाओं की सक्रियता के चलते यह वन धीरे-धीरे मैदान में तब्दील होते जा रहे हैं। वहीं वन विभाग के रेंजर का कहना है कि समय-समय पर कार्रवाई की जाती है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned