scriptPower cuts in the state during day as well as night, people preparing | प्रदेश में दिन के साथ रात में भी बिजली कटौती, आंदोलन की तैयारी में लोग | Patrika News

प्रदेश में दिन के साथ रात में भी बिजली कटौती, आंदोलन की तैयारी में लोग

लो वोल्टेज और बिजली कटौती ने जीना किया मुश्किल, फॉल्ट सुधारने कुछ देर बंद की जाती है बिजली

सीहोर

Published: May 17, 2022 04:19:14 pm

सीहोर. प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में अघोषित बिजली कटौती से लोग परेशान हैं। वहीं गर्मी के चलते लोग घरों में कैद रहने को मजबूर है। जिले के नसरुल्लागंज में हर कभी हो रही बिजली कटौती और लो वोल्टेज की समस्या से लोग परेशान हैं। कटौती से कूलर, पंखे बंद होने से घरों में बैठना मुश्किल हो रहा है तो वहीं नियमित मूंग फसल में सिंचाई नहीं होने से वह अलग सूखने की स्थिति में पहुंचने लगी है।

power_cut_in_the_state_during_the_day_as_well_as_at_night.png

इस समस्या को दूर करने लोग लंबे समय से बिजली कंपनी को अवगत करा रहे हैं, लेकिन लापरवाही का आलम यह है कि कोई उनकी सुनने को तैयार नहीं है। बिजली कंपनी बिजली संबंधी समस्या दूर करने में अनदेखी करती है, लेकिन बिल वसूली पर सबसे अधिक फोकस रहता है। इसके लिए कनेक्शन काटने तो कुर्की तक की कार्रवाई की जाती है। लोगों का कहना है कि कंपनी को उपभोक्ताओं की जो समस्या है उसका समय पर निराकरण करना चाहिए, लेकिन वर्तमान में ऐसा नहीं हो रहा है।

इसलिए जल्द ही धरना, प्रदर्शन या फिर आंदोलन करने जैसा कदम उठाना पड़ेगा।बता दे कि इस समस्या से पूरा जिला भुगत रहा है।कंपनी लोड शेडिंग तो कभी अन्य बात कहकर कटौती कर रही है। गर्मी के मौसम में बिजली की खपत बड़ी है। लोड शेडिंग या फिर कभी कभार लाइन में आए फॉल्ट को सुधारने के लिए ही कुछ देर बिजली सप्लाई बंद की जाती है। इसके अलावा नियमित बिजली सप्लाई की जा रही है।

वहीं बिजली के लो वोल्टेज के कारण नलों में पानी ठीक से नहीं आ रहा है। बिजली रहने पर भी वोल्टेज इतना कम रहता है कि घरों के कूलर, पंखे तक नहीं चल पाते हैं। लोगों ने बताया कि कटौती से कूलर, पंखे शोपीस बन जाते हैं, वहीं बिजली रहने पर लो वोल्टेज पर उनको चलाया तो खराब होने की सब से अधिक आशंका रहती है। सुदामापुरी निवासी अंकुश खंडेलवाल ने बताया कि आठ दिन से सुदामापुरी में कम वोल्टेज आ रहा है। बिजली कंपनी अधिकारी, कर्मचारियों को इससे अवगत कराया, लेकिन समस्या जस की तस है।

क्षेत्र में अधिकांश किसानों ने ग्रीष्मकालीन मूंग फसल को खेतों में बोया है। इस फसल में गर्मी में समय पर सिंचाई करना जरूरी रहती है, लेकिन कटौती से यह काम नहीं हो रहा है। ट्यूबेल थोड़ी बहुत चलती है और बिजली जाने के बाद फिर बंद हो जाती है। इससे मूंग फसल सूखने की स्थिति में पहुंचने लगी है। किसानों का कहना है कि बिजली कटौती बंद नहीं हुई तो मूंग की पैदावार होना मुश्किल है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

Weather. राजस्थान में आज 18 जिलों में होगी बरसात, येलो अलर्ट जारीसंस्कारी बहू साबित होती हैं इन राशियों की लड़कियां, ससुराल वालों का तुरंत जीत लेती हैं दिलशुक्र ग्रह जल्द मिथुन राशि में करेगा प्रवेश, इन राशि वालों का चमकेगा करियरउदयपुर से निकले कन्हैया के हत्या आरोपी तो प्रशासन ने शहर को दी ये खुश खबरी... झूम उठी झीलों की नगरीजयपुर संभाग के तीन जिलों मे बंद रहेगा इंटरनेट, यहां हुआ शुरूज्योतिष: धन और करियर की हर समस्या को दूर कर सकते हैं रोटी के ये 4 आसान उपायछात्र बनकर कक्षा में बैठ गए कलक्टर, शिक्षक से कहा- अब आप मुझे कोई भी एक विषय पढ़ाइएUdaipur Murder: जयपुर में एक लाख से ज्यादा हिन्दू करेंगे प्रदर्शन, यह रहेगा जुलूस का रूट

बड़ी खबरें

SpiceJet की एक और फ्लाइट में खराबी, मुंबई में प्लेन की इमरजेंसी लैंडिंग, 17 दिन में तकनीकी खराबी की 7वीं घटनायूपी में प्रशासनिक फेरबदल, 4 IAS और 3 PCS किए गए इधर से उधरउत्तर प्रदेश संयुक्त प्रवेश परीक्षा बीएड परीक्षा-2022: जाने परीक्षा केंद्र के लिए बनाए गए नियमGujarat: एमई, एमफार्म में प्रवेश के लिए आज से शुरू होगा रजिस्ट्रेशनएंकर रोहित रंजन को रायपुर पुलिस नहीं कर पाई गिरफ्तार, अपने ही दो कर्मचारी के खिलाफ जी न्यूज़ ने दर्ज कराई FIRMausam Vibhag alert : मौसम विभाग का यूपी के कई जिलों में 9-12 जुलाई तक भारी बारिश का अलर्टबाप बोला, मेरे बेटे ने दोस्त के साथ मिलकर कर दी अपनी मां की हत्याGanpati Special Train: सेंट्रल रेलवे ने किया बड़ा एलान, मुंबई से चलेगी 74 गणपति महोत्सव स्पेशल ट्रेन, देखें पूरा शेड्यूल
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.