मानसून आने में कुछ दिन बाकी: नहीं दूर हुई समस्या, कॉलोनियों में बनेंगे बाढ़ के हालात

मानसून आने में कुछ दिन बाकी: नहीं दूर हुई समस्या, कॉलोनियों में बनेंगे बाढ़ के हालात

Anil Kumar | Updated: 12 Jun 2019, 02:22:00 PM (IST) Sehore, Sehore, Madhya Pradesh, India

नालों की नहीं सुधरी दशा तो कहीं पर नालियों का नहीं हुआ निर्माण

सीहोर। शहर के कई वार्ड की कॉलोनियों में उथल-पुथल नाले, नालियां और उखड़ी सड़क बारिश दस्तक के साथ फिर नागरिकों का इम्तिहान लेगी। प्रशासन ने इनसे पैदा होनी वाली समस्या से निपटने बैठक आयोजित कर प्लानिंग तैयार की है, लेकिन धरातल पर नहीं उतर पाई है। जिससे तेज बारिश होने पर बाढ़ के हालात बन सकते हैं। इस समस्या को देखते हुए वार्ड क्रमांक 23 की महिलाएं तो कलेक्ट्रेट पहुंच गई। यहां कलेक्टर को समस्या से अवगत कराने के साथ ही उसका निराकरण करने की बात कहीं है।


घर में पानी भराएगा
जिस परेशानी से नगर के नागरिक कई साल से जूझते आ रहे हैं वहीं कुछ दिन बाद वापस उनके सामने आने वाली है। बारिश दस्तक देते ही निकासी के अभाव में कॉलोनियों में नालों का जीर्णोद्धार नहीं होने से घर में पानी भराएगा।

 

अवगत करा चुके है अफसरों को
नगर में करीब 6 जगह ऐसी है जहां बारिश के चार महिने लोगों के लिए कठिनाई भरे निकलते हैं। नागरिक कई बार अफसर जनप्रतिनिधियों को इस संबंध में अवगत करा चुके हैं, लापरवाही की बात यह रही कि कुछ नहीं हुआ है। सबसे ज्यादा दिक्कत वर्षो पुराने नाले, नाली, सड़क नहीं बनना और उखड़ी सड़क से हो रही है।

 

प्रशासन की क्या है तैयारी
अधिकारियों की माने तो बारिश में आपातकालीन स्थिति से निपटने होमगार्ड जवानों को निर्देश दिए हैं। वहीं लाइफ सपोर्टिंग सिस्टम की व्यवस्था कर शहर में सीएमओ और गांव में पटवारियों को जलभराव वाले स्थान को देखने की बात कहीं है। तहसीलदार की माने तो शहर में चिन्हित खतरनाक स्पाट पर भी व्यवस्था करने सीएमओ को निर्देशित किया है।

 

 

पत्रिका ने जाने हाल तो फूटा गुस्सा
मंगलवार को पत्रिका टीम ने प्रशासन और नगरपालिका की तैयारी को लेकर कॉलोनियों में पहुंचकर हालात जाना। इसमें कई वार्ड में बेकार स्थिति सामने आई। टीम कॉलोनियों में पहुंची तो नागरिकों का अफसरों के प्रति गुस्सा साफ दिखाई दे रहा था। वार्ड 23 अटल बिहारी कॉलोनी के लोगों ने तो नाले को बताकर प्रशासन और नगर पालिका के खिलाफ नारेबाजी की।


तीन कॉलोनी जिसमें सबसे ज्यादा बारिश में रहता है खतरा -
1. कॉलोनी का नाम- ब्रम्हपुरी
वार्ड क्रमांक- एक व दो
आबादी- 3000
समस्या- नाली, रोड नहीं बना
क्या बनती है स्थिति- निकासी के अभाव में बारिश का पानी घरों में भर जाता है। जिससे उनके सामान खराब हो जाते हैं। कॉलोनी के कैलाश यादव ने बताया कि इस समस्या को लेकर 20 साल से शासन-प्रशासन को अवगत कराया, फिर भी किसी ने ध्यान नहीं दिया। पिछले साल भी घर में पानी भर गया था।
तैयारी- अभी कुछ नहीं

 

 

2. कॉलोनी का नाम- अटल बिहारी कॉलोनी मनुबेन स्कूल के पीछे
वार्ड क्रमांक- 23
आबादी- 500
प्रशासन-समस्या- नाला नहीं बनना
क्या बनती है स्थिति- कॉलोनी में लोगों के घरों के बीच से करीब पांच फीट चौड़ा यह नाला निकालने से 12 महीने इससे वह परेशान रहते हैं। उनकी परेशानी बारिश के मौसम में उस समय बढ़ जाती है जब नाला उफान आता है। इससे बारिश का पानी घर में भर जाता है। बच्चे भी इसमें अक्सर गिरते रहते हैं।

तैयारी- अभी कुछ नहीं

 

3. कॉलोनी का नाम- फोकटपुरा (इंग्लिशपुरा)
वार्ड क्रमांक- 06
आबादी- 600
समस्या- नाले का निर्माण नहीं होना
क्या बनती है स्थिति- इस कॉलोनी में से निकले इस नाले के साइड में बीच में बाउंड्रीवाल नहीं बनाई है। जिससे बीच की जगह से नाले का पानी बारिश में फैलकर कॉलोनी की सड़क पर आ जाता है। इसमें कॉलोनी की सड़क पहले ही डूब जैसी होने से बाढ़ के हालात बन जाते हैं। पिछले साल ऐसा ही हुआ था।
तैयारी- अभी कुछ नहीं


क्या बोले अधिकारी
बारिश के मौसम में आने वाली समस्या से निपटने नगरीय क्षेत्र में सीएमओ और ग्रामीण क्षेत्र में पटवारी को निर्देश दिए हैं। जिन कॉलोनी में ज्यादा समस्या है उसे दूर किया जाएगा।
सुधीर कुशवाहा, तहसीलदार सीहोर

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned