छह लाख की डकैती डालने वालों की गिरफ्तारी पर 10 हजार का इनाम

आरएके कॉलेज कैम्पस में प्रोफेसर के घर में घुसकर २५ तोला सोने के गहने ले गए थे बदमाश, डीआईजी देहात ने किया घटना स्थल का निरीक्षण

By: brajesh tiwari

Published: 09 Dec 2017, 02:33 PM IST

सीहोर। आरएके कॉलेज कैम्पस में निवास करने वाले प्रोफेसर के घर हुई 25 तोला सोने के गहने की डकैती के मामले में शुक्रवार को डीआईजी देहात केबी शर्मा सीहोर पहुंचें।डीआईजी ने मामले की गंभीरता को देखते हुए मौका मुआयना भी किया।

इस दौरान घटनास्थल के हर पहलू की बारीकी से जांच और परीक्षण के निर्देश के देने के साथ ही बदमाशों द्वारा घटनास्थल पर छोड़े गए कोट को भी देखा, लेकिन डकैती के दूसरे दिन भी पुलिस के हाथ बदमाशों के संबंध में पुख्ता सुराग हाथ नहीं लगे हैं। मामले के आरोपियों तक जल्द पहुंचने पुलिस ने दस हजार रुपए के इनाम की घोषणा कर दी है।

रफी अहमद किदवई कॉलेज के प्रोफेसर अशोक राव टिकले के घर अज्ञात हथियार बंद बदमाशों द्वारा 25 तोला सोने की डकैती के मामले में पुलिस के हाथ दूसरे दिन भी खाली रहे। पुलिस दूसरे दिन भी किसी नतीजे तक नहीं पहुंच सकी। मामले की गंभीरता को देखते हुए डीआईजी देहात केबी शर्मा, एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा, एएसपी एपी सिंह ने शुक्रवार को घटनास्थल का मौका मुआयना किया। एसपी सिद्धार्थ बहुगुणा ने बताया कि मामले में बदमाशों का सुराग बताने वाले और आरोपियों को गिरफ्तार कराने वालों को 10 हजार रुपए इनाम की घोषणा की गई। एसपी ने बताया कि पुलिस हर पहलू पर जांच कर रही है।

छोटी बेटी घर में रखकर गई थी गहने
कृषि वैज्ञानिक प्रोफेसर अशोक राव टिकले ने बताया कि उनके घर रेकी करने से इंकार नहीं किया जा सकता है। वह घर पर सोने के इतने गहने नहीं रखते हैं। उनकी पत्नी माला के गहने भी बैंक लाकर्स में रखे हैं। घर पर उनकी छोटी बेटी शिवांगी के गहने रखे थे। छोटी बेटी कुछ दिन पहले विवाह समारोह में शामिल होने आई थी। बिटिया को 24 और 27 दिसंबर को भी विवाह समारोह में शामिल होना था। इसलिए बार-बार गहने लाने-ले जाने के चक्कर से बचने उसने ये गहने यहां रखकर अपने ससुराल चली गई थी।

स्पेशल टीम गठित
डकैती के बदमाशों की गिरफ्तारी के लिए एसपी ने स्पेशल टीम का भी गठन कर दिया है। इनमें कोतवाली टीआई अजय नायर, मंडी टीआई प्रदीप गुर्जर के अलावा अन्य एसआई व पुलिसकर्मियों का शामिल किया गया है।

डेरों की ली तलाशी
डीआइजी के निरीक्षण के अलावा पुलिस द्वारा करीब आधा दर्जन डेरों की तलाशी भी। कल रात को ली गई इन डेरों में बाहर से आकर रहने वाले लोगों की पतारसी की गई। टोल टैक्स नाकों के कैमरों पर भी रिर्काडिंग को भी टटोला गया, ताकि संदिग्ध अवस्था में कोई मिल सके, इसके अलावा साइबर सेल की भी मदद ली जा रही।पुलिस द्वारा घटना के पहले और घटना के बाद के समय की जानकारी लेने के लिए मोबाइल लोकेशन ट्रेकिंग सिस्टम की भी मदद ली जा रही है।

घटना स्थल से बरामद कोट का भी किया निरीक्षण
डीआईजी ने घटनास्थल पर प्रोफेसर के घर के अलावा पूरे परिसर का निरीक्षण किया और हर पहलू पर जांच के निर्देश दिए गए। डकैती की वारदात के बाद बदमाशों द्वारा घटनास्थल पर छोडक़र गए कोट का भी डीआईजी ने निरीक्षण किया। पुलिस कोट से साक्ष्य जुटाने का प्रयास कर रही है, लेकिन बदमाशों ने कोट पर लगी रहने वाली नेम स्लिप को भी गायब कर दिया है। इसके कारण पुलिस अभी यह तय नहीं कर पा रही है कि बदमाश धोखे से कोट भूल गए या फिर पुलिस को उलझाने के लिए उन्होंने इसे छोड़ा गया है।

 

Show More
brajesh tiwari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned