लूट के मामले में जिस कार को पुलिस दो दिन से ढूंढ रही वह थाना परिसर में ही खड़ी मिली

लूट के मामले में जिस कार को पुलिस दो दिन से ढूंढ रही वह थाना परिसर में ही खड़ी मिली
Maruti standing in police station premises

Vishal Yadav | Updated: 04 Aug 2019, 10:55:12 AM (IST) Sendhwa, Barwani, Madhya Pradesh, India

जिस कार को पुलिस में बताया था डकैतों ने चुराई, वह थाना परिसर में ही खड़ी मिली, परिजनों का आरोप पुलिस झूठे केस में फंसा रही है, व्यापारी के साथ हुई डकैती का मामला

बड़वानी/सेंधवा.
दो दिन पहले नगर के बहुचर्चित लूट कांड के बाद सिटी थाना पुलिस के अधिकारी कार और आरोपितों की तलाश में जगह-जगह दबीश दे रहे है, लेकिन उन्हें इस बात की जानकारी नहीं है कि लूटी गई कार कहीं और नहीं उन्हीं के थाना परिसर में बिल्कुल सुरक्षित खड़ी है। लूटी गई कार के थाना परिसर में मिलने के बाद पुलिस द्वारा बताई गई कहानी और पुलिस कार्यप्रणाली की पारदर्शिता पर सवाल खड़े हो रहे है। वहीं लूट के मुख्य आरोपी बताया जा रहा है। अनूप शर्मा के पिता ने पुलिस पर आरोप लगाया है कि अधिकारी उनके बेटे को बेवजह अपराध में घसीट रहे है। जबकि उसका उससे कोई लेना देना नहीं है।
शुक्रवार को सिटी थाना पुलिस ने नगर के 5 युवाओं पर एक व्यापारी को हथियार दिखाकर कार लूटने का मामला दर्ज किया था। आरोप के दौरान पुलिस ने अनूप शर्मा गोविंद कुशवाह, अजय वाघ, राहुल और हैदर नामक युवकों पर लूट का मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाश शुरू की थी। पुलिस ने पिछले 2 दिन में कई जगह दबीश दी, लेकिन ना आरोपितों का पता चला ना ही कार बरामद हो पाई। पुलिस द्वारा बताई गई इस कहानी की विश्वसनीयता पर उस समय सवाल खड़े हो गए। जब लूट में चोरी हुई कार क्रमांक एमपी 09 सीएन 0564 सिटी थाना परिसर के पुराने भवन के पीछे सुरक्षित मिली। आरोपितों के परिजनों ने भी कार की थाने में ही कड़ी होने का पता लगाया। कार को कवर से ढक दिया गया था। इससे वह किसी को दिखाई नहीं दे। इस कार का नंबर जब ट्रांसपोर्ट विभाग की वेबसाइट पर तलाश किया गया, तो ये कार विपूल पिता नंदलाल गोयल निवासी सदर बाजार के नाम पर रजिस्टर्ड है। विपूल गोयल वही व्यापारी है। जिसने शुक्रवार को लूट की शिकायत दर्ज करा कर पुलिस को 5 युवाओं के नाम बताए थे। इसका मतलब ये हुआ कि जो कार पुलिस तलाश कर रही है, वह थाना परिसर में ही खड़ी है। पुलिस अधिकारी जिस कार को तलाशने के लिए जगह-जगह दबीश दे रहे है। वह कार यदि थाना परिसर में ही खड़ी मिल जाए तो पिुर पुलिस की उस कहानी पर कौन भरोसा करेगा। इसमें उन्होंने 5 युवाओं द्वारा एक व्यापारी को हथियार दिखाकर कार लूटने का प्रकरण दर्ज कर दिया। पांचों आरोपितों के परिजन पुलिस पर आरोप लगा रहे है कि पुलिस लड़कों को झूठे मुकदमें में फंसा रही है।
आरोपी का भाई बोला पुलिस ने आरोपी क्यों बनाया पता नहीं
पुलिस ने जिन युवाओं को कार लूट के मामले में आरोपित बता रही है। उनके परिजनों ने कहा कि पुलिस युवाओं को झूठे आरोप में फंसाने की कोशिश की है। लूट के आरोपी अनूप शर्मा के भाई हेमंत शर्मा ने कहा कि उनके भाई को पुलिस फंसा रही है। जिस कार की लूट का प्रकरण दर्ज किया गया है, वह कार तो थाना परिसर में ही खड़ी है। शर्मा ने कहा जिस विपूल गोयल से कार लूट की खबर मिली है। वह तो अनूप का परिचित है। हमें समझ नहीं आ रहा है कि पुलिस अधिकारी ऐसा क्यों कर रहे है। परिजन ने कहा की पुलिस विभाग के उच्च अधिकारियों को मामले से अवगत कराया जाएगा।
वर्जन...
लूट के मामले में पांचों आरोपितों की तलाश की जा रही है। शुक्रवार व शनिवार को कई जगह दबीश दी है, लेकिन आरोपित और कार का पता नहीं चला है। पुलिस जल्द आरोपितों को गिरफ्तार कर लेगी।
-तुरसिंग डावर, शहर थाना प्रभारी सेंधवा
सेंधवा लूट के मामले में कार की चोरी की रिपोर्ट दर्ज है। यदि कार थाना परिसर में ही खड़ी है, इसकी जानकारी मुझे नहीं है। इस सूचना की जांच कराएंगे।
-डीआर तेनिवार, एसपी बड़वानी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned