नववर्ष में 111 दिन विवाह के मुहूर्त

आठ दिन रवि और गुरु पुष्य का संयोग

By: santosh dubey

Published: 30 Dec 2018, 11:01 AM IST

सिवनी. नववर्ष में विवाह के मुहूर्त 111 दिन रहेंगे यह वर्ष 2017 और 2018 के मुकाबले दो गुने विवाह के मुहूर्त हैं। साथ ही पांच ग्रहण भी होंगे। हालांकि इसमें से एक सूर्य और एक चंद्रग्रहण ही भारत में नजर आएगा। ज्योतिर्विदों के मुताबिक इस साल कई शुभ संयोग बन रहे हैं। इसका जनजीवन पर सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा। ज्योतिर्विद पं दिलीप शुक्ला के अनुसार इस वर्ष पिछले दो वर्ष के मुकाबले शुभ कार्यों के लिए मुहूर्तों की संख्या दोगुनी है। 2017 में जहां विवाह के लिए सिर्फ 54 मुहूर्त थे, वहीं 2018 में यह संख्या 59 थी। इस बार यह संख्या 111 है।
पं. राघवेन्द्र शास्त्री ने बताया कि इस वर्ष पिछले साल के मुकाबले मंगलकारी नक्षत्रों के राजा पुष्य का गुरु और रवि के साथ संयोग पिछली बार से अधिक संख्या में बनेगा। इस बार पांच दिन रवि और तीन दिन गुरु पुष्य नक्षत्र का संयोग बनेगा। हालांकि 2018 में सिर्फ तीन दिन रवि और दो दिन गुरु पुष्य का संयोग बना था। ज्योतिर्विद तिवारी ने बताया कि रवि-गुरु के साथ पुष्य नक्षत्र का जब संयोग होता है तो इस दौरान किए गए कार्य उत्तम फल प्रदान करते हैं। इस दिन की गई खरीदारी स्थाई फल प्रदान करती है।
जनवरी माह में कुल 12 दिन, फरवरी में 23 दिन, मार्च में सात दिन, अप्रैल में १२ दिन, मई में २१ दिन, जून में १५ दिन, जुलाई में सात दिन, नवंबर में नौ दिन और दिसंबर में पांच दिन। साल का पहला सूर्यग्रहण छह जनवरी को सुबह 5.04 बजे से 9.18 बजे तक रहेगा। यह आंशिक सूर्यग्रहण भारत में दिखाई नहीं देगा। साल का दूसरा पूर्ण सूर्यग्रहण तीन जुलाई को होगा भारतीय समय के अनुसार रात 11.31 से रात 2.15 बजे तक रहेगा जो भारत में दिखाई नहीं देगा। तीसरा सूर्यग्रहण 26 दिसंबर को सुबह 8.17 बजे लगेगा और 10 बजकर 57 मिनट पर समाप्त होगा। यह भारत में नजर आएगा।
साल का पहला चंद्रग्रहण 21 जनवरी को सुबह 9.03 मिनट से दोपहर 12 बजे तक रहेगा जो भारत में दिखाई नहीं देगा। दूसरा चंद्रग्रहण 16 जुलाई को होगा जो रात 1.31 से सुबह 4.29 बजे तक होगा। यह भारत के साथ एशिया के अन्य देशों में भी दिखाई देगा।
खरीदी के महामुहूर्त आठ दिन
रवि पुष्य 20 जनवरी, 17 फरवरी, 17 मार्च, 14 अप्रैल, 17 नवंबर और 15 दिसंबर को रहेंगे। इसी तरह गुरु पुष्य छह जून, चार जुलाई और एक अगस्त को गुरु-पुष्य नक्षत्र का संयोग बनेगा।

Show More
santosh dubey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned