33 साल बाद ट्रक चालक को मिली सजा

33 साल बाद ट्रक चालक को मिली सजा

Santosh Dubey | Updated: 11 Jul 2019, 09:17:11 PM (IST) Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

जांच के लिए ट्रक को रोकने पर चालक ने पुलिस को रॉड से किया हमले का प्रयास

सिवनी. अदालत ने लगभग 33 साल पुराने मामले में सजा सुनाई है। 26 अक्टूबर 86 मो. महबूब खान थाना यातायात सिवनी में थाना प्रभारी के पद पर पदस्थ था। उक्त तिथि को प्रात: यातायात व्यवस्था के लिए शहर की गश्ती में आरक्षक शिवलखन के साथ अपनी मोटर सायकिल से गश्त कर रहा था। कि उसने देखा कि नागपुर की ओर से दो ट्रक बहुत ही तेजी व लापरवाही से चलाते हुए आ रहे थे तो इसने उन्हें छिंदवाडा चौराहे पर आवश्यक समझाइश देने के लिए रूकने का संकेत दिया किन्तु वे नही माने व और भी तेज रफ्तार से वाहन ले जाने लगे ऐसा प्रतीत हो रहा था कि ट्रक के ड्रायवर शराब पिए हुए है और दुर्घटना कारित न कर दें इसलिए उक्त ट्रक का मोटर साइकिल से पीछा करके मंगली पेठ चौराहे पर आकर रोका तो दोनों ट्रक चालक ने वाहन रोके, कागजात मांगने पर कागजात प्रस्तुत न कर दोनों वाहन रोड पर आडे लगा दिया था। जिसके कारण यातायात अवरूद्ध हो गया तथा दोनों आरोपी चालक हाथों में लोहे की राड लेकर ट्रक से नीचे उतरे और उन पर हमला करने का प्रयास किया था। जिस पर पुलिस द्वारा मंगलूूूूराम (52) निवासी संतोषी नगर रायपुर तथा देवदत्त कुशवाहा (40) के विरुद्ध चालान पेश किया था। कंडक्टर करनसिंह (35) निवासी चंडीगढ़ जो अभी तक फरार है।
प्रभारी मिडिया सेल मनोज सैयाम ने बताया कि इस मामले में देवदत्त का फैसला पूर्व में हो चुका है। आरोपी मंगलूराम की सुनवाई और निर्णय सपना पोर्ते, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सिवनी की न्यायालय में की गई शासन की ओर से अजय सलाम सहायक जिला अभियोजन अधिकारी के द्वारा पैरवी की गई। जिस पर न्यायालय द्वारा आरोपी मंगलूराम को धारा 283 भादवि 1000 रुपए का अर्थदण्ड एवं धारा 353 भादवि में आठ माह के कठोर कारावास से दण्डित किया गया है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned