स्कूली बच्चों पर कार चढ़ाने वाले शिक्षक का नहीं बना था ड्राइविंग लाइसेंस

स्कूली बच्चों पर कार चढ़ाने वाले शिक्षक का नहीं बना था ड्राइविंग लाइसेंस

Sunil Vandewar | Publish: Jan, 31 2019 01:01:02 AM (IST) Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

आरोपी शिक्षक की जमानत अर्जी सत्र न्यायालय से खारिज

सिवनी. गणतंत्र दिवस की सुबह जुरतरा के प्राथमिक, माध्यमिक शाला में ०८ स्कूली बच्चों को कार से रौंदने और गर्म सब्जी से झुलसा देने वाले आरोपी शिक्षक की जमानत अर्जी बुधवार को जिला एवं सत्र न्यायालय से खारिज कर दी गई है। बंडोल थाना प्रभारी दिलीप पंचेश्वर ने इस बात की पुष्टि की है। इसके साथ ही उन्होंने खुलासा किया कि आरोपी शिक्षक कृष्णकुमार बिन्हेरिया के द्वारा दो महीना पहले कार खरीदी गई थी, जबकि शिक्षक ने अब तक अपना ड्राइविंग लाइसेंस भी नहीं बनवाया था। आरोपी शिक्षक के विरूद्ध पुलिस विभिन्न धाराओं के तहत कार्रवाई कर रही है। एक छात्रा की मृत्यु के बाद प्रशासन भी इस मामले में गंभीरता दिखा रहा है। उधर जबलपुर और नागपुर में उपचार के लिए भर्ती अन्य सात विद्यार्थियों की स्थिति में सुधार होना बताया जा रहा है।
बिना लाइसेंस कार चलाते हुए शिक्षक ने लापरवाही बरती। जिसका ही परिणाम है कि तेज रफ्तार कार से कुछ बच्चे रौंदे गए और चूल्हे पर पक रही गर्म सब्जी उचटने से कुछ झुलस गए। शिक्षक की इस लापरवाही के चलते घटना के दो दिन बाद जबलपुर अस्पताल में एक छात्रा की मृत्यु भी हो गई। शासन-प्रशासन को इस ओर भी ध्यान देना चाहिए कि जिन शासकीय सेवकों के ड्राइविंग लाइसेंस नहीं बने हैं, उनको निर्देशित किया जाए और लापरवाही बरतने पर उचित कार्रवाई की जाए।
हुई पढ़ाई, नहीं मिला मध्यान्ह भोजन -
विकासखण्ड सिवनी के अंतर्गत शासकीय माध्यमिक शाला जुरतरा में बुधवार को ३१ छात्र-छात्राओं ने उपस्थिति दी। इनको विधिवत शिक्षा प्रदान किए जाने नए स्टॉफ को संलग्न किया गया है। वहीं प्रधानपाठक की जिम्मेदारी चंद्रहास कुमरे को सौंपी गई है। बताया गया कि बुधवार को शाला में मध्यान्ह भोजन वितरण की कोई व्यवस्था नहीं हो सकी थी।
दूसरे समूह को मिली जिम्मेदारी -
बीआरसीसी सिवनी अरूण राय ने बताया कि जुरतरा के शासकीय प्राथमिक व माध्यमिक शाला में हुई घटना के बाद ग्रामीणों की मांग व सरपंच पूनाराम बंजारा द्वारा सौंपे गए पत्र के संदर्भ में कार्यवाही करते हुए जुरतरा के स्वसहायता समूह को हटाकर अब मोठार गांव के बैनगंगा स्वसहायता समूह को जिम्मेदारी सौंपी गई है। इनके द्वारा गुरुवार से छात्र-छात्राओं के लिए मध्यान्ह भोजन बनाया व परोसा जाएगा। इसके साथ ही मृतक छात्रा के परिजनों को राहत राशि प्रदान किए जाने सरपंच के पत्र व प्रस्ताव को सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग को भेजा गया है। जिस पर २५ हजार की राशि मिल सकेगी।
कलक्टर ने दिए सख्त आदेश -
कलक्टर प्रवीण सिंह अढायच द्वारा जिला शिक्षा अधिकारी, परियोजना समन्वयक जिला शिक्षा केन्द्र तथा सहायक आयुक्त जनजातीय कार्य विभाग को निर्देशित किया गया है कि जिले की किसी भी शासकीय शाला में मध्यान्ह भोजन खुले में नहीं बने। प्रत्येक शासकीय शाला में एमडीएम के निरीक्षण के लिए प्रभारी नियुक्त किया जाए तथा उसकी संपूर्ण जिम्मेदारी तय की जाए। विभागीय अधिकारी भी शासकीय स्कूलों में औचक निरीक्षण करें तथा लापरवाही बरतने वाले कर्मचारियों पर कार्यवाही के लिए कहा है।
स्वैच्छिक सहयोग का आग्रह -
उपचार के लिए भर्ती सात बच्चियों के लिए जिले के आठों विकासखण्ड से राशि एकत्रित हो रही है। डीपीसी जीएस बघेल ने बताया कि कलक्टर प्रवीण सिंह अढ़ायच द्वारा छात्र-छात्राओं के बेहतर उपचार के लिए स्वैच्छिक आर्थिक सहयोग का आग्रह किया गया है। शासकीय शिक्षक संगठन व कर्मी भी स्वैच्छा से राशि एकत्रित कर रहे हैं, ताकि बच्चों का बेहतर उपचार हो सके।

खरीदी थी कार, नहीं था लाइसेंस -
जुरतरा स्कूल प्रकरण में जांच में पता चला है कि आरोपी शिक्षक का ड्राइविंग लाइसेंस नहीं बना था, जबकि दो महीने पहले उसने कार खरीदी थी। बुधवार को सत्र न्यायालय से उसकी जमानत खारिज कर दी गई है।
दिलीप पंचेश्वर, थाना प्रभारी बंडोल

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned