scriptAdministration warning to private schools, stationery shopkeepers | प्राइवेट स्कूलों, स्टेशनरी दुकानदारों को प्रशासन की चेतावनी | Patrika News

प्राइवेट स्कूलों, स्टेशनरी दुकानदारों को प्रशासन की चेतावनी

किसी एक दुकान से किताब, यूनिफार्म खरीदने की बाध्यता पर होगी कार्रवाई

सिवनी

Published: April 07, 2022 09:17:21 pm

सिवनी. जिले के प्राइवेट स्कूलों और कॉपी-पुस्तक दुकानों से पूर्व के वर्षों में अधिक कीमत पर किताबें खरीदने के लिए बाध्य किए जाने के मामले सामने आते रहे हैं। इस वर्ष नए शिक्षण सत्र की शुरुआत होने को है, ऐसे में पुन: यह स्थिति निर्मित न हो, इसलिए प्रशासन ने सख्त चेतावनी के साथ निर्देश जारी किए हैं।
जिला शिक्षा अधिकारी रविसिंह बघेल ने बताया कि कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी डॉ. राहुल हरिदास फटिंग ने सख्त हिदायत दी है कि किसी भी विद्यार्थी अथवा अभिभावक को पुस्तकें एवं शाला गणवेश किसी विशेष दुकान से खरीदने के लिए बाध्य नहीं किया जाए। पुस्तकें एवं शाला गणवेश उपलब्ध कराने वाली कम से कम 5-5 दुकानों के नाम विद्यालय के सूचना पटल पर स्वच्छ एवं स्पष्ट रूप से अंकित करने को कहा है।
गुरूवार को जारी किए आदेश में कलेक्टर द्वारा कहा गया है कि सिवनी जिले के सभी अशासकीय मान्यता प्राप्त स्कूल (एमपी बोर्ड/ सीबीएसई/ आईसीएससी) को विद्यालय में अध्ययनरत् छात्र-छात्राओं के लिए उपयोग में आने वाली पुस्तकें प्रकाशक का नाम सहित तथा प्रत्येक कक्षा में ली जाने शुल्क की सूची विद्यालय के सूचना पटल पर अनिवार्य रूप से प्रदर्शित किया जाए।
सिवनी जिले के सभी पुस्तक विके्रताओं को कहा है कि किसी भी अभिभावक को इस बात के लिए बाध्य नहीं कर सकते, कि पुस्तक का पूरा सेट ही लेना पड़ेगा, जिस अभिभावक को जितनी पुस्तक-कापी चाहिए उसे उतनी ही दी जाएं। पुस्तक के साथ कॉपी, पेन, कवर आदि लेने के लिए बाध्य नही करने को कहा है। विद्यालय अपने विकासखण्ड के विकासखण्ड स्त्रोत समन्वयक जनपद शिक्षा केन्द्र (बीआरसीसी) कार्यालय में 03 दिवस में विद्यालय में उपयोग होने वाली पुस्तकों की सूची तथा कक्षावार ली जाने वाली फीस का विवरण जमा करने को कहा है। इस संबंध में किसी पुस्तक विके्रता अथवा विद्यालय के संस्था प्रमुख की कोई शिकायत प्राप्त होती है, तो संबंधित के विरूद्ध जिला प्रशासन द्वारा वैधानिक कार्यवाही की जाएगी।
अभिभावक हों जागरूक, प्रशासन को करें शिकायत
कलेक्टर द्वारा प्राइवेट स्कूलों और कॉपी-किताब बेचने वाले दुकानदारों को दिए गए निर्देशों का पालन नहीं होने पर प्रशासन ने कार्रवाई की चेतावनी दी है। ऐसे में अभिभावक और पालकों की जागरूकता भी जरूरी है। कॉपी-किताब या गणवेश के लिए यदि स्कूल प्रबंधन किसी एक दुकान से खरीदी के लिए बाध्य करता है, तो अभिभावक की जिम्मेदारी बन जाती है कि इसकी शिकायत प्रशासन से की जाए, ताकि सम्बंधित पर कार्रवाई करते हुए व्यवस्था में सुधार लाया जा सके।
patrika
patrika

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Bharat Drone Mahotsav 2022: दिल्ली में ड्रोन फेस्टिवल का उद्घाटन कर बोले मोदी- 2030 तक ड्रोन हब बनेगा भारतपहली बार हिंदी लेखिका को मिला International Booker Prize, एक मां की पाकिस्तान यात्रा पर आधारित है उपन्यासजम्मू कश्मीर: टीवी कलाकार अमरीन भट की हत्या का 24 घंटे में लिया बदला, तीन दिन में सुरक्षा बलों ने मारे 10 आतंकीखिलाड़ियों को भगाकर स्टेडियम में कुत्ता घुमाने वाले IAS अधिकारी का ट्रांसफर, पति लद्दाख तो पत्नी को भेजा अरुणाचलपाकिस्तान में 30 रुपए महंगा हुआ पेट्रोल-डीजल, Pak सरकार को घेरते हुए इमरान खान ने की मोदी की तारीफRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चअजमेर शरीफ दरगाह में मंदिर होने के दावे के बाद बढ़ाई गई सुरक्षा, पुलिस बल तैनातचांदी के गहने-सिक्के की भी हो सकती है हॉलमार्किंग
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.