गुस्से में किसान, आंदोलन की राह पर

गुस्से में किसान, आंदोलन की राह पर

Sunil Vandewar | Publish: Feb, 11 2018 11:59:01 AM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

अंतिम पंक्ति के व्यक्ति तक लाभ पहुंचाने की बात सरकार और प्रशासन करती है, लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है।

सिवनी. अंतिम पंक्ति के व्यक्ति तक लाभ पहुंचाने की बात सरकार और प्रशासन करती है, लेकिन ऐसा हो नहीं रहा है। नहर के टेल क्षेत्र के किसानों को वर्तमान में सिंचाई का पानी नहीं मिल रहा है। ऐसे में गुस्साए किसान आंदोलन की तैयारी में हैं।
क्षेत्र का किसान पहले ही सूखे की मार झेल चुका है लगातार तीन फसलों पर नुकसानी उठाने के बाद इस फसल से आशा थी परंतु फिर इस फसल पर भी संकट मंडराता दिख रहा है।
किसानों का आरोप है कि जलसंसाधन विभाग के अधिकारियों की लापरवाही के चलते क्षेत्र की फसलखतरे में है। जल उपभोक्ता संथा सांठई के अंतर्गत ग्राम सांठई, मरकावाड़ा, मलारी, बिनेकी, खेरी एवं केवलारी के कृषकों को प्रथम पलेवा के पानी के अलावा दूसरी बार पानी नहीं मिला है। जिसके वजह से बड़े रकबे के नहरों पर आश्रित कृषकों के खेतों की फसल पानी के अभाव में सूखने की कगार पर है। इससे कृषकों में असंतोष है।
किसानों ने बताया कि संजय सरोवर बांध से अचानक पानी बंद कर दिए जाने के बाद जब कृषकों के द्वारा उच्च अधिकारियों से खेतों तक पानी पहुंचाने की मांग की गई थी तब अधीक्षण यंत्री सिवनी के साथ कलेक्टर कार्यालय में 29 जनवरी को संथा अध्यक्ष और जनप्रतिनिधियों के साथ बैठकर निर्णय लिया गया था कि जब भी पानी छोड़ा जाएगा तो पहले टेल क्षेत्र को सिंचित करना प्रथम लक्ष्य होगा।
किसानों ने आरोप लगाया कि निर्णय से उलट स्थिति यह है कि साठई क्षेत्र की नहर के ऊपर की जो संस्था है वे सहयोग नहीं कर रही हैं। 3 फरवरी को पुन: नहर छोड़े जाने के बाद आज दिनांक तक ऊपर की संस्थाओं में भरपूर पानी चल रहा है जो कि नीचे टेल क्षेत्र में आने से कुछ लोगों द्वारा बलपूर्वक रोका जा रहा है।
किसानों ने कहा कि सिंचाई विभाग की अनदेखी का खामियाजा टेल क्षेत्र के किसान उठाने को मजबूर हैं। नहर के सीमित समय तक पानी छोड़े जाने के निर्णय अनुसार सांठई संस्था के कृषक अब आंदोलन करने को मजबूर हैं। कलेक्टर को दिए गए ज्ञापन में कृषकों द्वारा कहा गया कि टेल क्षेत्र में शीघ्र पानी नहीं पहुंचा तो किसान आंदोलन करेंगे।

करेंगे धरना-प्रदर्शन -
क्षेत्रीय किसानों ने बताया कि सोमवार को सब डिवीजन ऑफिस के सामने शांतिपूर्वक धरना देंगे और इसके बाद भी उनकी मांगों को अनसुनी किया गया तो सब डिवीजन की तालाबंदी कर उग्र आंदोलन किया जाएगा।
हम पर बढ़ रहा है कर्ज
हम मूल रूप से खेती पर आश्रित हैं और हमें पलेवा के बाद अभी तक पानी नहीं मिला है। हमारे खेतों में खड़ी फसल सूखने की कगार पर है इतनी लागत से के बाद फसल बर्बाद हुई तो हम कर्जे में डूब जाएंगे।
रुपेंद्र बघेल, कृषक
---------------
टेल तक नहीं पहुंच रहा पानी -
कलेक्ट्रेट में हुई बैठक में जब निर्णय लिया गया था कि टेल क्षेत्र में पानी प्राथमिकता से पहुंचाया जाएगा परंतु यथास्थिति में टेल तक पानी पहुंचने नहीं दिया जा रहा है। इसके लिए अधिकारी और ऊपर की संस्था के अध्यक्ष जिम्मेदार हैं।
कमल ठाकुर अध्यक्ष, जल उपभोक्ता संथा साठई
------------
हो रही समस्या, की है रिपोर्ट -
मेरे द्वारा खुद निरीक्षण किया जा रहा है ऊपर से पानी बंद कराया गया है। कुछ लोग बाधा उत्पन्न कर रहे हैं। जिसकी रिपोर्ट पुलिस व प्रशासन से की गई है। स्टाफ की कमी से समस्या हो रही है।
पीसी महाजन कार्यपालन यंत्री, केवलारी

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned