मौसम में हो रहे बदलाव से अन्नदाता परेशान

कृषि वैज्ञानिक ने पकी फसल की कटाई पूर्ण करने की दी सलाह

By: santosh dubey

Updated: 17 Apr 2019, 12:04 PM IST

Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

 

सिवनी. इन दिनों मौसम में बदलाव देखने को मिल रहा है। इसी के चलते कृषि वैज्ञानिक ने बुधवार-गुरुवार को जिले भर में आंधी, धूल, तूफान के साथ बारिश आने की संभावना व्यक्त की है। उन्होंने पकी हुई फसल की कटाई का कार्य पूर्ण करे और पशुओं के लिए भूसे का प्रबन्ध करे अच्छी बारिश होने पर खेत मे पड़ी गेंहू की नरवाई में कचरा अपघटक के तैयार घोल का छिड़काव कर खेत में ही नरवाई को खाद में परिवर्तित करने को कहा है। मंगलवार को सुबह से ही मौसम में बदलाव देखने को मिला। सुबह शहर समेत आसपास के ग्रामक्षेत्रों में रिमझिम बारिश हुई।
कृषि वैज्ञानिक डॉ. एनके सिंह ने बताया कि फसल अनाज को भंडारण में रखने से पहले भंडार घर की अच्छी तरह सफाई करें तथा अनाज को अच्छी तरह से सुखा लें एवं कूड़े-कचरे को साफ करें, भंडार घर की छत दीवारों और फर्श पर एक भाग मेलाथियान 50 इसीको 100 भाग पानी में मिला कर छिड़काव करें। यदि पुरानी बोरियां प्रयोग करनी पड़े तो उन्हें एक भाग मेलाथियान व 100 भाग पानी के घोल में 10 मिनट तक भिगो कर छाया में सुखा लें। वर्तमान तापमान फ्रेंच बीन, बरबटी, चौलई, भिंण्डी, लौकी, खीरा, तुरई आदि तथा गर्मी के मौसम वाली मूली की सीधी बुवाई के लिए अनुकूल है। क्योंकि बीजों के अंकुरण के लिए यह तापमान उपयुक्त हैं। बुवाई के समय खेत में पर्याप्त नमी का होना आवश्यक है। उन्नत किस्म के बीजों को किसी प्रमाणित स्रोत से लेकर बुवाई करें।
हरी खाद के लिए खेत में करें पलेवा
रबी फसल यदि कट चुकी है तो उसमें हरी खाद के लिए खेत में पलेवा करें। हरी खाद के लिए ढ़ेचा, सनई अथवा लोबिया की बुवाई की जा सकती है। बुवाई के समय खेत में पर्याप्त नमी का होना आवश्यक है। इस मौसम में बेलवाली सब्जियों में चूर्णिल आसिता रोग के प्रकोप की संभावना रहती है। यदि रोग के लक्षण अधिक दिखाई दे तो कार्बंन्डिज्म/1 ग्राम/लीटर पानी दर से छिड़काव मौसम साफ होने पर करें। इस मौसम में भिंडी की फसल में माइट कीट की निरंतर निगरानी करते रहें। अधिक कीट पाए जाने पर इथेयान/1.5.2 मिली लीटर पानी की दर से छिड़काव मौसम साफ होने पर करें। प्याज की फसल में इस अवस्था में उर्वरक न दे अन्यथा फसल की वनस्पति भाग की अधिक वृद्धि होगी और प्याज की गांठ की कम वृद्धि होगी। बैंगन तथा टमाटर की फसल को प्ररोह एवं फल छेदक कीट से बचाव के लिए ग्रसित फलों तथा प्रोरहों को इकट्ठा कर नष्ट कर दें।
साथ ही कीट की निगरानी के लिए फिरोमोन प्रपंश/ 2.3 प्रपंश प्रति एकड़ की दर से लगाएं। यदि कीट की संख्या अधिक हो तो स्पिनोसेड़ कीटनाशी 48 ईसी/1 मिली4 लीटर पानी की दर से छिड़काव मौसम साफ होने पर करे रबी फसल की कटाई के बाद खाली खेतों की गहरी जुताई कर जमीन को खुला छोड़ दें, ताकि सूर्य की तेज धूप से गर्म होने के कारण इसमें छिपे कीडों के अण्डे तथा घास के बीज नष्ट हो जाएंगे।
सुबह बारिश, शाम को चली तेज हवा
मंगलवार की सुबह आसमान में काले-काले बादलों ने डेरा डाला और हल्की बूंदाबांदी हुई। इसके साथ ही नगर के आसपास के ग्राम क्षेत्रों नरझर, बींझावाड़ा, छिडिय़ापलारी, लूघरवाड़ा, मरझोर, बम्होड़ी, लखनवाड़ा समेत अन्य गांव में सुबह हल्की बारिश हुई। वहीं मंगलवार की शाम को तेज हवाएं चली।

Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned