ग्रामीण महिलाओं का जागरूकता प्रशिक्षण सम्पन्न

ग्रामीण महिलाओं का जागरूकता प्रशिक्षण सम्पन्न

Santosh Dubey | Updated: 14 Jul 2019, 09:12:14 PM (IST) Seoni, Seoni, Madhya Pradesh, India

पोषण स्मार्ट तो हेल्थ स्मार्ट

सिवनी. जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत कृषि विज्ञान केंद्र सिवनी के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ. शेखरसिंह बघेल वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख, डॉ. एपी भंडारकर एवं खाद्य वैज्ञानिक जीके राणा द्वारा पोषण स्मार्ट ग्राम ऐरमा विकासखण्ड कुरई में एक दिवसीय महिला एवं बाल स्वास्थ्य एवं पोषण पर प्रशिक्षण दिया गया। इस प्रशिक्षण में 70 ग्रामीण जागरूक कृषक महिलाओं की उपस्थिति रही।
दैनिक जीवन में स्वास्थ्य के प्रति जागरुकता एवं पोषण संबंधी विषयों पर प्रषिक्षण व चर्चा की गई पोषण के मुख्य घटकों कार्बोहाईड्रेट, प्रोटीन, विटामिन, वसा, खनिज व जल एवं इनके श्रोतों तथा उनका उचित उपयोग के विषय पर वृहद जानकारी दी गई। भोज्य पदार्थों में आवश्यक साग-सब्ज्यिों जैसे भिण्डी, तुरई, लौंकी, ककडी, बरबटी एवं सहजन आदि के बीज वितरित कर परिवार के सम्पूर्ण पोषण को ध्यान में रखते हुए इन्हें गृहवाटिका में उगाने एवं प्रबंधन करने के लिए बताया गया। साथ ही प्राप्त उपज या साग-भाजी को दैनिक भोजन में मिलाकर उपयोग करने एवं बाजार आश्रित होने के आदत को छोडऩे एवं अपनी आय का एक बड़ा हिस्सा साग-सब्जियों को क्रय कर व्यर्थ न करके उसे बचाने की भी सलाह दी गई।
कृषि विज्ञान केंद्र के वरिष्ठ वैज्ञानिक एवं प्रमुख डॉ. शेखर सिंह बघेल ने बताया कि घरेलु उपयोग की साग भाजी एवं फल का गृहवाटिका में क्या महत्व है? इससे आप अपनी घरेलू आय में इजाफा कैसे कर सकते है। वर्षा ऋतु में पानी की एक-एक बूंद बचाने के लिए जल संरक्षण पर विस्तार से जानकारी एवं पौधारोपण कर चहुओर हरियाली की चादर हमारी भूमि व गांवों में फैलाने की बात कही साथ ही वरिष्ठ कीट वैज्ञानिक डॉ. एपी भंडारकर ने बताया की पोषण के साथ-साथ साग-भाजी, फल एवं फसलों में कीट व्याधियों की समस्या का समन्वित प्रबंधन पर विस्तार से जानकारी दी। एपी भंडारकर ने बताया कि मुनगा का पौधा हर घर में लगाना चाहिए। यह 300 बीमारियों से हमें बचाता है। ये उच्च पोषक तत्वों का बेहतरीन स्त्रोत है। साथ ही महिलाएं खेती में दैनिक उपयोग की फल-सब्जी व फसलों को प्राथमिकता से लगाए ताकि आपका बाजार पर निर्भरता कम रहे व उच्च क्वालिटी पोषक तत्वों से युक्त भोजन प्राप्त हो सकेगा।
खाद्य वैज्ञानिक जीके राणा ने महिला कृषकों, गर्भवती महिला एवं स्कूल की छात्र-छात्राओं के लिए दैनिक जीवन में पोषण के मुख्य घटक क्या-क्या होना चाहिए की विस्तार से जानकारी दी। इस प्रशिक्षण के आयोजन में महिला एवं बाल विकास विभाग से ललिता वर्मा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता एवं ग्राम ऐरमा का सहयोग रहा।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned