दुल्हन थी बालिग, दूल्हा निकला नाबालिग, फिर नहीं हो सकी शादी

दुल्हन थी बालिग, दूल्हा निकला नाबालिग, फिर नहीं हो सकी शादी

Sunil Vandewar | Publish: Apr, 19 2018 11:54:41 AM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

सिवनी, बालाघाट की टीम ने रुकवाया विवाह

सिवनी. केवलारी ब्लॉक के वन क्षेत्र के गांव में बुधवार को बिटिया की शादी के लिए मंडप लगा, गीत गाए जा रहे थे और बारात आने का इंतजार किया जा रहा था। इसी बीच प्रशासन की टीम जा पहुंची और दूल्हा-दुल्हन की उम्र को लेकर जानकारी मांगी गई। तब पता चला कि दुल्हन तो बालिग है, लेकिन दूल्हा नाबालिग है। तब बालाघाट जिले के एक गांव से आने वाली बारात को रोक दिया गया।
जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी अभिजीत पचौरी ने बताया कि केवलारी ब्लॉक के रुमाल क्षेत्र के एक गांव की महिला पर्यवेक्षक व आंगनबाड़ी कार्यकर्ता ने सूचित किया कि क्षेत्र में बालाघाट जिले के परसवाड़ा ब्लॉक के एक गांव से नाबालिग की बारात आने वाली है। इस पर टीम अलर्ट की गई और केवलारी ब्लॉक के गांव भेजी गई। टीम ने वधु पक्ष से दूल्हा और दूल्हन के आयु सम्बंधी प्रमाण मांगे, जिस पर दुल्हन की उम्र करीब २० वर्ष यानि बालिग होना पाया गया। जबकि दूल्हा के बालिग होने में कुछ महीने बाकी हैं।
इस पर टीम के द्वारा वधु के माता-पिता और परिवारजनों को समझाइश देते हुए बाल विवाह प्रतिशेध अधिनियम के तहत कानूनी कार्रवाई की जानकारी दी। तब वधु पक्ष ने इस विवाह को रोके जाने सहमति दी और इस तरह टीम द्वारा पंचनामा बनाया गया।
बालाघाट में भी अलर्ट हुई टीम -
महिला सशक्तिकरण अधिकारी ने बताया कि दुल्हन बालिग पाए जाने व दूल्हे के नाबालिग होने के मामले में तुरंत बालाघाट के परसवाड़ा में टीम को अलर्ट किया। टीम के सदस्यों ने दूल्हे के घर पहुंचकर बारात लेकर जाने से रोका। इस तरह वर और वधु पक्ष के लोग कुछ महीनों के बाद जब दूल्हा बालिग होगा तब विवाह करने की सहमति दी है। इस तरह सिवनी व बालाघाट जिले की टीम के संयुक्त प्रयास से इस बाल विवाह को रोका गया। उल्लेखनीय है कि विवाह के लिए दूल्हे की आयु न्यूनतम २१ वर्ष व दुल्हन की १८ वर्ष होनी चाहिए।
केवलारी में ११९ जोड़ों ने लिए सात फेरे, कृषि मंत्री हुए शामिल

मुख्यमंत्री कन्यादान योजना अंतर्गत जनपद पंचायत केवलारी द्वारा उत्कृष्ट विद्यालय केवलारी के प्रांगण में सामूहिक विवाह का आयोजन हुआ। इसमें केवलारी जनपद क्षेत्र के 1१९ जोड़ों का विवाह संपन्न कर नव दांपत्य जीवन में प्रवेश किया।
जनपद पंचायत केवलारी के मुख्य कार्यपालन अधिकारी विनोद मरावी ने बताया कि नव विवाहित दम्पती जोड़ों को उपहार में प्रदान किए गए हैं। कृषि मंत्री सहित अन्य जनप्रतिनिधियों ने योजनान्तर्गत नवदम्पत्तियों को गृहस्थी की सामग्रियों का वितरण किया।
इस अवसर पर मध्य प्रदेश शासन के कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन, जिला पंचायत अध्यक्ष मीना बिसेन, जिला पंचायत उपाध्यक्ष चंद्रशेखर चतुर्वेदी, भाजपा जिला महामंत्री देवीसिंह बघेल, पूर्व जिलाध्यक्ष वेद सिंह ठाकुर, भाजपा प्रदेश कार्यसमिति सदस्य पिछड़ा वर्ग गजानन पंचेश्वर, जनपद अध्यक्ष रंजना शशिकांत ठाकुर, जनपद सदस्य पवन यादव, नितिन बघेल, अशोक बंदेवार सहित अन्य की उपस्थिति में आयोजन किया गया।
गायत्री परिवार के विद्वानों द्वारा वैदिक मंत्रोच्चार के बीच 1१९ जोड़ों का विवाह संपन्न कराया। इस दौरान एक मुस्लिम जोड़े का निकाह भी संपन्न कराया गया। इस दौरान कृषि मंत्री गौरीशंकर बिसेन द्वारा समस्त वर-वधू को मध्यप्रदेश शासन की ओर से आशीर्वाद स्वरुप आशीर्वचन दिया गया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned