शासकीय बालक प्राथमिक शाला पीपरवानी के जर्जर भवन में चलती हैं कक्षाएं

प्रधान पाठक ने सरपंच सहित उच्चाधिकारियों को कराया अवगत

By: akhilesh thakur

Published: 25 Sep 2021, 10:59 AM IST

सिवनी/मोहगांव. जिले के अधिकांश स्कूलों की स्थिति ठीक नहीं है। कहीं स्कूल भवन जर्जर हो गए हैं तो कहीं भवन नया बना है, लेकिन वहां बच्चों को पढ़ाने के लिए शिक्षक नहीं है। इन सबके बीच शासकीय बालक प्राथमिक शाला पीपरवानी के जर्जर भवन में स्कूल संचालित किए जाने का मामला सामने आया है। इसकी जानकारी के बाद पालकों ने आपत्ति जताई है।
जानकारी के अनुसार उक्त शाला का भवन जर्जर हो चुका है। बारिश होते ही सभी कक्ष की छत से पानी टपकने लगता है। उस समय स्कूल में बैठे बच्चे पढऩे के बजाए इधर-उधर भागकर अपना तथा कॉपी-किताब को भीगने से बचाने के प्रयास में जुट जाते हैं। स्कूल में मौजूद शिक्षक भी पढ़ाने के बजाए खुद को बारिश के पानी से बचाने का प्रयास करते हैं। प्रधान पाठक का कहना है कि शाला का मुख्य भवन अत्यंत जर्जर हालत में है। शाला के समस्त कक्षों की छत से पानी का रिसाव होता है। दीवारों का प्लास्टर जगह-जगह से उखड़ गया है। खिड़कियों तथा छज्जे टूट गए हैं। कक्षों तथा बरामदे का फर्श जगह-जगह से उखड़ गया है। अत्यधिक वर्षा होने पर दरवाजों तथा खिडि़कियों में विद्याुत करंट आ जाता है। इससे विद्यार्थियों के अध्यापक कार्य तथा बैठक व्यवस्था में अत्यंत कठिनाई उत्पन्न होती है। उन्होंने इस पूरे मामले से उच्चाधिकारियों को अवगत करा दिया है। उक्त मामले से संबंधित एक पत्र ग्राम पंचायत सरपंच को देकर छात्रहित तथा सुरक्षा पर विचार करते हुए नवीन शाला भवन निर्माण कराने की मांग किया है।
ग्राम निवासी विजय मिश्रा ने बताया कि गुरुवार को स्कूल गए बच्चों के पालकों ने बताया कि भवन की हालत बहुत खराब है। ऐसे में वहां स्कूल लगाया जाना खतरे को आमंत्रण देना है। यह भवन कभी भी गिर सकता है। इसकी जानकारी के बाद मौके पर पहुंचकर शिक्षक-शिक्षिकाओं से बात कर बच्चों को दूसरी जगह पढ़ाने के लिए कहा गया है। उच्चाधिकारियों को पूरे मामले से अवगत कराया गया है, लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं है। ग्राम पंचायत को भी इसकी लिखित जानकारी दे दी गई है। इसके बावजूद कोई उचित कार्रवाई के लिए तैयार नहीं है।

वर्जन -
शासकीय बालक प्राथमिक शाला पीपरवानी काफी जर्जर है। उसका निरीक्षण मैंने किया है। नया भवन बनाने के लिए प्रपोजल भेजा जा चुका है।
- सत्येंद्र सिंह मरकाम, सहायक आयुक्त आदिम जाति कल्याण विभाग सिवनी।

akhilesh thakur Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned