अब छापेमारी से पकड़े जाएंगे कोचिंग पढ़ाने वाले शिक्षक, टीम तैनात

अब छापेमारी से पकड़े जाएंगे कोचिंग पढ़ाने वाले शिक्षक, टीम तैनात

Sunil Vandewar | Publish: Jul, 12 2018 11:42:05 AM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

पत्रिका की खबर पर डीइओ ने लिया संज्ञान

सिवनी. सरकारी स्कूलों के शिक्षकों द्वारा स्कूलों में पढ़ाने में रूचि न लेकर ट्यूशन पढ़ाकर मोटी कमाई करने की खबर पर पत्रिका ने खबर प्रमुखता से प्रकाशित की थी। इस खबर पर डीइओ एसपी लाल ने संज्ञान लेते हुए बुधवार को टीम गठित कर छापेमारी करने के निर्देश दिए हैं।
डीइओ का आदेश -
डीइओ एसपी लाल ने जारी आदेश पत्र में कहा कि शासन के निर्देश अनुसार शासकीय स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों को ट्यूशन प्रतिबंधित है। अत: ट्यूशन पर रोक लगाने के लिए शिक्षा विभाग अन्तर्गत महेश कुमार गौतम एडीपीसी कार्यालय जिला शिक्षा अधिकारी सिवनी को ट्यूशन कन्ट्रोल समिति का जिला समन्वयक नियुक्त करते हुए प्रत्येक विकास खण्ड स्तर पर ट्यूशन कन्ट्रोल समिति का गठन किया जाता है। गठित समिति आपस में समन्वय स्थापित कर ट्यूशन में लिप्त शासकीय शिक्षकों की पूर्ण जानकारी प्राप्त कर औचक छापामार कार्रवाई करते हुए पंचनामा, फोटोग्राफ्स, अन्य प्रमाण एकत्रित कर स्पष्ट अभिमत सहित रिपोर्ट जिला समन्वयक को प्रस्तुत करेंंगे।
पत्रिका ने लाया ध्यान में -
पत्रिका द्वारा शासकीय स्कूल के शिक्षकों द्वारा कोचिंग पढ़ाए जाने की खबर प्रकाशित कर संज्ञान में लाया गया है। जिस पर टीम गठित की गई है। कोचिंग पढ़ाने वाले शिक्षक पर कार्रवाई करने मौके पर छापामारी की जाएगी।
एसपी लाल, डीइओ सिवनी
हर ब्लॉक में होगी अलग टीम -
कोचिंग पढ़ाने वाले शिक्षकों पर कार्रवाई के लिए ब्लॉकवार अलग-अलग टीम गठित की जाएगी। शीघ्र ही इस पर विधिवत कार्य आरंभ किया जाएगा।
महेश गौतम, समन्वयक, ट्यूशन कंट्रोल समिति

चलेगा विशेष अभियान, मैदानी अमला हो जाए अलर्ट

कलेक्टर गोपालचंद डाड द्वारा मंगलवार को सभाकक्ष में विशेष वजन अभियान के सघन क्रियान्वयन को लेकर सभी परियोजना अधिकारियों व आंगनबाड़ी पर्यवेक्षकों की बैठक आयोजित की गई। इसमें अपर कलेक्टर रानी बाटड, जिला कार्यक्रम अधिकारी लक्ष्मी धुर्वे की उपस्थिति रही।

बैठक में कलेक्टर द्वारा सभी परियोजना अधिकारियों व पर्यवेक्षकों को अवगत किया कि शासन के निर्देश पर 11 जुलाई से 11 अगस्त तक पुन: विशेष वजन अभियान सम्पूर्ण जिले में चलाया जाना है। उन्होंने निर्देशित किया कि इस अवधि में सभी पर्यवेक्षक अपने सेक्टर की प्रत्येक आंगनबाड़ी केन्द्र में स्वयं उपस्थित होकर शत-प्रतिशत बच्चों का वजन लेना सुनिश्चित करेंगे। इसी तरह परियोजना अधिकारी भी अपने कार्यक्षेत्र में कम से कम 30 आंगनबाड़ी केन्द्रों पर्यवेक्षण करेंगे।
उन्होंने कहा कि इस सम्पूर्ण अभियान का उदद़ेश्य बच्चों को कुपोषण से मुक्त कराना है। जिसके लिए यह विशेष अभियान चलाकर आंगनबाड़ी केन्द्रों में कम वजन व अति कम वजन के बच्चों को चिन्हांकित करते हुए उनके पोषण स्तर का सही निर्धारण कर बच्चों को सुपोषित करना है। उन्?होंने निर्देशित किया है कि 11 जुलाई से सम्पूर्ण अगस्त माह में जिले के प्रत्?येक आंगनवाड़ी केन्?द्रों पर निरीक्षण कार्य किया जाए। इस कार्य को लेकर किसी भी प्रकार की कोताही न बरतने के निर्देश दिए गए हैं।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned