दो माह से प्रदर्शन का अड्डा बना कलेक्ट्रेट गेट, किसान संघ के बाद सहकारी समिति के कर्मचारी बैठे

दिल्ली में किसानों के आंदोलन में सेवादार बनने सिवनी से रवाना हुआ जत्था

By: akhilesh thakur

Published: 16 Feb 2021, 10:02 AM IST

सिवनी. शहर के कलेक्ट्रेट गेट के पास का क्षेत्र बीते माह से प्रदर्शन का अड्डा बन गया है। किसान आंदोलन के समर्थन में अलग-अलग किसानों का संघ करीब दो माह से प्रदर्शन कर रहा हैं। अब करीब १२ दिवस से उनके पास में ही मप्र सहकारी समिति के कर्मचारियों का प्रदर्शन चल रहा है। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और पुरानी पेंशन की मांग कर रहे संगठन के कार्यकर्ताओं का भी प्रदर्शन विगत दिवस हुआ। खास है कि किसी भी प्रदर्शनकारी की मांगों की दिशा में अब तक कोई सार्थक प्रयास नहीं हुआ है।


दिल्ली में किसानों के आंदोलन में सेवादार बनने सिवनी से रवाना हुआ जत्था
किसान आंदोलन के समर्थन में सोमवार को जिले से एक दर्जन लोगों का जत्था रवाना हुआ। यह जत्था संदीप नागेश, राजेन्द्र सनोडिया के नेतृव में दिल्ली पहुंचकर किसानों के आंदोलन में सेवादार की भूमिका निभाएंगे।
शहर के कलेक्ट्रेट गेट के पास डॉ. भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा के सामने चल रहे किसानों आंदोलन स्थल से यह जत्था दिल्ली के लिए रवाना हुआ। एक सप्ताह बाद दूसरा जत्था सिवनी से निकलकर दिल्ली पहुंचेगा, तब पहला जत्था अपने घर वापस आएगा। इस प्रकार दिल्ली के आंदोलन में भी मध्यप्रदेश के सिवनी जिले का योगदान रहेगा। साथ ही सिवनी में चल रहे आंदोलन को आने वाले समय मे बढ़ाने की रणनीति बनाई गई है। बड़ी किसान महापंचायत की तैयारी आंदोलनकारियों ने शुरू कर दी है। इसके पूर्व आंदोलन स्थल पर दिल्ली रवाना होने वाले जत्थे को राजेंद्र जयसवाल, रघुवीर सिंह सनोडिया, अली एमआर खान, प्रकाश बुर्डे, भैया सरकार, हुकूम सनोडिया ने फूल माला पहनाकर विदा किया।


जिला पटवारी संघ ने दिया सहकारी समिति के कर्मचारियों को समर्थन
सिवनी. मप्र सहकारी समिति कर्मचारियों की 12 दिवस से चल रहे अनिश्चितकालीन कलम बंद हड़ताल को लेकर शासन से सामंजस्य की स्थिति नहीं बनने के कारण जारी है। वर्तमान में सरकार व सहकार दोनों आमने-सामने हैं। सहकारी समिति कर्मचारी अपनी मांगो को मनवाने में अडिग है। वर्तमान में शासन द्वारा मांगो को लेकर विचार-विमर्श किया जा रहा है। मप्र सहकारी समिति कर्मचारी महासंघ जिला इकाई सिवनी के जिलाध्यक्ष वंशीलाल ठाकुर ने बताया कि हमें निरंतर विभिन्न संघ व संगठनों से समर्थन मिल रहा है।
सहकारी कर्मचारियों के हड़ताल पर जाने के बाद शासन द्वारा पटवारी संवर्ग को ई-उपार्जन एवं राशन वितरण का दायित्व सौंपा गया था, जिसके संचालन में दिक्कत आने पर पटवारी संघ ने शासन को अवगत कराया था, लेकिन शासन स्तर पर कोई भी गुणात्मक सुधार नहीं होने के बाद पटवारी संघ एवं ई-उपार्जन पंजीयन एवं राशन वितरण के दायित्व से विरत रहने की घोषणा की है। सरकारी कर्मचारी की मांगों को जायज ठहराते हुए जिला पटवारी संघ जिलाध्यक्ष आनंद कुडोपा के नेतृत्व में समर्थन पत्र देकर हड़ताल का समर्थन किया है। मप्र सहकारी समिति कर्मचारी महासंघ के प्रवक्ता जोगेश ठाकुर ने इसकी पुष्टि की है।

Show More
akhilesh thakur Bureau Incharge
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned