किसानों के समर्थन में उतरे कांग्रेसी, किया प्रदर्शन

किसानों के समर्थन में उतरे कांग्रेसी, किया प्रदर्शन

santosh dubey | Publish: Nov, 14 2017 04:00:00 PM (IST) Seoni, Madhya Pradesh, India

भावांतर योजना का नहीं मिल रहा किसानों को लाभ, लगाया आरोप

सिवनी. भावांतर योजना का लाभ किसानों को कम और व्यापारियों को ज्यादा मिल रहा है। योजना को लागू करने के बाद से भाजपा के मंत्री कह रहे हैं कि यह योजना किसानों के हित में नहीं है। इसे बंद कर देना चाहिए तो कोई कहता है इसमें संशोधन की जरूरत है। जिले की मंडी में आए दिन विवाद हो रहे हैं। किसानों के अनाज की कीमत व्यापारी द्वारा काफी कम लगाई जा रही है। भावांतर योजना के भंवर में फंसा अन्नदाता अपने आप को ठगा महसूस कर रहा है। यह बात सोमवार को कांग्रेसियों ने सिमरिया कृषि मंडी में धरना प्रदर्शन के दौरान कही। इसके बाद तहसलीदार को ज्ञापन सौंपा।
ज्ञापन में कृषि यंत्रों में जीएसटी समाप्त किया जाए। यह 18 प्रतिशत लगाया गया है जो कि पूर्व में शून्य प्रतिशत था। गेहूं एवं कई फसलें जैसे धान को भावांतर योजना से अलग रखा जाए। यह मुख्य फसल है। फसलों के मूल्य निर्धारित भावांतर योजना में नहीं है। जिला कांग्रेस खेत मजदूर कांग्रेस सिवनी अध्यक्ष रामायण सिंह सिसोदिया, अल्पना राणा, रघुनंदन यादव, शिव सनोडिया, नरेन्द्र सिंह, कृपाल सिंह, शेर सिंह, मोहन चंदेल, असलम खान, पदम सनोडिया, आशुतोष वर्मा, राजेश यादव आदि उपस्थित रहे।
कांग्रेसियों से अधिक दिखा पुलिस बल
कांग्रेसियों द्वारा सिमरिया मंडी के सामने दिया गए धरना-प्रदर्शन में उनकी संख्या कम रही। वहां सुरक्षा व्यवस्था में तैनात पुलिसकर्मियों की संख्या उनसे अधिक बताई जा रही है। इसके पीछे कारण बताया जा रहा है कि आठ नवम्बर को एक व्यापारी द्वारा किसान के अनाज की खरीदी की नीलामी ६०० रुपए से शुरू की गई। इसके बाद किसानों ने उग्र आंदोलन कर दिया। इसी वजह से कांग्रेसियों के पूर्व में दिए गए धरना प्रदर्शन की सूचना को देखते हुए भारी संख्या में पुलिस बल की व्यवस्था की गई थी। पुलिस लाइन से 25 पुलिसकर्मी व विभिन्न थाना क्षेत्रों से लगभग दो दर्जन से अधिक पुलिसकर्मियों को बुलाया गया था।

 

Ad Block is Banned