दो दिन में बोर्ड की 63 प्रतिशत कॉपी का हुआ मूल्यांकन

उत्कृष्ट विद्यालय सिवनी में हो रहा पूरक का मूल्यांकन कार्य

By: sunil vanderwar

Published: 20 Jul 2018, 11:34 AM IST

सिवनी. एमपी बोर्ड की पूरक परीक्षा की उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन कार्य के द्वितीय दिवस कम मूल्यांकनकर्ताओं की उपस्थिति के बावजूद 63 प्रतिशत कार्य पूर्ण कर लिया गया है। मूल्यांकन कार्य जिला मुख्यालय के शासकीय उत्कृष्ट विद्यालय सिवनी में किया जा रहा है।
मूल्यांकन केन्द्र के स्ट्रांग रूम प्रभारी वरिष्ठ शिक्षक पीपी पाण्डे ने बताया कि बुधवार से मूल्यांकन कार्य आरंभ हुआ है। जिसमें गुरुवार तक हायर सेकेण्डरी (१२वीं) की १७६९ उत्तरपुस्तिकाओं में से १०९६ का मूल्यांकन कार्य पूर्ण किया जा चुका है। यह कार्य ४१ मूल्यांकनकर्ताओं द्वारा किया गया। मूल्यांकन में हिन्दी विशिष्ट, अंग्रे्रजी विशिष्टि, हिन्दी सामान्य, संस्कृत, इतिहास, राजनीति, रसायन, जीवविज्ञान, व्यवसाय अध्ययन, पुस्तपालन लेखाकर्म, व्यवसायिक अथसास्त्र, ग्रहप्रबंध का कार्य समाप्त कर लिया गया है।
हाइस्कूल (१०वीं) की कुल प्राप्त ४४१२ उत्तरपुस्तिकाओं में से २३९६ का मूल्यांकन हो चुका है। गुरुवार को ७७ मूल्यांकनकर्ता शिक्षक उपस्थित रहे। इनके द्वारा अंग्रेजी विशिष्ट, सामाजिक विज्ञान, हिन्दी सामान्य, संस्कृत सामान्य एवं हेल्थ केयर विषय की उत्तरपुस्तिका का मूल्यांकन पूर्ण कर लिया गया है।

अध्यक्ष-उपाध्यक्ष ने कहा अध्यापक को हटाओ

केवलारी ब्लॉक के शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय छींदा में पालक शिक्षक संघ अध्यक्ष-उपाध्यक्ष एवं अध्यापक श्रवण राय के बीच हुआ विवाद जल्द थमता नजर नहीं आ रहा है। गुरुवार को अध्यक्ष, उपाध्यक्ष और सदस्यों ने कलेक्टर, एसपी और जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय पहुंचकर शिकायत की है। इसमें अध्यापक पर कार्रवाई की मांग की गई है।
पालक शिक्षक संघ की अध्यक्ष कौशल्या झारिया, उपाध्यक्ष सुरेश कुमार राय सहित सदस्यों ने शिकायत में उच्चतर माध्यमिक विद्यालय छींदा में पदस्थ अध्यापक की कार्यप्रणाली पर आक्रोश व्यक्त करते हुए शीघ्र जांच व उचित कार्रवाई की मांग की है। वहीं बताया कि दो दिन पूर्व विद्यालय में निरीक्षण के लिए पहुंचे पालक शिक्षक संघ के पदाधिकारियों के साथ अध्यापक द्वारा अभद्रता की गई है। अध्यापक को उक्त विद्यालय से हटाए जाने की मांग की गई है। गौरतलब है कि अध्यापक के आचरण को लेकर क्षेत्रीय ग्रामीणों ने भी उक्त विद्यालय प्राचार्य को लिखित शिकायत कर उन पर कार्रवाई की मांग की है। जिसमें शिक्षण कार्य में लापरवाही बरतने, विद्यार्थियों को धमकाने, मनमानी करने के आरोप लगाए गए थे।

sunil vanderwar Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned